nayaindia BJP BJP बीजद और भाजपा के बीच अंडरस्टैंडिंग
Politics

बीजद और भाजपा के बीच अंडरस्टैंडिंग

ByNI Political,
Share

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को ओडिशा में थे। उन्होंने 63 हजार करोड़ रुपए की परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया। एक दौरे में संभवतः पहली बार इतनी बड़ी रकम की परियोजनाओं के उद्घाटन और शिलान्यास हुए हैं। प्रधानमंत्री चुनाव से पहले पूरे देश का दौरा करेंगे और इसी परियोजनाओं के उद्घाटन और शिलान्यास करेंगे। हर जगह जनसभा भी करेंगे और विपक्षी पार्टियों पर हमला भी करेंगे। लेकिन ओडिशा में उन्होंने मुख्यमंत्री नवीन पटनायक पर निशाना नहीं साधा। उलटे प्रधानमंत्री ने पिछले 20 साल से ज्यादा समय से राज्य की सत्ता संभाल रहे नवीन पटनायक को अपना मित्र बताया। दोनों की मित्रता या केंद्र सरकार के प्रति नवीन पटनायक के सद्भाव को सब जानते हैं फिर चुनाव से ठीक पहले विरोधी पार्टी के नेता को मित्र बताना और हमला नहीं करना हैरान करने वाला है।

जानकार सूत्रों का कहना है कि ऐसा इसलिए है क्योंकि बिना प्रत्यक्ष तालमेल किए दोनों पार्टियां रणनीतिक एडजस्टमेंट के साथ लड़ने की तैयारी कर रही हैं ताकि कांग्रेस को दूर रखा जा सके। ध्यान रहे राज्य में कांग्रेस अभी तीसरे नंबर की पार्टी है। लेकिन अगर भाजपा और बीजू जनता दल का तालमेल हो जाए तो कांग्रेस की ताकत बढ़ जाएगी क्योंकि विपक्ष का पूरा स्पेस उसको मिल जाएगा। तभी दोनों पार्टियों में रणनीतिक तालमेल की खबर है। कहा जा रहा है कि इस तालमेल के तहत भाजपा की जीती आठ सीटों पर बीजू जनता दल कमजोर उम्मीदार उतारेगी और उन्हें चुनाव जीतने देगी। नवीन पटनायक की ओर से राजनीति और प्रशासन दोनों संभाल रहे पूर्व आईएएस अधिकारी वीके पांडियन से भाजपा के कुछ नेताओं की बात हुई है। गौरतलब है कि केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव को नवीन पटनायक ने मदद करके राज्यसभा पहुंचाया था। इस बार वैष्णव के लिए दूसरे राज्य में सीट खोजी जा रही है।

Tags :

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

Naya India स्क्रॉल करें