China पर बरसे पूर्व राष्ट्रपति Donald Trump, कहा- भारत में पहले कभी नहीं हुई इतनी मौतें, मदद करें चीन

नई दिल्ली | अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने भारत का समर्थन करते हुए चीन को आड़े हाथों लिया है। ट्रंप ने चीन को कोरोना (Coronavirus) फैलाने का दोषी करार देते हुए कहा है कि दुनिया के कई देश कोरोना से बुरी तरह से तबाह हो चुके हैं। ट्रंप ने कोरोना (Corona)… Continue reading China पर बरसे पूर्व राष्ट्रपति Donald Trump, कहा- भारत में पहले कभी नहीं हुई इतनी मौतें, मदद करें चीन

अजब- गजब: चुनाव हारने के बाद पाकिस्तान शिफ्ट हो गए डोनाल्ड ट्रंप !

इस्लामाबाद । पाकिस्तान में इन दिनों सोशल मीडिया में एक व्यक्ति छाया हुआ है. बताया जा रहा है कि यह आदमी पूरी तरह से अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की तरह दिखता है. हालांकि एक नजर में इस व्यक्ति को देखकर कोई भी धोखा खा सकता है. लेकिन इस के पहनावे को देखकर यह… Continue reading अजब- गजब: चुनाव हारने के बाद पाकिस्तान शिफ्ट हो गए डोनाल्ड ट्रंप !

साजिश थ्योरी पर फेसबुक की नीति बदल गई

यह कमाल अभी हुआ है। कुछ दिन पहले तक अगर कोई फेसबुक पोस्ट में यह लिख दे कि कोरोना वायरस एक साजिश है, इसके पीछे चीन का हाथ है या दुनिया की बड़ी फार्मा कंपनियां इनके पीछे हो सकती हैं तो इसे साजिश थ्योरी बता कर फेसबुक उस पोस्ट को डिलीट कर देता और एकाउंट… Continue reading साजिश थ्योरी पर फेसबुक की नीति बदल गई

महान असफलताओं के दो साल!

असफलताओं को महान बताना एक किस्म का विशेषण विपर्यय है, लेकिन यह जरूरी है क्योंकि इन दो सालों की असफलताएं इतनी बड़ी हैं कि कोई दूसरा विशेषण उसके साथ न्याय नहीं कर सकता। ये असफलताएं हर किस्म की हैं। यह भी पढ़ें: आंसुओं को संभालिए साहेब! यह भी पढ़ें: कमान हाथ में लेने की नाकाम… Continue reading महान असफलताओं के दो साल!

बाइडेन के अच्छे, भले सौ दिन!

पृथ्वी के साढ़े सात अरब लोगों की सांस दो संकटों में अटकी है। एक, कोविड-19 के विषाणुओं से। दूसरे, तानाशाह-नीच प्रवृत्ति के उन नेताओं से जो वायरस से अपनी सत्ता और साम्राज्यवादी मंसूबों का मौका मानते हैं। चीन और चीन के राष्ट्रपति शी जिनफिंग से लेकर रूस के राष्ट्रपति पुतिन जैसे नेता अपने वर्चस्ववादी-निरंकुश मॉडल… Continue reading बाइडेन के अच्छे, भले सौ दिन!

टैक्स बढ़ाने का मिशन

अमेरिका के जो बाइडेन प्रशासन ने देश में कॉरपोरेट टैक्स दर को 21 से बढ़ा कर 28 प्रतिशत करने का प्रस्ताव सामने रखा है। इसकी रिपब्लिकन पार्टी और कॉरपोरेट सेक्टर ने कड़ी आलोचना की है। उनका तर्क है कि टैक्स रेट बढ़ने पर अमेरिकी कंपनियां कारोबार के लिए उन देशों में चली जाएंगी, जहां टैक्स… Continue reading टैक्स बढ़ाने का मिशन

व्हाइट हाउस से विदाई के बाद पहले भाषण में ट्रंप ने की भारत की आलोचना

पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने व्हाइट हाउस छोड़ने के बाद दिए गए अपने पहले भाषण में भारत के पर्यावरण रिकॉर्ड की आलोचना की है।

भारत के लिए अच्छी खबर

अमेरिका और यूरोप से भारत की दृष्टि से दो अच्छी खबरें आई हैं। एक तो अमेरिका की बेहतर वीज़ा नीति और दूसरी जी-7 राष्ट्रों की बैठक में से उभरी विश्वनीति।

डोनाल्ड ट्रंप बच गए लेकिन…

यदि अमेरिकन सीनेट के 100 सदस्यों में से दो-तिहाई याने 67 सदस्य उनके विरुद्ध वोट दे देते तो वे हार जाते लेकिन 67 की बजाय 57 वोट ही उनके विरुद्ध पड़े। 10 वोट कम पड़ गए।

महाभियोग के आरोप से ट्रंप बरी

अमेरिकी सीनेट ने आज पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को 6 जनवरी को कैपिटल हिल में हुई हिंसा की घटना को लेकर चलाए गए महाभियोग से बरी कर दिया है।

ट्रंप के खिलाफ महाभियोग शुरू

पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ लाए गए महाभियोग प्रस्ताव की संवैधानिक स्थापित हो गई है और सीनेट में इस पर सुनवाई शुरू हो गई है।

कोरोना, ट्रंप सब तो अप्रत्याशित

प्रधानमंत्री को सचमुच अंदाजा नहीं था कि कोरोना वायरस का संक्रमण इतना भयावह हो सकता है। वे संकट शुरू हो जाने के एक महीने बाद तक डोनाल्ड ट्रंप के स्वागत की तैयारियों में लगे रहे।

यूरोप को बाइडेन से उम्मीदें

यूरोपीय नेताओं की प्रतिक्रियाओं से जाहिर है कि नए अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन से उन्हें बड़ी उम्मीदें हैं। यूरोपीय संघ के नेताओं को आशा है कि यूरोप- अमेरिका के संबंध अब पहले जैसे हो जाएंगे।

बाइडेन की मोदी से क्या पटेगी?

नहीं। वैसे कतई नहीं जैसे डोनाल्ड ट्रंप से पटी थी। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी परिस्थितिजन्य, वक्त की राम मिलाई जोड़ी थे। यह अलग बात है कि बावजूद इसके डोनाल्ड ट्रंप से भारत का भला नहीं हुआ।

पर झूठ तो बेशर्म व नीच!

डोनाल्ड ट्रंप ने लोकतंत्र परंपरा का लोकव्यवहार, सामान्य सद्भाव भी नहीं दर्शाया। लेकिन यह आर्श्चयजनक इसलिए नहीं है क्योंकि झूठ और नीचता में जिनका जीवन ढला होता है वे सोच नहीं सकते हैं कि क्या पाप है और क्या पुण्य

आगामी यथार्थ का शिला-पूजन

आपको दिख रहा है या नहीं कि वैश्विक सियासत के समंदर में प्राकृतिक न्याय की लहरें उफ़नने लगी हैं। जो बाइडन का आना और डॉनल्ड ट्रंप का जाना अमेरिका में ही नहीं, पूरे संसार में नए वसंत के आगमन का क़ुदरती पैग़ाम है।

अमेरिकी लोकतंत्र और बाइडेन का भाषण

जो बाइडेन ने अमेरिका के राष्ट्रपति के रूप में शपथ लेने के बाद जो भाषण दिया वह कई मायने में ऐतिहासिक था। हम भारत के लोगों के लिए इतने भर से वह ऐतिहासिक हो गया कि भारतवंशी विनय रेड्डी ने वह भाषण तैयार किया था।

भारत व अमेरिका का फर्क

अपने सुधी पाठक परेश ने राष्ट्रपति जो बाईडेन की शपथ के बाद पाठिकाजी की एक प्रतिक्रिया भिजवाई जिसका भाव है कि अमेरिका बोरिग देश है। जो बाईडेन को भारत से सीखना चाहिए।

बाइडेन और ट्रंप का फर्क

अमेरिका के मौजूदा राष्ट्रपति जो बाइडेन और विदा हुए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के भाषणों में ठीक वैसा ही फर्क है, जैसा दोनों के व्यक्तित्व में है। ट्रंप अमेरिकी इतिहास के सबसे कलंकित राष्ट्रपति हैं तो बाइडेन अमेरिका की उज्ज्वल-धवल उम्मीदों के प्रतीक हैं।

बाइडेन की शपथ में असली अमेरिका!

बाइडेन जीते हैं तो अमेरिका जीता है! बाइडेन की जीत अमेरिका की महान लोकतांत्रिक परंपराओं और लोकतांत्रिक संस्थाओं की जीत है

अमेरिकाः आज असुर राज से मुक्ति!

वाह! ईश्वर की अमेरिका पर आज अनुकंपा। उसकी चार साला मूर्ख-अहंकारी-रावण राज से आज मुक्ति। पर कहीं ऐन वक्त विध्न-बाधा तो नहीं? हां, दुनिया के तमाम भले, सभ्य, सत्यवादी और खुद अमेरिका के बुद्धिमना, जाग्रत नागरिक और वहां की व्यवस्था चिंता में है कि जो बाइडेन की बतौर राष्ट्रपति शपथ शांतिपूर्वक हो पाती है या नहीं।

अमेरिका में अभूतपूर्व

डॉनल्ड ट्रंप का चार साल का कार्यकाल आज जो बाइडेन के राष्ट्रपति पद का शपथ लेने के साथ ही खत्म हो जाएगा। लेकिन अपने चार साल के शासनकाल में अमेरिका को कहां पहुंचा दिया, उसकी एक झलक पिछले कई दिनों से देखने को मिल रही है।

अभिमानी ट्रंप का कलंक रिकार्ड!

इस सप्ताह, इस महीने दुनिया की सुर्खियों में हैं डोनाल्ड ट्रंप। सब तरफ एक चर्चा कि डोनाल्ड ट्रंप बीस जनवरी को कितनी कालिख, कंलक के साथ पद छोड़ेंगे! सचमुच अमेरिका के इतिहास में, दुनिया की आधुनिक लोकतांत्रिक सभ्यता के इतिहास में डोनाल्ड ट्रंप वह चेहरा हो गया है

ट्रंप पर लानत, मुल्क अमेरिका को सलाम!

सारी सावधानियों के बावजूद अनहोनी हो सकती है। लेकिन फर्क यहां पैदा होता है कि बचाव (सेफ्टी मेजर) के साधन किसके पास, कितने मुस्तैद हैं! अमेरिका  इस बड़े इम्ताहन में पूरी तरह सफल हुआ है

झूठ के भक्तों का संसद पर हमला!

छह जनवरी 2021! राम-रावण, देव-असुर, सत्य-असत्य के संघर्ष की बानगी में एक नई तारीख। हिटलर, डोनाल्ड ट्रंप और उन जैसे ही झूठे

ट्रंप हैं, अमेरिकी कलंक

डोनाल्ड ट्रंप ने सिद्ध कर दिया है कि वह अमेरिका के कलंक हैं। अमेरिका के इतिहास में राष्ट्रपति के चुनाव को लेकर कुछ विवाद कभी-कभी जरुर हुए हैं लेकिन इस बार ट्रंप ने अमेरिकी लोकतंत्र की धज्जियां उड़ाकर रख दी हैं।

अमेरिकी लोकतंत्र पर ट्रंप का कलंक

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के ‘उकसावे’ में उनके हजारों समर्थक बुधवार को अमेरिकी संसद यानी कैपिटल हिल में घुस गए और जनादेश को पलटने का प्रयास किया।

वाशिंगटन में हिंसा को ट्रंप ने उकसाया: ओबामा

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने तीन नवंबर के चुनाव परिणाम के बारे में लगातार झूठ बोला है और बुधवार को वाशिंगटन में राजधानी इमारत में हिंसा को उकसाया है।

ट्रंप ने ये हाल कर दिया

डॉनल्ड ट्रंप को अमेरिकी इतिहास में ऐसे राष्ट्रपति के रूप में याद किया जाएगा, जिन्होंने अपने देश की राजनीतिक प्रणाली को उतनी चोट पहुंचाई, जितनी इसके पहले शायद ही किसी और ने की हो।