nayaindia Lok Sabha election ताकि जोखिम भी ना रहे और जीत भी जोशीली हो
Columnist

ताकि जोखिम भी ना रहे और जीत भी जोशीली हो

Share

भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह और केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया अपने-अपने क्षेत्र में तपती धूप में परिवार सहित पसीना बहा रहे हैं ताकि किसी भी प्रकार का जोखिम भी ना रहे और जीत का अंतर भी ऐसा रहे जिसमें समर्थन का जोश दिखाई दे। दरअसल जितनी मेहनत पहली बार चलो लड़ने वाले प्रत्याशी नहीं करते उससे भी ज्यादा प्रदेश की राजनीति के दिग्गज नेता अपने-अपने क्षेत्र में कर रहे हैं।

विदिशा लोकसभा सीट से पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान प्रदेश में 18 वर्ष तक मुख्यमंत्री रहे इसके पहले विदिशा सीट से पांच बार सांसद रहे पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष रहे लेकिन विदिशा लोकसभा क्षेत्र से टिकट घोषित होने के बाद से ही शिवराज सिंह चौहान परिवार सहित अथक परिश्रम कर रहे हैं क्योंकि किसी भी प्रकार का जोखिम जीत के अंतर के लिए नहीं लेना चाहते बल्कि एक बड़े अंतर से जीतने के लिए वे कवायद कर रहे हैं उनके प्रदेश भर से चुनिंदा समर्थक भी विदिशा क्षेत्र के हर क्षेत्र में डेरा डाले हुए हैं।

इसी तरह केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया गुना शिवपुरी लोकसभा क्षेत्र में परिवार सहित गर्मी की परवाह न करते हुए गांव गांव में पसीना बहा रहे कहते हैं दूध का जला छाछ भी फूंक फूंक कर पीता है 2019 के लोकसभा चुनाव में ज्योतिरादित्य सिंधिया गुना शिवपुरी लोकसभा क्षेत्र से नामांकन पत्र दाखिल करने के बाद अधिकांश समय उत्तर प्रदेश के चुनाव अभियान में दिया और जब नतीजा आया तब वे भौचक्के रह गए क्योंकि उन्हें उनके ही सांसद प्रतिनिधि ने जो भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़े केपी यादव ने एक लाख से भी ज्यादा वोटो से चुनाव हार दिया हालांकि इस बार सिंधिया भाजपा उम्मीदवार के रूप में पहली बार चुनाव लड़ रहे हैं लेकिन वे किसी भी प्रकार का जोखिम नहीं लेना चाह रहे इस कारण गांव-गांव घूम रहे हैं उनकी पत्नी और पुत्र भी चुनाव प्रचार में कोई कसर नहीं छोड़ रहे केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह की मुख्यमंत्री मोहन यादव की सभा क्षेत्र में हो चुकी है और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी की सभा भी कराने की तैयारी है।

इसी तरह राजगढ़ संसदीय क्षेत्र में पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह चुनाव जीतने के लिए पदयात्रा से लेकर हर वह जतन कर रहे हैं जो जरूरी समझ में आ रहा है 2019 के लोकसभा चुनाव में भोपाल से चुनाव लड़े दिग्विजय सिंह एक लंबे अंतर से चुनाव हारे थे इस कारण में इस बार किसी भी प्रकार की रिस्क नहीं ले रहे हैं और राजगढ़ संसदीय क्षेत्र में अपने स्थानीय होने और उम्र का तकाजा भी मतदाताओं को दे रहे हैं।

कुल मिलाकर विदिशा में शिवराज सिंह चौहान कांग्रेस प्रत्याशी प्रताप भानु शर्मा गुना शिवपुरी में ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस प्रत्याशी राव यादवेंद्र सिंह और राजगढ़ में दिग्विजय सिंह भाजपा प्रत्याशी रोडमल नागर हल्के में ना लेते हुए परिश्रम की पराकाष्ठा कर रहे हैं ताकि किसी भी प्रकार का जोखिम भी ना रहे और जीत का अंतर भी उनके जनाधार की कहानी कहे।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

Naya India स्क्रॉल करें