तेजस्वी, कन्हैया, चिराग की त्रिमूर्ति बनेगी

इस बात का खुलासा बाद में होगा कि कन्हैया को कांग्रेस में शामिल कराने का दांव प्रशांत किशोर ने कैसे और किस मकसद से किया था।

अब जेडीयू ने बनाया भाजपा पर यूपी में गठबंधन का दबाव

बिहार में एनडीए के घटक जनता दल यूनाइटेड ने यूपी में चुनाव लड़ने की मंशा जाहिर कर भाजपा की मुश्किलें बढ़ा दी हैं।

Bihar : जेडीयू अध्यक्ष राजीव रंजन सिंह ने की नई टीम की घोषणा, इन नेताओं को दिया मौका

ललन सिंह ने 18 सदस्यीय टीम में केसी त्यागी को राष्ट्रीय प्रधान महासचिव बनाकर बड़ी जिम्मेदारी सौंपी है। जबकि, गोपालगंज के सांसद डा. आलोक कुमार सुमन को कोषाध्यक्ष बनाया गया है।

जदयू-भाजपा में बढ़ेगा विवाद

बिहार में मिल कर सरकार चला रहे जनता दल यू और भाजपा में सब कुछ ठीक नहीं है। दोनों पार्टियों के प्रदेश के नेता एक-दूसरे पर लगातार हमला कर रहे हैं।

भाजपा-जदयू की बयानबाजी चलती रहेगी

बिहार में भाजपा और जदयू मिल कर सरकार बना रहे हैं लेकिन दोनों पार्टियां आपस में ऐसे उलझी हैं, जैसे दो विपक्षी पार्टियां लड़ती हैं।

बेचारे बिहार के सीएम और नेता विपक्ष!

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिले। उनके साथ बिहार के नेताओं का एक सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल भी था।

पीएम-नीतीश की मुलाकात पर परदा क्यों?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और पक्ष-विपक्ष के नेताओं का प्रतिनिधिमंडल मिला तो उस बारे में केंद्र सरकार की ओर से कोई ब्योरा क्यों नहीं जारी किया गया

नीतीश-तेजस्वी की केमिस्ट्री असली चीज है

बिहार में इसी बात की ज्यादा चर्चा है कि दोनों के बीच सद्भाव दिखा और मुख्यमंत्री ने तेजस्वी की तारीफ करते हुए कहा कि सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल लेकर प्रधानमंत्री से मिलने का आइडिया उनका था।

अतीत गौरव में कैद

कोई राजनीति एक विकासक्रम के साथ आगे बढ़ती है। अगर नेतृत्व इसे समझते हुए अपने एजेंडे को विकसित नहीं करता, तो वो सियासत गतिरुद्ध हो जाती है।

ओबीसी वोट की चिंता में प्रादेशिक नेता

भाजपा ने प्रादेशिक पार्टियों के ओबीसी वोट बैंक में जबरदस्त सेंध लगाई है। नरेंद्र मोदी की कमान में भाजपा की पहली जीत यानी 2014 में ऐसा नहीं हुआ था।

भाजपा क्यों नहीं कराएगी जातियों की गिनती!

इसमें कोई संदेह नहीं है कि भारतीय जनता पार्टी बहुत जोर-शोर से ओबीसी राजनीति कर रही है और उसको इसका फायदा भी मिल रहा है। लेकिन पार्टी जाति आधारित जनगणना नहीं कराएगी।

जाति जनगणना, मोदी से मिले बिहार के नेता

बिहार के 10 नेताओं का एक प्रतिनिधिमंडल सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिला। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस प्रतिनिधिमंडल की अगुवाई की।

जाति जनगणना के लिए मोदी से मिलेंगे बिहार के नेता

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आखिरकार बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को मिलने का समय दे दिया।

राज्य क्यों नहीं कराते जातियों की गिनती?

केंद्र सरकार जातियों की गिनती कराने को राजी नहीं है। सरकार ने पहले ही साफ कर दिया है। कोरोना वायरस की महामारी की वजह से जनगणना अभी तक शुरू नहीं हुई है।

नीतीश के नए तेवर पर सवाल

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीशकुमार बड़े मजेदार नेता हैं। वे कई ऐसे अच्छे काम कर डालते हैं, जिन्हें करने से बहुत-से नेता डरते रहते हैं। अपने देश में कितने मुख्यमंत्री हैं, जो जनता दरबार लगाने की हिम्मत करते हैं?

और लोड करें