नीतीश की राजनीति से भाजपा की सीख

लालू प्रसाद, राबड़ी देवी और नीतीश कुमार के अभी तक के 32 साल के राज में बिहार का चाहे जो भी बना हो लेकिन राजनीतिक प्रयोग बहुत हुए हैं।

तेज प्रताप बोले- मेरी भविष्यवाणी हमेशा सही! मैंने पहले कहा था ‘चाचा जी’ हमारे साथ होंगे…

आरजेडी नेता तेज प्रताप यादव ने एक बड़ा बयान देकर फिर से राज्य की राजनीति का गर्मा दिया है। शनिवार को तेज प्रताप यादव ने एक भविष्यवाणी करते हुए कहा कि, 2024 में केन्द्र में महागठबंधन…

नीतीश अब कभी भी भाजपा के साथ नहीं जाएंगे!

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एक बार फिर कहा है कि वे अब कभी भी भाजपा के साथ नहीं जाएंगे।

शाह की उम्र, बिहार में मुद्दा क्यों?

यह कमाल की बात है कि बिहार में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की उम्र और उनके राजनीतिक अनुभव का मुद्दा बन रहा है।

अमित शाह पर भड़के नीतीश

अमित शाह के जेपी के शिष्यों के कांग्रेस को गोद में जाने के बयान पर नीतीश कुमार ने कहा, आपलोग जिनका नाम ले रहे हैं, उनको लोकनायक जयप्रकाश नारायण जी से कोई मतलब था क्या?

जेपी की जयंती पर अमित शाह का नीतिश-लालू पर निशाना

अमित शाह ने बिना नीतीश कुमार का नाम लिए बिना कहा कि पांच-पांच बार पाला बदलने वाले आज कुर्सी के लिए उसी कांग्रेस से दोस्ती कर लिया है जिसका जेपी ने जीवन भर विरोध किया।

लालू, राबड़ी के बचाव में उतरे नीतीश

जमीन के बदले रेलवे में नौकरी देने के मामले में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपनी सहयोगी पार्टी राजद के नेताओं का बचाव किया है।

छह जिद्दी नेता और 182 सीटे!

यों जुमला सात जिद्दी हिंदुस्तानियों का बनता है। उद्धव ठाकरे, नीतिश कुमार, केसीआर चंद्रशेखर राव, अरविंद केजरीवाल. हेमंत सोरेन, ममता बनर्जी और राहुल गांधी।

नीतीश के एक और मंत्री का इस्तीफा

उन्होंने कैमूर में सभा में कहा था कि कृषि विभाग में कई चोर हैं, वो चोरों के सरदार हैं। उनके ऊपर भी कई चोर हैं।

नीतीश की सक्रियता से दूसरे शिथिल पड़े!

विपक्षी पार्टियों की हरियाणा की रैली को विपक्षी एकजुटता दिखाने का सबसे बड़ा कार्यक्रम माना जा रहा था। इसमें तमाम विपक्षी पार्टियों के नेताओं के पहुंचने की सूचना थी।

भाजपा को हराने के लिए कांग्रेस से गठबंधन जरूरी

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि कांग्रेस को साथ लेकर एक मोर्चा होना चाहिए, तभी हम 2024 में भाजपा को हरा सकते हैं।

गैर कांग्रेसी रैली और लालू, नीतीश की राजनीति

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार रविवार को हरियाणा के फतेहाबाद में चौधरी देवीलाल की जयंती के मौके पर होने वाली रैली में हिस्सा लेंगे।

नीतीश, उद्धव पर ही हमला क्यों?

भाजपा और खास कर अमित शाह के निशाने पर सिर्फ नीतीश कुमार और उद्धव ठाकरे क्यों हैं, जबकि भाजपा से तालमेल तो कई पार्टियों का खत्म हुआ है?

बड़ी पार्टियां धोखेबाज नहीं होतीं!

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने नीतीश कुमार को धोखेबाज बताया। इसलिए क्योंकि उन्होंने भाजपा का साथ छोड़ दिया।

शाह ने नीतीश को धोखेबाज बताया

अपने पुराने सहयोगी पर गृह मंत्री अमित शाह ने जम कर निशाना साधा। उन्होंने नीतीश कुमार को धोखेबाज कहा।

और लोड करें