nayaindia Electoral Bonds Supreme court उद्योग समूह देर से सक्रिय हुए
Politics

उद्योग समूह देर से सक्रिय हुए

ByNI Political,
Share
Electoral Bonds Supreme court
Electoral Bonds Supreme court

क्या देश के उद्योग समूहों फिक्की, एसोचैम या सीआईआई आदि को चुनावी बॉन्ड की जानकारी सार्वजनिक होने पर कारोबारी समूहों के नुकसान की आशंका हैं? अगर ऐसी आशंका है तो ये संगठन पहले से क्यों नहीं सक्रिय हुए? क्या पहले इनको अंदाजा नहीं था कि क्या सामने आ सकता है और उससे क्या क्या नुकसान हो सकता है? Electoral Bonds Supreme court

यह भी पढ़ें: नेतन्याहू न मानेंगे, न समझेंगे!

ये सवाल इसलिए उठ रहे हैं क्योंकि चुनावी बॉन्ड से जुड़ी जानकारी दो सेट में सामने आने और उस पर बहस शुरू हो जाने के बाद अचानक सोमवार यानी 18 मार्च को इन उद्योग समूहों ने सुप्रीम कोर्ट में आवेदन दिया और कहा कि उनको भी सुना जाना चाहिए। Electoral Bonds Supreme court

यह भी पढ़ें: ऐसे कराएंगे एक साथ चुनाव!

इन उद्योग समूहों की ओर से पूर्व अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी सोमवार को अदालत के सामने पेश हुए और कहा कि उन्होंने आवेदन दिया है। लेकिन चीफ जस्टिस ने दो टूक अंदाज में कहा कि उनके सामने कोई आवेदन नहीं है। संविधान पीठ ने उद्योग समूहों का पक्ष सुनने से मना कर दिया। इन उद्योग समूहों को क्या यह अंदाजा नहीं था कि चुनावी बॉन्ड से जुड़ी जानकारी सामने आने के बाद क्या क्या चीजें हो सकती हैं?

यह भी पढ़ें: चौटाला परिवार जाट वोट बंटवाएंगा

ऐसा लग रहा है कि जब चुनावी बॉन्ड का पूरा ब्योरा सामने आया और यह खुलासा होने लगा कि इसमें काले धन का इस्तेमाल हुआ है या किस कारोबारी घराने ने किसको कितना पैसा दिया है तब उद्योग व कारोबारी समूहों की नींद खुली। तभी उनकी ओर से कहा जा रहा है कि अगर कारोबारी समूहों की ओर से पार्टियों को दिए गए चंदे का खुलासा होगा तो उनके हितों को नुकसान हो सकता है। उनको लग रहा है कि जिनको चंदा नहीं दिया वो पार्टियां खिलाफ हो सकती हैं। तभी वे बॉन्ड का डिस्क्लोजर रुकवाने के लिए सामने आईं।

यह भी पढ़ें: केजरीवाल की अब गिरफ्तारी होगी

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

Naya India स्क्रॉल करें