nayaindia Bollywood Priyanka Chopra बॉलीवुड और प्रियंका चोपड़ा के ऐसे कैसे रिश्ते?
सर्वजन पेंशन योजना
बॉलीवुड

बॉलीवुड और प्रियंका चोपड़ा के ऐसे कैसे रिश्ते?

Share

कंगना रनौत ने सीधे नाम लेकर आरोप लगाया कि ‘मूवी माफ़िया’ करन जौहर ने प्रियंका को बॉलीवुड में ‘बैन’ कर दिया था। सिर्फ़ इसलिए कि प्रियंका की शाहरुख खान से दोस्ती थी। कंगना का यह भी आरोप है कि करन जौहर ‘बाहरी’ लोगों को बहुत तंग करते हैं। बाहरी लोग मतलब वे जो बॉलीवुड के बड़े फिल्मकारों, कलाकारों और उनके परिवारों से ताल्लुक नहीं रखते और उनके दोस्त या रिश्तेदार भी नहीं हैं। प्रियंका के छेड़े विवाद पर न करन जौहर कुछ बोल रहे हैं और न शाहरुख खान ने कुछ कहा है। इसके दो ही मानी हो सकते हैं। या तो ये दोनों अपने बड़प्पन की कीमत चुका रहे हैं।

परदे से उलझती ज़िंदगी

हॉलीवुड में हमारे कई कलाकारों ने काम किया है और वहां भी धड़ल्ले से अपनी काबिलियत प्रमाणित की है। मगर उनमें कभी किसी ने यह नहीं कहा था कि हिंदी फिल्मों में उसे किनारे धकेला जा रहा था और उसके विरुद्ध राजनीति हो रही थी, जिससे परेशान होकर उसे बॉलीवुड छोड़ना पड़ा। ऐसा दावा पहली बार प्रियंका चोपड़ा ने किया है। मिस वर्ल्ड का ख़िताब जीत कर फिल्मों में आईं प्रियंका यहां कई भाषाओं की फिल्मों में काम कर चुकी हैं। ‘फ़ैशन’ फिल्म में उन्हें नेशनल अवॉर्ड तक मिला। पद्मश्री भी मिला। अपने समय के सभी बड़े अभिनेताओं के साथ उन्होंने काम किया। बॉलीवुड छोड़ते समय वे देश की सबसे चर्चित अभिनेत्रियों में गिनी जाती थीं। आज उनके चाहने वाले उन्हें इंटरनेशनल आइकॉन मानते हैं। फिर प्रियंका चोपड़ा ऐसा क्यों चाहती हैं कि इस सब की बजाय बॉलीवुड में उन्हें बेचारगी से जूझती रही एक अभिनेत्री के तौर पर याद किया जाए?

प्राइम वीडियो के लिए रूसो ब्रदर्स की बनाई वेब सीरीज़ ‘सिटाडेल’ की रिलीज़ से पहले इसके निर्माता मुंबई में एक समारोह करने वाले हैं जिसके लिए प्रियंका यहां आई हैं। लेकिन चार दिन पहले उन्होंने एक इंटरव्यू में जो कुछ कहा उसकी धमक उनसे पहले पहुंच चुकी थी। उन्होंने कहा कि वे ऐसी स्थिति में थीं कि केवल गायकी का मौका मिलने पर ही वे सब कुछ छोड़ कर अमेरिका चली गईं। बाद में उन्हें एबीसी की सीरीज़ ‘क्वांटिको’ में काम मिला। अब स्पाई थ्रिलर ‘सिटाडेल’ में मिला है। इसके बाद वे हॉलीवुड की ‘लव अगेन’ में दिखेंगी और फिर बॉलीवुड की फरहान अख़्तर की ‘जी ले ज़रा’ में आलिया और कटरीना कैफ के साथ नज़र आएंगी। वे बिजनेस में भी खासी सफल हैं। सेलिब्रिटी ब्यूटी ब्रांड्स की कमाई को लेकर आई एक रिपोर्ट में प्रियंका चोपड़ा के हेयर केयर ब्रांड को 42.99 करोड़ पाउंड आमदनी के साथ दूसरे नंबर पर बताया गया है। इस सूची में सबसे ऊपर रिहाना का कॉस्मेटिक ब्रांड है, मगर काइली जेनर, एरियाना ग्रांडे और सेलेना गोमेज के ब्यूटी प्रोडक्ट प्रियंका से पीछे हैं।

और वे कह रही हैं कि उन्हें मनपसंद काम नहीं मिल रहा था, इसलिए उन्हें बॉलीवुड से जाना पड़ा। उन्हें तो शुक्र मनाना चाहिए कि वे यहां के मुकाबले प्रसिद्धि और आमदनी के ज्यादा बड़े मंच पर पहुंच गईं। वैसे भी, यह मनपसंद काम होता क्या है? फिल्मों में कितने लोगों को अपनी पसंद का काम मिल पाता है? ज़्यादातर कलाकार बरसों तक वैसी भूमिका की प्रतीक्षा ही करते रह जाते हैं जैसी वे चाहते हैं। प्रियंका की समकक्ष अभिनेत्रियां भी जो मिल रहा है उसी से काम चलाती रही हैं या उसी में बेहतर करने की कोशिश कर रही हैं। हम सबको निजी ज़िदगियों में भी यही करना पड़ता है। और प्रियंका ने तो फिल्मों का निर्माण भी किया है। अपनी फिल्मों में वे जैसी चाहतीं वैसी भूमिकाएं चुन सकती थीं। फिर भूमिकाओं की शिकायत क्यों?

यह जरूर संभव है कि कुछ भूमिकाएं जो उन्हें मिलने वाली थीं वे किन्हीं कारणों से किसी और को दे दी गई हों। शायद उसी को वे अपना तिरस्कार मान रही हैं। लेकिन यह भी ऐसी शिकायत है जिसका शिकार कभी न कभी हर कलाकार बनता है। पिछले दिनों अरबाज़ खान के चैट शो में शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा था कि ‘दीवार’ में अमिताभ बच्चन वाला रोल पहले उन्हें मिलने वाला था। छह महीने तक स्क्रिप्ट उनके पास रही, लेकिन जब निर्माता गुलशन राय ने यश चोपड़ा को निर्देशन की जिम्मेदारी सौंपी तो वह भूमिका उनके हाथ से निकल गई। शत्रुघ्न जिसकी बात कर रहे थे वह कोई सामान्य भूमिका नहीं थी, बल्कि वह किसी भी कलाकार की कायापलट करने की ताकत रखती थी। हमारी फिल्मों में ऐसी सैकड़ों भूमिकाएं हैं जो किसी से या कई लोगों से गुजर कर अंतत: किसी और के पास पहुंचीं। बॉलीवुड में ऐसा हमेशा होता रहा है। आज भी होता है और शायद सभी के साथ होता है।

प्रियंका का इंटरव्यू सामने आने के बाद कई लोग उनकी हिमायत में उठ खड़े हुए हैं। इनमें निर्माता अपूर्वा असरानी, निर्माता-निर्देशक ओनिर, गायक व संगीतकार अमाल मलिक और निर्माता-निर्देशक विवेक अग्निहोत्री भी हैं। मगर कंगना रनौत ने सीधे नाम लेकर आरोप लगाया कि ‘मूवी माफ़िया’ करन जौहर ने प्रियंका को बॉलीवुड में ‘बैन’ कर दिया था। सिर्फ़ इसलिए कि प्रियंका की शाहरुख खान से दोस्ती थी। कंगना का यह भी आरोप है कि करन जौहर ‘बाहरी’ लोगों को बहुत तंग करते हैं। बाहरी लोग मतलब वे जो बॉलीवुड के बड़े फिल्मकारों, कलाकारों और उनके परिवारों से ताल्लुक नहीं रखते और उनके दोस्त या रिश्तेदार भी नहीं हैं।

यह बात सही है कि करन जौहर एक बड़े और प्रभावशाली फिल्मकार हैं। इस समय भी कई ऐसी फिल्में बन रही होंगी जिनमें उनका या उनकी कंपनी का दखल होगा। उन पर इस तरह के आरोप पहले भी लगे हैं। मगर क्या वे वास्तव में बाहरी लोगों को बॉलीवुड में आने से रोक सकते हैं? मुंबई में करन जौहर के धर्मा प्रोडक्शन की टक्कर के और भी प्रोडक्शन हाउस हैं। क्या टी सीरीज़ और यशराज फिल्म्स भी करन जौहर की सलाह से कलाकारों का चयन करते हैं? फिर यह कैसे संभव हुआ कि चार साल पहले प्रियंका चोपड़ा की पर्पल पेबल पिक्चर्स ने ‘द स्काई इज़ पिंक’ बनाई तो रॉनी स्क्रूवाला और सिद्धार्थ राय कपूर उनके सह-निर्माता बने? ये दोनों कोई ऐरे-गैरे निर्माता नहीं हैं। क्या ये करन जौहर के साम्राज्य के बागी निर्माता हैं? और क्या ‘जी ले ज़रा’ में प्रियंका को लेकर फरहान अख़्तर ने भी उनसे नाफ़रमानी की है? लेकिन, इन तमाम सवालों के बावजूद प्रियंका चोपड़ा ने कंगना रनौत के आरोपों का कोई खंडन नहीं किया है। बल्कि उनकी चचेरी बहन और दक्षिण की फिल्मों में काम कर रहीं मीरा चोपड़ा ने तो कंगना के ट्वीट को रिट्वीट कर उनके आरोपों की पुष्टि की है। नीता मुकेश अंबानी कल्चरल सेंटर के उद्घाटन की पार्टी में करन जौहर और प्रियंका दोनों पहुंचे और दोनों गले भी लगे। लेकिन प्रियंका के छेड़े विवाद पर न करन जौहर कुछ बोल रहे हैं और न शाहरुख खान ने कुछ कहा है। इसके दो ही मानी हो सकते हैं। या तो ये दोनों अपने बड़प्पन की कीमत चुका रहे हैं। या फिर शाहरुख और प्रियंका के बीच वह केवल दोस्ती नहीं थी।

By सुशील कुमार सिंह

वरिष्ठ पत्रकार। जनसत्ता, हिंदी इंडिया टूडे आदि के लंबे पत्रकारिता अनुभव के बाद फिलहाल एक साप्ताहित पत्रिका का संपादन और लेखन।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twenty + twenty =

और पढ़ें

Naya India स्क्रॉल करें