nayaindia FIR Registered Against BJP Leader Amit Malviya On Social Media Post सोशल मीडिया पोस्ट पर बीजेपी नेता अमित मालवीय के खिलाफ एफआईआर दर्ज
Cities

सोशल मीडिया पोस्ट पर बीजेपी नेता अमित मालवीय के खिलाफ एफआईआर दर्ज

ByNI Desk,
Share

Amit Malviya :- पश्चिम बंगाल की मंत्री चंद्रिमा भट्टाचार्य ने एक सोशल मीडिया पोस्ट पर भाजपा आईटी सेल प्रमुख अमित मालवीय के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है, जिसमें उन्होंने उत्तर 24 परगना जिले में पिछले हफ्ते ईडी अधिकारियों और सीएपीएफ कर्मियों पर हुए हमले से मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को जोड़ा था। रविवार को एक्स पर एक पोस्ट में, मालवीय ने कहा था, “ईडी ने खतरनाक अपराधी और ममता बनर्जी और उनके भतीजे अभिषेक के भरोसेमंद गुर्गों में से एक शेख शाहजहां की तलाश जारी की है। वह अन्य अपराधों के अलावा, बड़े पैमाने पर राशन घोटाले में वांछित है। (जिसमें बंगाल के सबसे गरीब लोगों के लिए खाद्य आपूर्ति एक दशक से अधिक समय तक खुले बाजार में बेची जाती थी।) पश्चिम बंगाल के राज्यपाल ने पश्चिम बंगाल के डीजीपी को शेख शाहजहां को तुरंत गिरफ्तार करने और आतंकी संगठनों के साथ उसके संबंधों की जांच करने का आदेश दिया है।

लेकिन, संदेशखली का डॉन होने का दावा करने वाला शाहजहां फरार है। यह ममता बनर्जी के संरक्षण के बिना संभव नहीं था, जो पश्चिम बंगाल की गृह मंत्री भी हैं। रविवार रात वित्त राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) भट्टाचार्य ने उत्तर 24 परगना के निमता पुलिस स्टेशन में मालवीय के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई। उन्होंने राज्य मंत्री के रूप में नहीं, बल्कि उत्तर 24 परगना के दमदम (उत्तर) निर्वाचन क्षेत्र से निर्वाचित विधायक के रूप में एफआईआर दर्ज कराई, जिसकी एक कॉफी आईएएनएस के पास उपलब्ध है। भट्टाचार्य ने अपनी एफआईआर में दावा किया कि राज्य प्रशासन में सर्वोच्च पद पर बैठे एक निर्वाचित जन प्रतिनिधि के खिलाफ इस तरह की टिप्पणी पूरी तरह से अस्वीकार्य है और उस कुर्सी को बदनाम करने का प्रयास है।

उन्होंने मालवीय की टिप्पणियों को भी आपराधिक प्रकृति का बताया। एफआईआर में, उन्होंने मुख्यमंत्री पर अपराधियों को बचाने का ट्रैक रिकॉर्ड रखने का आरोप लगाने वाली सोशल पोस्ट में मालवीय की टिप्पणियों का भी जिक्र किया। मालवीय ने अपनी एक्स पोस्ट में कहा था, ”अपराधियों को बचाने का उनका ट्रैक रिकॉर्ड रहा है। बोगतुई नरसंहार के तुरंत बाद, ममता बनर्जी अपनी आधिकारिक कार में आरोपी अनुब्रत मंडल के साथ थीं। इसमें कोई संदेह नहीं है कि शेख शाहजहां, जहां भी है, उनके संरक्षण में है। लेकिन, जैसे वह अनुब्रत को नहीं बचा सकी, वैसे ही वह शाहजहां को भी नहीं बचा पाएंगी। अपराध पर खड़ा उनका खून से लथपथ साम्राज्य ढह रहा है। (आईएएनएस)

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

Naya India स्क्रॉल करें