nayaindia karnatak election aap congress कांग्रेस की आप से होड़
kishori-yojna
राजरंग| नया इंडिया| karnatak election aap congress कांग्रेस की आप से होड़

कांग्रेस की आप से होड़

कांग्रेस पार्टी की आम आदमी पार्टी से होड़ मची है। इससे पहले कि आम आदमी पार्टी के नेता कर्नाटक पहुंचे और चुनाव का अपना एजेंडा घोषित करके उसे स्थापित करना शुरू करें उससे पहले कांग्रेस ने अपना काम शुरू कर दिया है। चुनाव की घोषणा से तीन महीने पहले ही पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डीके शिवकुमार ने ऐलान किया कि कांग्रेस की सरकार बनी तो हर परिवार को दो सौ यूनिट बिजली फ्री मिलेगी। राज्य में सत्तारूढ़ दल भाजपा इसकी आलोचना कर रही थी और इसी बीच कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने एक रैली में ऐलान किया कि कांग्रेस की सरकार बनी तो हर परिवार की महिला प्रमुख को दो हजार रुपए हर महीने दिए जाएंगे। पार्टी ने यह भी कहा कि रसोई गैस सहित रोजमर्रा के खर्चों का बोझ कम करने के लिए पार्टी ‘गृह लक्ष्मी योजना’ के तहत यह रुपया देगी। इससे एक तरफ महंगाई पर वार है तो दूसरी ओर महिलाओं की मदद करने का भाव है।

अगली बारी पुरानी पेंशन योजना को बहाल करने की घोषणा की है। यह देखना होगा कि प्रियंका किसी अगली रैली में इसकी घोषणा करती हैं, जैसा उन्होंने हिमाचल प्रदेश में किया था या राहुल जम्मू कश्मीर में अपनी यात्रा का समापन करने के बाद जब कर्नाटक चुनाव में उतरेंगे तब इसकी घोषणा करेंगे। इस बीच हरियाणा के नेता और सांसद दीपेंदर हुड्डा ने ऐलान कर दिया है कि राजस्थान, छत्तीसगढ़ और हिमाचल के बाद अब हरियाण की बारी है। उन्होंने कहा है कि हरियाणा में पुरानी पेंशन योजना लागू होगी। बहरहाल, कर्नाटक में कांग्रेस फ्री बिजली और दो हजार रुपए मासिल देने के अलावा भी ‘मुफ्त की रेवड़ी’ वाली कई घोषणाएं करेंगी। दिल्ली में मेयर आदि का चुनाव निपटा कर अरविंद केजरीवाल जब तक कर्नाटक के चुनाव में उतरेंगे उससे पहले कांग्रेस सारे मुद्दों की घोषणा करके एजेंडा सेट कर चुकी होगी। चूंकि कर्नाटक में कांग्रेस मजबूत स्थिति में है इसलिए उसके वादों पर लोगों को यकीन भी होगा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eight + 12 =

kishori-yojna
kishori-yojna
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
पूरी दुनिया की नजर भारत के बजट पर: पीएम मोदी
पूरी दुनिया की नजर भारत के बजट पर: पीएम मोदी