nayaindia madhya pradesh assembly MLA प्रभावी और आदर्श विधायक बनाने की क्लास
Columnist

प्रभावी और आदर्श विधायक बनाने की क्लास

Share

भोपाल। ऐसे बहुत कम जनप्रतिनिधि है जिन्हें आसानी से टिकट मिल जाता है जीत जाते हैं और फिर मंत्री या आप तो सीधे मुख्यमंत्री भी बन जाते हैं लेकिन अधिकांश जनप्रतिनिधियों को विधायक बनने के पहले काफी लंबा संघर्ष करना पड़ता है और ऐसे संघर्ष के बाद जब कोई विधायक बनता है तो उसकी इच्छा रहती है कि वह एक प्रभावी और आदर्श विधायक बने लेकिन ऐसा भी नहीं हो पाता। यही कारण है कि मध्यप्रदेश की विधानसभा के नवनिर्वाचित विधायकों को दो दिवसीय प्रशिक्षण में प्रभावी और आदर्श विधायक बनने का प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

प्रशिक्षण के पहले दिन लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने विधायकों को संसदीय शिष्टाचार और आचरण का पालन करते हुए आदर्श विधायक बनने की सीख दी। लोकसभा अध्यक्ष ने कहा कि जनता ने बहुत अपेक्षाओं और आकांक्षाओं से आपको चुना है। उम्मीद है कि सभी जनता की अपेक्षाओं और आकांक्षाओं को पूरा करेंगे। अनुभव और ज्ञान ऐसी चीज है जिसको जब समय मिले प्राप्त कर लेना चाहिए। विशेष रूप से लोकतांत्रिक संस्था से जुड़े सभी लोगों को यह करना चाहिए। इस नाते आपकी जिम्मेदारी ज्यादा बन जाती है कि जनता की अपेक्षाएं और आकांक्षाओं के साथ ही प्रदेश के सर्वांगीण विकास की योजनाएं भी बनाएं लोकतंत्र हमारे विचारों में अभिव्यक्ति में और कार्य प्रणाली में परिलक्षित होना चाहिए। उन्होंने कहा कि राजनीतिक सामाजिक परिदृश्य बदलता रहता है। आर्थिक परिदृश्य भी बदलता है, इसलिए हमारा प्रयास रहना चाहिए कि हम जितना अनुभव और ज्ञान का लाभ विधानसभा के माध्यम से राज्य की जनता को देंगे उतना बेहतर हो रहेगा। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश का गौरवशाली इतिहास रहा है। यहां के मुख्यमंत्री विधानसभा अध्यक्षों का एक गौरवशाली इतिहास रहा है। गौरवशाली परंपरा रही है। आप सभी को मौका मिला है कि आप इस गौरवशाली विधानसभा के सदस्य हैं। मध्यप्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि क्षेत्र की जो अपेक्षा है वह विधायक से पूरी कैसी हो इसके लिए कार्यकर्ता के रूप में तो आप तैयार हैं लेकिन यहां पर नियमों को समझकर उसका अनुसरण करना हमारे व्यक्तित्व को निखरेगा। जब हमारा व्यक्तित्व निकलेगा तो क्षेत्र में भी छवि और प्रतिष्ठा बढ़ेगी हम सभी के कार्यों से प्रदेश की सदन की महिमा पूरे देश में बढ़ेगी।

कुल मिलाकर 16 विधानसभा के विधायकों के लिए दो दिवसीय प्रबोधन कार्यक्रम मंगलवार को शुरू हुआ जिसमे वक्ताओ ने विधायकों को अपने अनुभव भी सुनाएं और उन्हें एक अच्छा जनप्रतिनिधि बनने के लिए जो जरूरी गुण होना चाहिए उनसे अवगत भी कराया।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

Naya India स्क्रॉल करें