film

  • राज्यसभा में सिनेमेटोग्राफी विधेयक पेश

    Cinematography Bill :- राज्यसभा में सरकार ने बृहस्पतिवार को सिनेमेटोग्राफी विधेयक 2023 पेश किया जिसमें फिल्मों का आयुवर्ग के हिसाब से वर्गीकरण का प्रस्ताव है। संसद के मानसून सत्र के पहले दिन सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने दोपहर दो बजे के बाद उच्च सदन की बैठक फिर शुरू होने पर पहले सिनेमेटोग्राफी विधेयक 2019 को वापस लेने का प्रस्ताव रखा, जिसे सदन ने ध्वनिमत से मंजूरी दे दी।  ठाकुर ने इसके बाद सभापति जगदीप धनखड़ की अनुमति से सिनेमेटोग्राफी विधेयक 2023 सदन में पेश किया। केंद्रीय मंत्रिमंडल की बुधवार को हुई बैठक में इस विधेयक को मानसून सत्र...

  • एआई बताएगा फ़िल्मों का भविष्य?

    वार्नर ब्रदर्स ने सिनेलिटिक्स नामक कंपनी से अनुबंध किया है जो आर्टीफ़ीशियल इंटेलीजेंस के जरिए फिल्म से संबंधित हर तरह के फैसले लेने में मदद करेगी।  ऐसी कंपनियां फिल्म के विषय की बाबत नए आइडिया देने के अलावा कहानी, स्क्रीनप्ले और संवाद लिखने में भी आर्टीफ़ीशियल इंटेलीजेंस का घालमेल कर रही हैं। … पूरी दुनिया में फिल्मों और वेबसीरीज़ के लिए बेहतर और नई कहानियों की जो मारामारी चल रही है उसमें एआई खासा कारगर हो रहा है जो कि लेखकों के लिए एक संकट की तरह है। हॉलीवुड में किसी स्क्रीनप्ले पर अगर चार लोग काम कर रहे हैं...

  • सुप्रीम कोर्ट का ‘द केरल स्टोरी’ पर रोक से इनकार, शुक्रवार को होगी रिलीज

    नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने फिल्म (Film) ‘द केरल स्टोरी’ (The Kerala Story) की रिलीज पर रोक लगाने के अनुरोध वाली याचिका पर सुनवाई से मंगलवार को इनकार कर दिया। वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल तथा अधिवक्ता निजाम पाशा ने न्यायमूर्ति के एम जोसफ एवं न्यायमूर्ति बी वी नागरत्ना की पीठ को सूचित किया कि फिल्म के ट्रेलर को एक करोड़ 60 लाख बार देखा गया है। यह फिल्म शुक्रवार को रिलीज हो रही है। अधिवक्ता पाशा ने कहा, यह फिल्म घृणा फैलाने वाले भाषण का सबसे बदतर उदाहरण है। विशुद्ध तौर पर यह दृश्य-श्रव्य (ऑडियो विजुअल) दुष्प्रचार है। पीठ ने...

  • बदले हुए दर्शक और दबाव में फ़िल्में

    यह कैसे संभव है कि जो कुछ समाज में और देश में बीत रहा हो, फिल्में उससे अछूती रह जाएं। यह फिल्म चले या न चले, मगर आखिरकार अनुभव सिन्हा को रिलीज से पहले ‘भीड़’ में कई बदलाव करने पड़े। अब इसमें लॉकडाउन की घोषणा में प्रधानमंत्री की आवाज़ नहीं है। फिल्म में जहां भी ‘प्रधानमंत्री’ आया वहां ‘मंत्री’ कर दिया गया। गालियों में बदलाव हुए। धर्म और जातियों से जुड़े कथन बदल दिए गए। ‘इंडिया का पार्टीशन लग रहा है’ वाला डायलॉग अब फिल्म में नहीं है और न यह कि ‘इंडियन सोसायटी धृतराष्ट्र जैसी है।’ इसी तरह ‘कोरोना...