nayaindia Bihar politics Nitish Kumar नीतीश नहीं बचा सके अपने सहयोगी को
Politics

नीतीश नहीं बचा सके अपने सहयोगी को

ByNI Political,
Share
Bihar politics
Bihar politics

बिहार में भाजपा ने अपनी ताकत दिखाई है। उसने जब नीतीश कुमार की वापसी कराई थी तब उनको मुख्यमंत्री तो बना दिया था लेकिन उसी समय साफ कर दिया था कि उनकी वजह से भाजपा अपने किसी पुराने सहयोगी को बाहर नहीं करेगी। लोकसभा चुनाव के लिए सीटों के बंटवारे को लेकर जो शुरुआती सहमति बनी है उससे साफ हो गया है कि भाजपा ने अपने पुराने सहयोगियों को तो बचा लिया लेकिन जिनके प्रति नीतीश कुमार का सद्भाव था या जो नीतीश के करीबी माने जाते थे उनको नुकसान हो गया। Bihar politics Nitish Kumar

यह भी पढ़ें: भाजपा के दक्कन अभियान की चुनौतियां

2020 के विधानसभा चुनाव में चुन चुन कर नीतीश के उम्मीदवार के खिलाफ अपने प्रत्याशी उतारने और जदयू को हराने वाले चिराग पासवान इस खेल में बड़े विनर बन कर उभरे हैं। भाजपा ने उनकी शर्तें मान कर उनके हिसाब से टिकट दी है। लेकिन उनके चाचा पशुपति पारस, जिनको नीतीश का करीबी माना जाता था वे पूरी तरह से हाशिए में चले गए हैं। Bihar politics Nitish Kumar

यह भी पढ़ें: स्वर्गिक हेती, नरक में धंसता

गौरतलब है कि 2020 के विधानसभा चुनाव में हुए नुकसान का बदला लेने के लिए नीतीश कुमार ने पशुपति पारस को आगे करके लोक जनशक्ति पार्टी में विभाजन कराया था। तब पार्टी के छह में से पांच सांसद पारस के साथ चले गए थे और चिराग अकेले बच गए थे। उस समय नीतीश भाजपा के साथ थे और उनके कहने पर भाजपा ने लोकसभा में न सिर्फ पारस गुट को मान्यता दिलवाई, बल्कि उनको केंद्र सरकार में मंत्री बनाया।

यह भी पढ़ें: विवादित नेताओं की फिर कटी टिकट

इतना ही नहीं भाजपा की सरकार ने चिराग से उनके पिता की जनपथ स्थित कोठी भी खाली कराई। लेकिन अब जब मौका आया है, तब एक सीट वाले चिराग को पांच  सीटें मिल रही हैं और पांच सांसदों वाले केंद्रीय मंत्री पशुपति पारस को एक भी सीट नहीं मिल रही है। माना जा रहा था कि नीतीश कुमार उनका पक्ष लेंगे और उनका भी सम्मानजनक समझौता करा देंगे लेकिन ऐसा लग रहा है कि नीतीश ने भी पल्ला झाड़ लिया है। अब भाजपा की ही कृपा से उनको एक सीट मिल जाए तो ठीक नहीं तो उनको राजद और कांग्रेस के साथ बात करनी होगी।

यह भी पढ़ें: सावधान!आपकी आवाज की क्लोनिंग वाले फोन

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

Naya India स्क्रॉल करें