nayaindia Democracy Index Report समस्या बहुत गंभीर है
Editorial

समस्या बहुत गंभीर है

ByNI Editorial,
Share
Social political issue
Social political issue

लिबरल डेमोक्रेसी के पैरोकारों के लिए यह गंभीर आत्म-मंथन का विषय होना चाहिए। उन्हें विचार इस सवाल पर करना चाहिए कि लिबरल डेमोक्रेसी जन आकांक्षाओं को पूरा करने में क्यों विफल रही, जिससे लोगों की निगाह में इसका आकर्षण घट गया है?

जब कोई घटना इक्का-दुक्का ना रह कर व्यापक रूप से होती दिखे, तो फिर उसकी वजह को सतही तौर पर नहीं समझा जा सकता। ऐसी परिघटना को प्रेरित करने वाले कारणों की जड़ें कहीं गहरी होती हैं। आज की एक परिघटना यह है कि उदार लोकतंत्र दुनिया भर में कमजोर हो रहा है। इस घटनाक्रम पर नजर रखने वाली संस्थाओं के सूचकांक इस बात की गवाही देते हैं। वेरायटी ऑफ डेमोक्रेसीज (वी-डेम) की हालिया रिपोर्ट से यह जाहिर हुआ।

हाल के वर्षों में अमेरिकी संस्था फ्रीडम हाउस भी अपनी रिपोर्ट में यही निष्कर्ष बताती रही है। अब एक जर्मन संस्था ने कहा है कि दुनिया में लोकतांत्रिक सरकारों की संख्या घट रही है। बर्टल्समान फाउंडेशन की रिपोर्ट में लोकतंत्र की स्थिति का अंतरराष्ट्रीय विश्लेषण पेश किया गया है। रिपोर्ट के मुताबिक फिलहाल 63 देशों में लोकतांत्रिक सरकारें हैं, लेकिन 74 ऐसे देश ऐसे हैं, जहां तानाशाही प्रवृत्ति की सरकारें हैं। लोकतांत्रिक देशों में तीन अरब लोग रहते हैं, जबकि तानाशाही सरकारों का लगभग चार अरब लोगों पर राज है।

बर्टल्समान की इस साल रिपोर्ट का शीर्षक हैः दुनिया में लगातार घट रही है लोकतंत्र की जमीन। इसमें बताया गया है कि विभिन्न देशों में किस तरह का बदलाव आ रहा है। खास तौर पर राजनीतिक प्रतिस्पर्धा, चुनावों की निष्पक्षता, आंदोलन और विरोध करने की आजादी, अभिव्यक्ति और मीडिया की स्वतंत्रता आदि मामलों में विभिन्न देशों में लोगों के अधिकार सिकुड़ रहे हैं। राजसत्ता की शक्तियों के विभाजन के सिद्धांत को अब अधिक नजरअंदाज किया जा रहा है।

साथ ही सिविल सोसायटी के लिए जगह सिकुड़ रही है। पिछले दो सालों में ही 25 देशों के चुनाव पहले से कम निष्पक्ष हुए। 32 देशों में आंदोलन करने के अधिकारों में कटौती हुई, जबकि 39 देशों में अभिव्यक्ति की आजादी कम हुई। तो प्रश्न वही है कि ऐसा क्यों हो रहा है? लिबरल डेमोक्रेसी के पैरोकारों के लिए यह गंभीर आत्म-मंथन का विषय होना चाहिए। उन्हें विचार इस सवाल पर करना चाहिए कि लिबरल डेमोक्रेसी आम जन की आकांक्षाओं को पूरा करने में क्यों विफल रही, जिससे लोगों की निगाह में इसका आकर्षण घट गया है?

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

  • समस्या से आंख मूंदना

    बेरोजगारी के मुद्दे को चुनाव में नजरअंदाज करना बहुत बड़ा जोखिम उठाना है। यह बात अवश्य ध्यान में रखनी चाहिए...

  • फटी शर्ट, ऊंची नाक

    देश की जिन ज्वलंत समस्याओं को लगभग भाजपा के घोषणापत्र में नजरअंदाज कर दिया गया है, उनमें बेरोजगारी, महंगाई, उपभोग...

  • भारत का डेटा संदिग्ध?

    एक ब्रिटिश मेडिकल जर्नल, जिसके विचार-विमर्श का दायरा राजनीतिक नहीं है, वह भारत के आम चुनाव के मौके पर संपादकीय...

  • युद्ध की फैली आग

    स्पष्टतः पश्चिम एशिया बिगड़ती हालत संयुक्त राष्ट्र के तहत बनी विश्व व्यवस्था के निष्प्रभावी होने का सबूत है। जब बातचीत...

Naya India स्क्रॉल करें