मोदी ने उद्धव और स्टालिन से बात की

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस की महामारी से प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बात करने के सिलसिले में शनिवार को तमिलनाडु और महाराष्ट्र के साथ साथ कुछ और मुख्यमंत्रियों से बात की। दो दिन पहले गुरुवार को उन्होंने आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और झारखंड के मुख्यमंत्रियों से बात की थी। प्रधानमंत्री ने शनिवार को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और तमिलनाडु के नए मुख्यमंत्री एमके स्टालिन से कोरोना की मौजूदा स्थिति और ऑक्सीजन की उपलब्धता सहित कई मुद्दों पर चर्चा की। मुंबई में मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि प्रधानमंत्री ने राज्य सरकार के कामकाज की तारीफ की। सीएमओ के मुताबिक- प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से कहा कि महाराष्ट्र दूसरी लहर के खिलाफ अच्छी लड़ाई लड़ रहा है। महाराष्ट्र को केंद्र सरकार शुरू से ही मार्गदर्शन दे रही है, राज्य सरकार भी केंद्र के मार्गदर्शन के अनुरूप अच्छा काम कर रही है। मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री को इसलिए धन्यवाद दिया कि उन्होंने महाराष्ट्र के कुछ सुझावों को स्वीकार किया। इससे पहले मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने केंद्र को एक चिट्ठी लिखी थी और कोरोना टीकाकरण के लिए अलग से मोबाइल ऐप बनाने की इजाजत मांगी थी। बहरहाल, प्रधानमंत्री ने शनिवार को महाराष्ट्र के… Continue reading मोदी ने उद्धव और स्टालिन से बात की

सुप्रीम कोर्ट के सम्मान की धज्जियां!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को केरल में चुनाव प्रचार करते हुए केरल के मुख्यमंत्री पी विजयन पर तीखा हमला किया और आरोप लगाया कि राज्य की वामपंथी सरकार धार्मिक स्थलों को अस्त-व्यस्त किया। उन्होंने सबरीमाला मंदिर के भक्तों को रोकने और उनके साथ सख्ती करने के लिए भी राज्य सरकार की आलोचना की। सोचें, एक राज्य के मुख्यमंत्री ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लागू करने के लिए सारे उपाय किए तो उसकी तारीफ करने की बजाय देश का प्रधानमंत्री इसके लिए उसकी आलोचना कर रहा है! सुप्रीम कोर्ट के पांच जजों की बेंच ने चार-एक के बहुमत से फैसला सुनाया था कि हर उम्र की महिला को मंदिर में प्रवेश की अनुमति होगी। सबरीमाला के भक्तों और मंदिर प्रबंधन ने इसका विरोध किया और युवा महिलाओं के प्रवेश करने से रोका। राज्य सरकार ने पूरी सख्ती करके सुप्रीम कोर्ट के आदेश का अनुपालन सुनिश्चित कराया। क्या इसके लिए मुख्यमंत्री की आलोचना हो सकती है? सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या में मंदिर निर्माण का फैसला सुनाया तो खुद प्रधानमंत्री ने जाकर शिलान्यास किया और सबरीमाला के मामले में राज्य सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन किया तो प्रधानमंत्री उसकी आलोचना कर रहे थे। अब भले सबरीमाला का मामला… Continue reading सुप्रीम कोर्ट के सम्मान की धज्जियां!

मोदी ने उठाया जल्लीकट्टू और सबरीमाला का मुद्दा

चेन्नई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बंगाल और असम के बाद शुक्रवार को दक्षिण के राज्यों में प्रचार की कमान संभाली। उन्होंने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की ओर से लगाए जा रहे आरोपों का जवाब दिया और कहा कि भाजपा ही तमिलनाडु और केरल की संस्कृति और परंपरा की रक्षा कर सकती है। उन्होंने इस क्रम में कांग्रेस और वामपंथी पार्टियों के ऊपर जोरदार हमला किया। प्रधानमंत्री मोदी शुक्रवार को सबसे पहले तमिलनाडु के मदुरै पहुंचे। वहां उप मुख्यमंत्री ओ पनीरसेल्वम ने उनकी अगवानी की। अपने दौरे में उन्होंने जल्लीकट्‌टू और सबरीमाला का मुद्दा उठाया। तमिलनाडु में उन्होंने कहा- 2016 के चुनाव में डीएमके और कांग्रेस ने अपने घोषणापत्र में जल्लीकट्‌टू को बैन करने की बात कही थी। उन्हें शर्म आनी चाहिए। यहां के लोग जल्लीकट्‌टू को जारी रखना चाहते हैं। गौरतलब है कि जल्लीकट्टू तमिलनाडु का करीब चार सौ साल पुराना पारंपरिक खेल है। इसे फसलों की कटाई के वक्त पोंगल पर आयोजित किया जाता है। तमिलनाडु के साथ गुजरात का कनेक्शन बताते हुए मोदी ने कहा- तमिलनाडु के लोग बड़े दिल और तेज दिमाग वाले हैं। कई साल पहले मेरे गृह राज्य गुजरात के सौराष्ट्र से कई लोग यहां आए थे। मदुरै के लोगों ने उन्हें अपना… Continue reading मोदी ने उठाया जल्लीकट्टू और सबरीमाला का मुद्दा

डीएमके की रणनीति हैं अकेले बहुमत!

तमिलनाडु में मुख्यम विपक्षी पार्टी डीएमके की रणनीति अकेले दम पर बहुमत हासिल करने की है। इसलिए उसने कांग्रेस सहित तमाम दूसरी पार्टियों को कम से कम सीटें देकर गठबंधन में शामिल किया है। पार्टी के नेताओं का कहना है कि अगर पिछले चुनाव में ही डीएमके ने कांग्रेस को 41 सीटें नहीं दी होतीं तो उसी समय उसकी सरकार बन जाती। जैसे बिहार में कहा जा रहा है कि अगर राजद ने कांग्रेस को 70 सीटें नहीं दी होती तो आज राज्य की तस्वीर अलग होती। राजद की सरकार बन सकती थी। ऐसा लग रहा है कि बिहार के ताजा अनुभव से सबक लेकर डीएमके ने कांग्रेस को किनारे किया है और बाकी सहयोगियों से भी सख्त मोलभाव करके कम कम सीटें दी हैं। ध्यान रहे पिछले चुनाव में डीएमके ने कांग्रेस के लिए 41 सीटें छोड़ी थीं, जिनमें से कांग्रेस सिर्फ सात सीट जीत पाई थी। इस बार डीएमके ने कांग्रेस को 25 सीटें दी हैं। इसके अलावा सीपीआई, सीपीएम और वीसीके को छह-छह सीटें दी हैं। इसके अलावा इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग को तीन और एमएमके को दो सीटें दी हैं। यानी छह बड़ी सहयोगियों को कुल मिला कर 48 सीटें दी हैं। वाइको की पार्टी एमडीएमके… Continue reading डीएमके की रणनीति हैं अकेले बहुमत!

स्टालिन के आगे कांग्रेस का समर्पण

कांग्रेस को डीएमके ने पहले 24 सीटें ऑफर की थीं। बाद में सोनिया ने स्टालिन से बात की तो एक सीट और बढ़ाई गई। ध्यान रहे राज्य में कांग्रेस के आठ सांसद हैं। इस लिहाज से पार्टी के नेता कम से कम 48 सीटों के दावेदार थे। पर स्टालिन उससे आधी सीटें दी हैं।

चुनाव शिड्यूल से पहले घोषणाओं की झड़ी

केंद्रीय चुनाव आयोग ने शुक्रवार को पांच राज्यों में विधानसभा चुनावों का ऐलान किया। उससे ठीक पहले तीन राज्यों ने लोक लुभावन घोषणाओं की झड़ी लगा दी।

भाजपा का तमिल प्लान क्या होगा?

भारतीय जनता पार्टी ने तमिलनाडु विधानसभा चुनाव के लिए जो शुरुआती प्लान बनाया था वह फेल हो गया है।

चक्रवात निवार आज तमिलनाडु किनारे

बंगाल की खाड़ी के ऊपर बना गहरे दबाव का क्षेत्र चक्रवात ‘निवार’ में परिवर्तित हो गया है

तमिलनाडु में सितारों की जुगलबंदी

तमिल फिल्मों के सुपर सितारे कमल हसन चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे हैं। उन्होंने ऐलान कर दिया है कि उनकी पार्टी मक्कल निधि मैयम अगले साल अप्रैल-मई में होने वाला चुनाव लड़ेगी।

हिंदी में बोलने पर सजा ?

आयुष मंत्रालय के सचिव राजेश कोटेचा ने बर्र के छत्ते में हाथ डाल दिया है। द्रमुक की नेता कनिमोझी ने मांग की है कि सरकार उन्हें तुरंत मुअत्तिल करे, क्योंकि उन्होंने कहा था कि जो उनका भाषण हिंदी में नहीं सुनना चाहे, वह बाहर चला जाए। वे देश के आयुर्वेदिक वैद्यों और प्राकृतिक चिकित्सकों को संबोधित कर रहे थे। इस सरकारी कार्यक्रम में विभिन्न राज्यों के 300 लोग भाग ले रहे थे। उनमें 40 तमिलनाडु से थे।

बंगाल में लाख से ज्यादा संक्रमित

कोरोना वायरस के संक्रमितों की संख्या में एक दिन कमी आने के बाद एक बार फिर मंगलवार को बड़ा इजाफा हुआ। मंगलवार को पश्चिम बंगाल में भी संक्रमितों की संख्या एक लाख से ज्यादा हो गई।

एक दिन में एक हजार मौतें!

भारत में कोरोना वायरस के संक्रमितों की संख्या हर दिन नए रिकार्ड बना रही है और साथ ही संक्रमण से मरने वालों की संख्या भी रिकार्ड बना रही है। रविवार को देर शाम तक देश में 1003 लोगों के मरने की खबर आई। यह एक दिन में कोरोना से हुई मौत का रिकार्ड है।

दो करोड़ पहुंची संक्रमितों की संख्या!

दुनिया भर में कोरोना संक्रमितों की संख्या दो करोड़ के करीब पहुंच गई है। भारतीय समय के मुताबिक रविवार को रात नौ बजे तक पिछले 24 घंटे में पूरी दुनिया में करीब पौने तीन लाख नए केसेज आए, जिसके जिसके बाद संक्रमितों की संख्या बढ़ कर एक करोड़ 99 लाख पहुंच गई।

दुनिया नकद पैसे दे रही है

एक तरफ जहां भारत में सरकार राहत पैकेज के नाम पर लोगों को कर्ज लेने की नई नई स्कीम समझा रही है वहीं दुनिया के अनेक देश अपने नागरिकों के हाथ में सीधे नकदी दे रहे हैं

ब्राजील में एक लाख मौतें!

कोरोना वायरस के संक्रमण से दुनिया में दूसरे सबसे अधिक प्रभावित देश ब्राजील में संक्रमण से मरने वालों की संख्या एक लाख के करीब पहुंच गई है।

और लोड करें