nayaindia kisan andolan किसानों को रोकने का आरोप
Trending

किसानों को रोकने का आरोप

ByNI Desk,
Share
Kisan Andolan Update
Kisan Andolan Update

चंडीगढ़। न्यूनतम समर्थन मूल्य यानी एमएसपी की गारंटी की मांग कर रहे किसान संगठनों ने आरोप लगाया है कि पुलिस देश भर के किसानों को दिल्ली पहुंचने से रोक रही है। किसान आंदोलन का नेतृत्व कर रहे दो प्रमुख संगठनों- किसान मजदूर मोर्चा और संयुक्त किसान मोर्चा गैर राजनीतिक ने रविवार को देश भर के किसानों से बुधवार को दिल्ली पहुंचने की अपील की थी। आंदोलन के नेता सरवन सिंह पंधेर ने आरोप लगाया है कि किसान देश के अलग अलग हिस्सों से दिल्ली पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन सरकार उन्हें रोक रही है। kisan andolan

विपक्षी नेताओं के बयानों का विवाद

दोनों संगठनों के नेताओं ने एमएसपी की कानूनी गारंटी सहित अपनी कई मांगों के समर्थन में 10 मार्च को चार घंटे तक देश भर में रेल रोको आंदोलन की भी अपील की है। पंधेर ने कहा है कि किसान चाहें तो पूरे दिन भी ट्रेन रोक सकते हैं लेकिन वे लोगों को ज्यादा परेशान नहीं करना चाहते। किसान संगठनों के ऐलान को देखते हुए दिल्ली में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गयी है। kisan andolan

हेमंत सोरेन की मुश्किलें बढ़ रही हैं

इस बीच बुधवार की शाम को किसान नेता सरवन सिंह पंधेर, मनजीत घुम्मन, अमरजीत रारा, सतनाम सिंह ने कहा कि देश के कई राज्यों से किसान दिल्ली के लिए निकल गए हैं। कुछ जगहों पर उन्हें रोकने का प्रयास किया गया है। किसान नेताओं ने बताया कि मंडल आर्मी के किसानों का एक समूह उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद से ट्रेन के जरिए बुधवार को साढ़े तीन बजे दिल्ली के जंतर मंतर पहुंच गया है। उन्होंने बताया कि राजस्थान के बाहरा में और सवाई माधोपुर में राजस्थान पुलिस ने किसानों को हिरासत में ले लिया है।

कांग्रेस की पहली सूची कब आएगी

किसान नेताओं ने कहा बुधवार को साढ़े तीन बजे राजस्थान के दौसा जिले से किसानों का एक जत्था दिल्ली के लिए रवाना हुआ। उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश के रतलाम जिले से और दक्षिण भारत के कुछ हिस्सों से भी किसान दिल्ली पहुंच रहे हैं। पंधेर ने कहा कि 10 मार्च को संयुक्त किसान मोर्चा गैर राजनीतिक और किसान मजदूर मोर्चा पंजाब सहित देश भर में ट्रेनें रोकेंगे, पंजाब के 22 जिलों में ट्रेनें रोकी जाएंगी। हरियाणा में खाप पंचायतों ने भी किसान आंदोलन का समर्थन करने का वादा किया है।

यह भी पढ़ें:

केंद्रीय सचिवों में क्या बड़ा बदलाव होगा?

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

Naya India स्क्रॉल करें