प्रयागराज में दो लाख से अधिक महिलाओं के साथ बातचीत करेंगे पीएम मोदी, 21 दिसंबर को 1,000 करोड़ रुपये की राशि हस्तांतरित

ह स्वयं सहायता समूहों (एसएचजी) के बैंक खाते में 1000 करोड़ रुपये की राशि हस्तांतरित करेंगे, जिससे लगभग 16 लाख महिला सदस्यों को लाभ होगा।

दुख भरे दिन बीते रे भैया…सुस्वागतम, वायरल हुआ वरुण गांधी के कांग्रेस में शामिल होने का पोस्टर…

एक कांग्रेसी नेता ने वरुण गांधी के कांग्रेस में शामिल होने की पोस्टर सोशल मीडिया में पोस्ट कर दी. इस पोस्टर में कहा गया कि गया कि दुख…

नरेंद्र गिरि के उत्तराधिकार का फैसला टला

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष और निरंजनी अखाड़े के सचिव रहे महंत नरेंद्र गिरि को बुधवार को धार्मिक मंत्रोच्चार के बीच बाघंबरी मठ में बुधवार को भू समाधि दी गई।

महंत नरेंद्र गिरि की मौत: पोस्टमार्टम, अंतिम संस्कार आज, 18 सदस्यीय एसआईटी मामले की जांच करेगी

यूपी पुलिस के मुताबिक आज सुबह करीब 8 बजे पोस्टमॉर्टम किया जाएगा और महंत नरेंद्र गिरी का अंतिम संस्कार दोपहर 12 बजे बाघंबरी मठ के बगीचे में किया जाएगा। 

नरेन्द्र गिरि मौत मामले में कई संदिग्ध!

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष और निरंजनी अखाड़ा के सचिव महंत नरेंद्र गिरि की मौत मामले में यूपी पुलिस के एक एडिशनल एसपी, भाजपा नेता और सपा नेता भी संदेह के घेरे में हैं।

नरेंद्र गिरि की मौत, एसआईटी करेगी जांच

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के प्रमुख और निरंजनी अखाड़ा के सचिव महंत नरेंद्र गिरि की मौत की जांच के लिए विशेष जांच टीम, एसआईटी बनाई गई है।

Uttar Pradesh : राम मंदिर पर फैसला देने वाले सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज के घर पर बमबारी…

अयोध्या में स्थित राम मंदिर निर्माण का कार्य तेजी से चल रहा है. भारतीय जनता पार्टी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली सरकार के दौरान राम मंदिर पर बड़ा फैसला सुनाया गया था

Dead bodies In Ganga: जलस्तर बढ़ने के बाद गंगा नदी से बाहर आते शवों का हिंदू रीति-रिवाजों से किया जा रहा है अंतिम संस्कार

प्रयागराज | Dead bodies In Ganga: मानसून के आने के बाद से गंगा नदी का भी जलस्तर बढ़ गया है. यही कारण है कि कोरोना काल में दफनाए गए शव एक बार फिर से जल्द सर बढ़ने के कारण बाहर आने लगे हैं. इस परेशानी से निपटने के लिए नगर निगम को जिम्मेवारी दी गई. इस संबंध में जानकारी देते हुए निगम के जोनल अधिकारी नीरज कुमार सिंह ने कहा कि गंगा में शवों के बाहर आने का सिलसिला रोकने के लिए हम हर संभव प्रयास कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि गंगा में शवों को बढ़ाने को लेकर प्रशासन भी अलर्ट है. उन्होंने इस बात की पुष्टि की थी जल स्तर बढ़ने के कारण शव एक बार फिर से बाहर दिखाई देने लग गए हैं. हालांकि उन्होंने यह भी स्पष्ट तौर पर कहा कि सरकार और प्रशासन ने गंगा किनारे घाटों पर शवों को दफनाने के लिए साफ तौर पर मना किया है. उन्होंने कहा कि सरकार के निर्देश के बाद से वहां शवों को दफनाने का सिलसिला रुक गया है. उत्तर प्रदेश: प्रयागराज में गंगा नदी का जलस्तर बढ़ने के कारण तट पर दफनाए गए शव पानी से बाहर आ रहे हैं। नगर निगम के जोनल अधिकारी नीरज… Continue reading Dead bodies In Ganga: जलस्तर बढ़ने के बाद गंगा नदी से बाहर आते शवों का हिंदू रीति-रिवाजों से किया जा रहा है अंतिम संस्कार

संदेह की वजहें हैं

मुमकिन है कि यह सचमुच हादसा हो। लेकिन अगर इसमें कुछ संदेह उठे, तो आखिर उसकी जांच क्यों नहीं होनी चाहिए। और फिर उत्तर प्रदेश में जैसे हालात रहे हैं, उनमें यह मान कर निश्चिंत हो जाने की स्थिति बिल्कुल नहीं है कि पुलिस अधिकारी जो कह रहे हैं, वही सच है। एडिटर्स गिल्ड ने इस मामले में बयान जारी किया, तो इस घटना पर सारे देश का ध्यान गया। वरना, उत्तर प्रदेश सरकार के अधिकारियों ने इसे हादसा बता दिया था। दिवंगत हुए पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव का दुर्भाग्य यह है कि जिस एबीपी चैनल के लिए वे काम करते थे, उसने भी हादसे की कहानी मान और अपने दर्शकों को बता दी। मुमकिन है कि यह सचमुच हादसा हो। लेकिन अगर इसमें कुछ संदेह उठे, तो आखिर उसकी जांच क्यों नहीं होनी चाहिए। खासकर यह देखते हुए पत्रकार ने अपनी जान पर खतरे को लेकर पुलिस को पहले से सूचित कर रखा था। और फिर उत्तर प्रदेश में जैसे हालात रहे हैं, उनमें यह मान कर निश्चिंत हो जाने की स्थिति बिल्कुल नहीं है कि अधिकारी जो कह रहे हैं, वही सच है। मामला उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ का है। वहां से सुलभ श्रीवास्तव एक राष्ट्रीय टीवी चैनल के… Continue reading संदेह की वजहें हैं

OMG ! केंद्रीय मंत्री की जबान फिसली – मुझे खुशी है कि देश में अनेक लोगों ऑक्सीजन की कमी से जान गंवानी पड़ी…

प्रयागराज | कोरोना काल में कई बार देखा गया है कि नेताओं की जुबान फिसल गई और वह कहना कुछ चाहते थे और कुछ और ही कह गए. ऐसा ही एक वाक्य केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के साथ भी हो गया. उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में एक प्लांट के वर्चुअल उद्घाटन के दौरान गडकरी ने कहा कि मुझे खुशी है कि देश में अनेक लोगों को ऑक्सीजन की कमी से जान गवानी पड़ी. हालांकि किसी ने भी मंत्री जी के इस बयान पर गौर नहीं फरमाया और इन्हें खुद भी है समझ नहीं आया कि इन्होंने क्या कह दिया. लेकिन जब तक इस बात का एहसास हुआ तब तक बहुत देर हो चुकी थी और उनका यह वीडियो सोशल मीडिया में तेजी से वायरल होने लगा था. इसके बाद उन्होंने अपने इस कथन के लिए माफी भी मांगी और कहा कि यह स्लीप ऑफ टंग है. ‘मुझे खुशी है कई लोगों को ऑक्सिजन की कमी से जान गंवानी पड़ी…’ जब नितिन गडकरी की फिसल गई जुबान। वह प्रयागराज में एक ऑक्सीजन प्लांट के वर्चुअल उद्घाटन कार्यक्रम में बोल रहे थे pic.twitter.com/JIB9QzAp6m — NBT Uttar Pradesh (@UPNBT) June 10, 2021 सच आ गया जुबान पर आप केंद्रीय मंत्री द्वारा के इस बयान… Continue reading OMG ! केंद्रीय मंत्री की जबान फिसली – मुझे खुशी है कि देश में अनेक लोगों ऑक्सीजन की कमी से जान गंवानी पड़ी…

गंगा में तैरते शवों से हो गये थे विचलित, तो शवों के साथ होने वाले दुष्कर्म को क्या कहेंगे, पढें रिपोर्ट

नई दिल्ली | कोरोना ने हमें बहुत कुछ सीखा दिया है. लेकिन सबसे ज्यादा विचलित करने वाली तस्वीरें प्रयागराज की गंगा घाटों से आई हैं. उन तस्वीरों के देखतक लगता है जैसे मृत लोगों के साथ कोई दुर्वयव्हार किया गया हो. ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं कि क्योंकि सोशल मीडिया में इस तरह की तस्वीरें वायरल हैं जिनमें कुत्ते शवों को नोच कर खा रहे हैं. प्रयागराज पुलिस ने भी इस बात से इनकार नहीं किया है कि शवों को कुत्तों के दवारा निकाला जा रहा है. ऐसे में सवाल उठता है कि क्या हमारे देश में मृतकों के लिए भी कुछ अधिकार दिये गये हैं. तो इसका जवाब हां है. आइए जानते हैं ….. भारत का संविधान देता है सम्मानजनक अंतिम संस्कार का हक देश का कानून देश के हर व्यक्ति को उसके धर्म के अनुसार सम्मानजनक अंतिम संस्कार का हक देेता है.जनरल क्लॉजेस एक्ट (General Clauses Act) के सेक्शन 3(42) में कहा गया है कि मौत के साथ ही व्यक्ति की कानूनी जिम्मेदारियां और अधिकार खत्म हो जाते हैं, लेकिन मौत और अंतिम संस्कार तक ये जस के तस बने रहते हैं. इंडियन पीनल कोड में भी ऐसे ही प्रावधान हैं. भारत का कानून इस बात का… Continue reading गंगा में तैरते शवों से हो गये थे विचलित, तो शवों के साथ होने वाले दुष्कर्म को क्या कहेंगे, पढें रिपोर्ट

Rajasthan: डाक विभाग की पहल से अब घर बैठे अपनों का अस्थि विसर्जन, ऑनलाइन देख भी सकेंगे

जोधपुर | कोरोना की दूसरी लहर ने राजस्थान में जमकर उत्पात मचाया है. अकेले जोधपुर शहर में संक्रमण से 1,000 से अधिक मौतें हुई हैं. देखा गया है कि कोरोना संक्रमित व्यक्ति के अंतिम संस्कार से लेकर अस्थियों के विसर्जन तक में परिजनों को संक्रमण का डर सता रहा है. परिजनों की परेशानियों को देखते हुए अब जोधपुर के डाक विभाग में एक नई योजना की शुरुआत की है. इस योजना के अनुसार आप डाक विभाग मृतकों के परिजनों को उनके अस्थि विसर्जन को ऑनलाइन दिखाएगा. पुराना संक्रमित व्यक्तियों के अस्थि विसर्जन का पूरा जीवन अब डाक विभाग ने ले दिया है. दिव्य दर्शन संस्था से किया कॉन्ट्रैक्ट इस संबंध में जो जानकारी मिली है उसके अनुसार जोधपुर शहर में कोरोना से संक्रमित व्यक्तियों का अस्थि विसर्जन अब तक नहीं हो सका है. इसके मद्देनजर डाक विभाग ने दिव्य दर्शन संस्था से टाइअप किया है. दोनों मिलकर अब अस्थियों के विसर्जन से जुड़े ही कर्मकांड की सारी जिम्मेदारी निभायेंगे. डाक विभाग द्वारा शुरू की गई इस योजना का लाभ लेने के लिए मृतकों के परिजनो को डाक विभाग की स्पीड पोस्ट पर जाकर रजिस्ट्रेशन करवाना होगा. इसके बाद डाक विभाग अस्थियों का पंडितों की उपस्थिति में विसर्जन कराएगा. यहां बता… Continue reading Rajasthan: डाक विभाग की पहल से अब घर बैठे अपनों का अस्थि विसर्जन, ऑनलाइन देख भी सकेंगे

ये तो हद है !  उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में गंगा किनारे रेत में दफन किये 100 से ज्यादा शव

Prayagraj: कुछ दिन पहले ही गंगा नदी में तैरते शवों से देशभर में हड़कंप मच गया था. उस मुद्दे पर बिहार और उत्तर प्रदेश के स्थानीय प्रशासन आपस में एक दूसरे को आरोप लगाते हुए नजर आए थे. अब एक बार फिर से उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में भी गंगा नदी के तटों पर रेत में शवों को दफनाए जाने का मामला सामने आया है. इस संबंध में मिल रही जानकारी के अनुसार प्रयागराज स्थित गंगा के किनारे पिछले डेढ़ महीने में सैकड़ों शवों को नदी के किनारे रेत में दफन कर दिया गया है. इतना ही नहीं ऋतु में शव को दफन करने का सिलसिला अभी भी जारी है. शवों को दफन करने के बाद बांस से घेराबंदी प्रयागराज में गंगा किनारे शवों के दफनाए जाने का मामला सामने आने के बाद एक बार फिर देश में हड़कंप मच गया है. इस मामले में स्थानीय सूत्रों से आ रही जानकारी के अनुसार शव को दफन करने के बाद उसके चारों और बांस की घेराबंदी कर दी गई है. सूत्रों का कहना है कि यह घेराबंदी इसीलिए की गई है ताकि लोगों को पता चले कि यहां सब को दफन किया गया है. बता दे कि हिंदू धर्म में शवों… Continue reading ये तो हद है ! उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में गंगा किनारे रेत में दफन किये 100 से ज्यादा शव

UP : योगी सरकार की बड़ी पहल, प्रयागराज में BPCL फैक्ट्री में बनेंगे ऑक्सीजन के लिए सिलेंडर

लखनऊ | कोरोना महामारी का प्रकोप चारों ओर फैला हुआ है राज्यों में कोरोना को लेकर हलचल मची हुई है आक्सीजन (Oxygen) की कमी के चलते यूपी (UP) में ऑक्सीजन (Oxygen) के लिए खाली सिलेंडर की कमी को पूरा करने के लिए योगी सरकार (Yogi government) ने बड़ी पहल की है। प्रयागराज में बंद पड़ी ऑक्सीजन सिलेंडर (Oxygen Cylinder) बनाने वाली सार्वजनिक क्षेत्र की ईकाई भारत पंप्स एंड कंप्रेसर्स लिमिटेड (Bharat Pumps and Compressors Limited) को प्रदेश सरकार ने तीन हजार सिलेंडर बनाने का ऑर्डर दिया है। अपर मुख्य सचिव, एमएसएमई, नवनीत सहगल ने बताया कि ऑक्सीजन सिलेंडर (Oxygen Cylinder) बनाने वाली ईकाई से अस्पतालों में सिलेंडर (Cylinder) की कमी को पूरा किया जा सकेगा। इसे भी पढ़ें – IPL 2021:   कोरोना से बिगड़ते हालातों के देखते हुए आगे आया ये खिलाड़ी , पीएम फंड में दिये 36 लाख रूपये साथ ही ईकाई खुलने से युवाओं के लिए रोजगार के अवसर भी पैदा होंगे। प्रयागराज स्थित सार्वजनिक क्षेत्र की ईकाई भारत पंप्स एंड कंप्रेसर्स लिमिटेड काफी समय से बंद पड़ी थी। सरकार की पहल के बाद इस सप्ताह से यह ईकाई में यह काम शुरू होगा। नवनीत सहगल ने बताया कि इस इकाई द्वारा अगले महीने के तीन हजार से अधिक… Continue reading UP : योगी सरकार की बड़ी पहल, प्रयागराज में BPCL फैक्ट्री में बनेंगे ऑक्सीजन के लिए सिलेंडर

Hospitals नहीं आ रहे हैं आदतों से बाज,  मरीज की मौत के 4 दिन बाद तक ठगते रहे पैसे

Prayagraj: उत्तर प्रदेश से एक बार फिर बड़ी लापरवाही की खबर सामने आई है. जानकारी के अनुसार अस्पताल प्रबंधन कोरोना संक्रमित बुजुर्ग की मौत के बाद भी इलाज के नाम पर परिजनों से ठगी करता रहा.  यह मामला स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल का बताया जा रहा है. परिजनों का आरोप है कि अस्पताल प्रबंधन ने मरीज के मौत की खबर 4 दिन तक छिपाए रखी.  इसके साथ ही अस्पताल वाले मरीज के परिजनों से जूस, खाने के पैसे और दवाओं के नाम पर ठगी करते रहे. परिजनों ने बताया कि अस्पताल ये कह कर अपने मरीज से मिलने के लिए रोकता रहा कि अभी मरीज में कोरोना  काफी बढ़ा हुआ है. ऐसे में यदि आप मरुज से मिलने जाते हैं तो आपको भी कोरोना का संक्रमण हो सकता है. ऐसे हुआ खुलासा परिजनों को इस बात का अंदाजा भी नहीं था कि उनके मरीज की मृत्यु हो गई है.  4 दिन बाद परिजनों को यह पता चला कि उनका मरीज जिस बेड पर भर्ती था उस बेड पर दूसरा मरीज को भर्ती कर लिया गया है.  इसके बाद अस्पताल प्रबंधन की इस लापरवाही का खुलासा हो गया.  सच्चाई के सामने आने के बाद परिजनों ने अस्पताल में काफी हंगामा किया .… Continue reading Hospitals नहीं आ रहे हैं आदतों से बाज,  मरीज की मौत के 4 दिन बाद तक ठगते रहे पैसे

और लोड करें