टोक्यो ओलंपिक का क्या सबक है?

यह भारत का दुर्भाग्य है कि यहां राजनीति में खेला होता है और खेलों में राजनीति होती है। टोक्यो ओलंपिक के बाद भी खेल के नाम पर जो कुछ भी हो रहा है वह राजनीति ही है और तय मानें कि इससे भारत में न तो खेलों की संस्कृति बेहतर होने वाली है और न दीर्घावधि में खेल व खिलाड़ियों की गुणवत्ता में सुधार होना है।

अपने इतिहास के मुकाबले

जब देश में माहौल हर क्षेत्र में अपनी तुलना अपने हालिया इतिहास से ही करने और उस इतिहास से बदला लेने का हो, उस वक्त ऐसी चर्चा पर लोग ध्यान देंगे, इसकी उम्मीद नहीं है। उस समय टोक्यो ओलिंपिक की सफलताओं को उचित संदर्भ में रखने की कोशिश मुमकिन है कि राष्ट्र-द्रोह भी मानी जाए।

‘Golden Boy’ नीरज चोपड़ा का भारत पहुंचने पर भव्य स्वागत, पिता बोले- इसे पाने के लिए तरसती है दुनिया

नई दिल्ली | Tokyo Olympics 2020: टोक्यो ओलंपिक 2020 में दमदार प्रदर्शन करने के बाद भारतीय पदक विजेता खिलाड़ी आज सोमवार को दिल्ली पहुंचे तो IGI एयरपोर्ट का नजारा ही कुछ और था। पदक विजेताओं के आने पर उनके समर्थक बड़ी संख्या में एयरपोर्ट पर बैंड-बाजे और हाथ में तिरंगा लिए खड़े थे। टोक्यो ओलंपिक 2020 में इतिहास रचने और देश का सिर ऊंचा करने वाले नीरज चोपड़ा आज जब भारत वापस लौटे तो उनका भव्य स्वागत (Neeraj Chopra Welcome) किया गया। भाला फेंक प्रतियोगिता में गोल्ड जीतकर नीरज चोपड़ा ने इतिहास ही नहीं रचा बल्कि भारत के युवाओं के लिए एक नया अध्याय लिख दिया है। हर कोई इस गोल्डन ब्वाॅय ‘Golden Boy’ के साथ तस्वीरें खिंचवाने को आतुर दिखा। ये भी पढ़ें:- Jammu-Kashmir के अनंतनाग में भाजपा नेता और उनकी पत्नी को आतंकियों ने गोलियों से भूना, BJP में आक्रोश Family members & friends of #TokyoOlympics silver medalist wrestler Ravi Dahiya gather to welcome him at Delhi airport “Residents of our village are very happy. Moments like this are very rare,” says Rakesh Dahiya, father of Ravi Dahiya pic.twitter.com/oW6E21PaJn — ANI (@ANI) August 9, 2021 बेटे के इस प्यार ने सबको कर दिया भावुक नीरज चोपड़ा दिल्ली लौटने के… Continue reading ‘Golden Boy’ नीरज चोपड़ा का भारत पहुंचने पर भव्य स्वागत, पिता बोले- इसे पाने के लिए तरसती है दुनिया

खेल के तपस्वियों को सलाम!

नीरज चोपड़ा को सलाम! रवि दहिया और बजरंग पूनिया को भी सलाम! पीवी सिंधु, मीराबाई चानू और लवलिना बोरगोहेन को नमन! मनप्रीत सिंह के नेतृत्व में खेली भारतीय हॉकी टीम को नमन

हॉकी के लिए सबसे बड़ा काम किसका?

भारतीय हॉकी के लिए सबसे बड़ा काम किसने किया है और सबसे बड़ा काम कौन सा है? दो दिन पहले तक किसी को हिचक नहीं थी कि राष्ट्रीय खेल हॉकी के लिए सबसे बड़ा काम ओड़िशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने किया है

भारत के लिए सबसे सफल ओलंपिक, नीरज ने मिल्खा को समर्पित किया पदक

पदकों की संख्या के लिहाज से टोक्यो ओलंपिक भारत का सबसे सफल ओलंपिक बन गया है। भारत को इस मुकाबले में एक स्वर्ण के साथ कुल सात पदक मिले हैं।

हरियाणा के छोरे ने Tokyo में गाड़ दिया लट्ठ, देश का नाम स्वर्णिम अक्षरों में कराया अंकित, ‘गोल्डन ब्वाॅय’ नीरज चोपड़ा को बधाईयों का तांता

नीरज को चारों ओर से लगातार बधाई मिल रही है। भारत के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री सहित खेल जगत, राजनीतिक जगत और देशवासी उन्हें बधाईयां दे रहे हैं। उनके परिवार में दिवाली सा माहौल हो गया है। Tokyo Olympics 2020 में भारत का यह पहला स्वर्ण पदक है। इसी के साथ अब भारत की झोली में कुल 7 मेडल आ गए हैं।

खिलाड़ी जिन Medals के लिए लगाते है जी-जान, जानिए किस चीज से होता है उनका निर्माण – देखें VIDEO

75 हजार टन सामान, जापान की 1,621 नगरपालिकाओं द्वारा एकत्रित किया गया था। जापान की निप्पॉन टेलेग्राफ एण्ड टेलीफोन कॉर्पोरेशन (NTT) ने करीब 62 लाख फोन जमा किए हैं जिससे लगभग 5000 पदकों के लिए 32 किलो सोना, 3,500 किलो सिल्वर और 2,200 किलो ब्रॉन्ज़ बनाया गया।

पदक से चूक गई भारतीय गोल्फर Aditi Ashok, हासिल किया चौथा स्थान

नई दिल्ली | Tokyo Olympics 2020: टोक्यो ओलंपिक 2020 में आज शनिवार को फिर से भारत को एक जोरदार झटका लगा है। भारतीय गोल्फर अदिति अशोक (Aditi Ashok) ने भारत को पदक दिलाने की उम्मीद जगाई थी, लेकिन वे भी इतिहास रचने से पीछे रह गई। अभी तक खेले गए खेल में अदिति अशोक ने शानदार परर्फोम किया था लेकिन, आखिरी होल्स में उन्होंने मेडल गंवा (Aditi Ashok Missed Medal) दिया। आपको बता दें कि अदिति ने रियो ओलंपिक में 41वां स्थान प्राप्त किया था, जबकि इस बार वे जीत के करीब रही और चैथा स्थान प्राप्त किया। ये भी पढ़ें:- कान में ईयरफोन लगाकर गाने सुनना पड़ा भारी, जोरदार धमाके के साथ फटा Earphone, युवक की मौत कल तक दूसरे स्थान पर बनी रहने के बाद भारत की अदिति आज अदिति 13वें होल तक दूसरे स्थान पर चल रही थीं लेकिन पिछड़ती गई और चौथे राउंड में अदिति अशोक ने तीन अंडर 68 का कार्ड खेलकर, 15 अंडर 269 स्कोर के साथ चैथे स्थान पर रहीं। जबकि, अमेरिका की नेली कोर्डा ने गोल्ड पर कब्जा जमाया। ये भी पढ़ें:- Tokyo Olympics 2022 Ind Vs Pak : भारत-पाक के बीच आज इस प्रतियोगिता में होगा फाइनल मुकाबला, तैयार हैं आप ? भारत… Continue reading पदक से चूक गई भारतीय गोल्फर Aditi Ashok, हासिल किया चौथा स्थान

Deepak Poonia के कोच पर लिया गया बड़ा एक्शन, मैच हारने के बाद रैफरी से की थी मारपीट

नई दिल्ली | Tokyo Olympics 2020: दीपक पूनिया (Deepak Punia) के विदेशी कोच मुराद गैदारोव (Deepak Punia Coach) को रैफरी के साथ मारपीट करने के लिये टोक्यो ओलंपिक से बाहर करने देने के बाद भारतीय कुश्ती महासंघ (डब्ल्यूएफआई) ने भी बर्खास्त कर दिया है। पूनिया के कांस्य पदक के प्ले-ऑफ में यह रैफरी मौजूद था। इस मैच में दीपक पूनिया हार गये थे। ये मुकाबला हारने के बाद पूनिया के कोच गैदारोव मैच रैफरी के कमरे में गये और उनके साथ मारपीट कर डाली। ये भी पढ़ें:- फिर दूर हुआ Gold! सेमीफाइनल हार गए पहलवान Bajrang Punia, अब जीतना चाहेंगे ब्राॅन्ज मारपीट के घटना के बाद खेल गांव में भी चर्चा फैल गई। बाद मेंयूनाईटेड विश्व कुश्ती (यूडब्ल्यूडब्ल्यू) ने डब्ल्यूएफआई को अनुशासनात्मक सुनवाई के लिये बुलाया और मैच रैफरी पर प्रतिबंध लगाने की तैयारी की जा रही थी। लेकिन डब्ल्यूएफआई के महासचिव विनोद तोमर ने मामला संभाला। महासचिव विनोद तोमर ने इस बारे बताया कि, हमने उन्हें आश्वस्त किया कि गैदारोव को तुरंत प्रभाव से बर्खास्त कर दिया जायेगा। ऐसे में हम प्रतिबंध से बाल-बाल बचे हैं। ये भी पढ़ें:- 50 करोड़ टीके लगे, 29 फीसदी आबादी को टीके की एक डोज ‘एक्रीडिटेशन’ किया गया रद्द महासचिव के अनुसार, गैदारोव को भारत… Continue reading Deepak Poonia के कोच पर लिया गया बड़ा एक्शन, मैच हारने के बाद रैफरी से की थी मारपीट

फिर दूर हुआ Gold! सेमीफाइनल हार गए पहलवान Bajrang Punia, अब जीतना चाहेंगे ब्राॅन्ज

नई दिल्ली | Tokyo Olympics 2020: भारत के करोड़ों लोगों की गोल्ड जीतने की उम्मीदों को उस समय बड़ा झटका लगा जब भारत के पहलवान बजरंग पूनिया (Wrestler Bajrang Punia) टोक्यो ओलंपिक 2020 में पुरुष फ्रीस्टाइल 65 किग्रा वर्ग के सेमीफाइनल मुकाबले में हार गए। बजरंग ने मुकाबले में बेहतर तरीके से शुरुआत की थी और एक अंक बटौर भी लिया था। लेकिन अजरबैजान के हाजी अलियेव ने वापसी करते हुए चार अंक बटोर लिए और बजरंग पिछड़ते चले गए। इसके बाद हाजी अलियेव ने ये मुकाबला 12-5 से जीत लिया। ये भी पढ़ें:- खेल रत्न के नाम के साथ कश्मीर में ये भी बदलेगा, सोशल मीडिया में खुशी का लहर… बता दें कि टोक्यो ओलंपिक में बजरंग पूनिया (Wrestler Bajrang Punia) से सभी देशवासियों को गोल्ड मेडल जीतने की उम्मीद सबसे ज्यादा थी। इस हार के बाद भी बजरंग पूनिया के पास अब ब्राॅन्ज मेडल जीतना का एक और मौका है। जिसे बजरंग को भुनाना ही होगा और भारत को पदक दिलाना ही होगा, ऐसी सभी खेल प्रेमियों की इच्छा है। ये भी पढ़ें:- महेंद्र सिंह धोनी के फैंस को लगा बड़ा झटका, ट्विटर ने ऑफिशियल अकाउंट से हटाया ब्लू टिक भारत की झोली में अब तक पांच मेडल आपको बता… Continue reading फिर दूर हुआ Gold! सेमीफाइनल हार गए पहलवान Bajrang Punia, अब जीतना चाहेंगे ब्राॅन्ज

खेल रत्न पुरस्कार का नाम बदलने पर ट्रोल हुई पीएम मोदी, यूजर्स बोले मोटेरा स्टेडियम का नाम किस महान खिलाड़ी के नाम पर…

पीएम मोदी की इस घोषणा का जहां लोगों ने खुले दिल से स्वागत किया. वहीं कुछ लोगों ने इस घोषणा पर पीएम मोदी को ट्रोल करना शुरू कर दिया. लोग सोशल मीडिया और ट्विटर पर

रेसलिंग में भारतीय पहलवान Bajrang Punia की दमदार जीत, गोल्ड मेडल की ओर बढ़ाया कदम

नई दिल्ली | Tokyo Olympics 2020: टोक्यो ओलंपिक 2020 में आज शुक्रवार को भले ही हाॅकी टीम पदक नहीं जीत पाई हो, लेकिन रेसलिंग में भारतीय पहलवान बजरंग पूनिया (Bajrang Punia) ने जीत हासिल कर भारत के लिए गोल्ड मेडल की उम्मीद जगा दी है। बजरंग पूनिया पहले राउंड में किर्गिस्तान के अरनाजर अकमातालिव को 3-1 हराकर क्वार्टर फाइनल (Bajrang Punia Reaches Quarter-Finals) में पहुंच गए हैं। बजरंग पूनिया भारत की सबसे बड़ी उम्मीद हैं और गोल्ड मेडल के प्रबल दावेदार माने जा रहे हैं। ये भी पढ़ें:- रवि दहिया ने लिख दिया इतिहास में नाम, ओलंपिक कुश्ती में रजत पदक जीतने वाले दूसरे भारतीय बने Bajrang Punia Reaches Quarter-Finals: आज भारतीय पहलवान बजरंग पूनिया का मुकाबला 65 किग्रा फ्रीस्टाइल में किर्गिस्तान के अरनाजर अकमातालिव हुआ और बजरंग ने अपना दमदार प्रदर्शन दिखाया। अब कुश्ती के दंगल में सभी की निगाहें बजरंग पूनिया पर टिकी है। ये भी पढ़ें:- जीत के करीब पहुंच कर हारी भारतीय महिला हाॅकी टीम, Tokyo Olympics में मिला चौथा स्थान, सपना टूटा पर हौसला बढ़ा महिला पहलवान हारी वहीं दूसरी ओर, महिला पहलवान ने निराष किया है। अपना पहला ओलंपिक खेल रही भारतीय पहलवान सीमा बिस्ला 50 किलोवर्ग के पहले दौर में ट्यूनीशिया की सारा हमदी से… Continue reading रेसलिंग में भारतीय पहलवान Bajrang Punia की दमदार जीत, गोल्ड मेडल की ओर बढ़ाया कदम

जीत के करीब पहुंच कर हारी भारतीय महिला हाॅकी टीम, Tokyo Olympics में मिला चौथा स्थान, सपना टूटा पर हौसला बढ़ा

नई दिल्ली | Tokyo Olympics 2020: टोक्यो ओलंपिक 2020 में भारतीय महिला हाॅकी टीम को आज शुक्रवार को हार (Indian Woman Lost Victory) का सामना करना पड़ा है। महिला खिलाड़ियों ने मैच में शानदार प्रदर्शन किया और जीत के करीब भी थी, लेकिन वे भारत को मेडल नहीं दिला पाई और ब्रिटेन से 4-3 से हार गई। भारतीय महिला टीम अगर ये मैच जीत जाती तो भारत की झोली में एक और ब्रॉन्ज मेडल आ सकता था। इसी के साथ भारतीय महिला हाॅकी टीम का टोक्यो ओलंपिक सफर समाप्त हो गया है। भातरीय टीम इस ओलंपिक में चौथे स्थान पर रही। ये भी पढ़ें:- भारत का वह हॉकी खिलाड़ी जो ओलंपिक में मेजर ध्यानचंद से भी ज्यादा गोल करता था, उसे अपने टीबी के इलाज के लिए मैडल बेचने पड़े भारतीय लड़कियों ने मैच में दमदार प्रदर्शन किया और ब्रिटेन के पसीने छुड़ा दिए लेकिन भारत बड़े मौके से चूक (Indian Woman Lost Victory) गया। नवजोत ने भरपूर कोशिश की थी। वह ब्रिटेन के गोल पोस्ट तक पहुंच भी गई थीं, लेकिन गोल नहीं हो पाया। टीम ने ग्रुप स्टेज के आखिरी दो मैचों में शानदार वापसी करते हुए अगले राउंड में जगह बनाई थी। महिला खिलाड़ियों के बुलंद हौसले… Continue reading जीत के करीब पहुंच कर हारी भारतीय महिला हाॅकी टीम, Tokyo Olympics में मिला चौथा स्थान, सपना टूटा पर हौसला बढ़ा

ओलंपिक का श्रेय लेने की होड़

टोक्यो ओलंपिक में भारत को चार पदक मिल गए हैं और पांचवां पदक पक्का हो गया है। इस लिहाज से 2012 के लंदन ओलंपिक के प्रदर्शन को दोहराने से भारत सिर्फ एक कदम दूर है। उस साल भारत को कुल छह पदक मिले थे।

और लोड करें