जय हो हिंदू राजा मोदी की!

हम हिंदू धन्य हुए! 138 करोड़ भारतीयों का अहोभाग्य, जिनके राजा ने बड़े दिन क्या खूब बड़ा दिल दिखाया! प्रभु यीशु के दिन सांता क्लॉज को मात दे डाली

ट्रंप अब भी एक संकट

भारत में कोरोना वायरस के संक्रमितों की संख्या पिछले छह दिन से लगातार 30 हजार से नीचे रह रही है। 11 दिसंबर के बाद अभी तक यह संख्या 30 हजार के आंकड़े के ऊपर नहीं गई है।

ट्रंप ने निभाई दोस्ती!

जाते- जाते ट्रंप प्रशासन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ अपनी दोस्ती निभाई है। अमेरिकी विदेश मंत्रालय की धार्मिक स्वतंत्रता रिपोर्ट में इस बार भारत का नाम उन देशों में नहीं है, जिनके रिकॉर्ड पर अमेरिका ने सवाल उठाए हैँ।

अमेरिका में आज मतदान

अमेरिका में मतदान का दिन आ गया है। तीन नवंबर को दुनिया के सबसे पुराने लोकतांत्रिक देशों में से एक अमेरिका में राष्ट्रपति का चुनाव संपन्न होगा। अमेरिका कानूनों के मुताबिक कई दिन से मतदान चल रहा है

दांव पर दुनिया का भविष्य!

आज यानी तीन नवंबर को अमेरिका में मतदान का आखिरी दिन है। भारत और अमेरिका के मतदान में यह एक बड़ा फर्क है। भारत में जिस दिन मतदान की तारीख तय की जाती है, उसी दिन वोट डाले जाते हैं।

अमेरिका से बेचैन है दिल!

हाल-फिलहाल ऐसे असंख्य लोग दुनिया में हैं, जो अमेरिका को ले कर लगातार सोच रहे हैं। बेचैन हैं। चिंता में होंगे कि डोनाल्ड ट्रंप हारेंगे या नहीं? अमेरिकी जनता को सद्बुद्धि आएगी या नहीं?

मुद्दे तो अब साफ हैं

अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान होने में अब एक हफ्ते से भी कम वक्त है। कोरोना महामारी के बावजूद प्रचार जोरों पर है। राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप और डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीद जो बाइडेन के बीच परंपरागत बहसें हो चुकी हैं।

कानून के ऊपर कोई नहीं

इस सदी के आरंभ में मशहूर आईटी कंपनी माइक्रोसॉफ्ट के खिलाफ हुई कार्रवाई जिन लोगों को याद है, उनके लिए इस खबर में कोई हैरत की बात नहीं है। अमेरिका में कंपनी चाहे जितनी बड़ी हो, अनुचित कारोबार या एकाधिकार कायम करने की छूट उसे नहीं मिलती।

पहली बहस में ट्रंप-अमेरिका की हकीकत

अमेरिका में राष्ट्रपति पद के चुनाव के दौरान दोनों प्रतिद्वंदियो के बीच होने वाली बहस का प्रसारण दशकों से पूरी दुनिया के लिए बहुत लोकप्रिय व चर्चित रहा है।

ट्रंप और बाइडन की शाब्दिक मुक्केबाजी

गनीमत है कि चुनावी बहस के दौरान डोनाल्ड ट्रंप और जो बाइडन के बीच मारपीट नहीं हुई लेकिन एक-दूसरे की टांग-खिंचाई में दोनों ने कोई कमी नहीं छोड़ी। अमेरिका में यह एक अच्छा रिवाज है कि राष्ट्रपति के चुनाव में खड़े दोनों उम्मीदवारों के बीच टीवी चैनल पर खुली बहस होती है, जिसे करोड़ों अमेरिकी मतदाता बड़े चाव से देखते हैं।

एक कौवा, एक ट्रंप और खत्म अमेरिका!

उफ! देश की ऐसी तबाही! न्यूयॉर्क, लंदन, पेरिस के तमाम विचारवान विश्व के सर्वाधिक ज्ञानवान, सच्चे लोकतंत्र की बरबादी से गमगीन हैं। स्वतंत्रचेता लोगों की मशाल के बुझने की चिंता है। सिर्फ साढ़े तीन साल उस्तरा लिए एक लंगूर और ढाई सौ साल पुराना लोकतंत्र ओबीच्युरी की और

ट्रंप-बाइडेन की पहली बहस में विवाद

अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव से पहले उम्मीदवारों के बीच होने वाली पारंपरिक बहस में मंगलवार को पहली बार राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उन्हें चुनौती दे रहे डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडेन आमने-सामने हुए।

वायरस को लेकर चीन पर ट्रंप का हमला

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कोरोना वायरस को लेकर चीन पर तीखा हमला किया है। उन्होंने चीन पर कार्रवाई का संकेत देते हुए कहा कि अगर चीन चाहता तो वह इस वायरस को अपने देश से बाहर नहीं निकलने देता।

डोनल्ड ट्रंप की मारक नीति

डोनल्ड ट्रंप प्रशासन ने पिछले महीने एच-1बी और एल श्रेणी के रोजगार वीजा के लिए नए आवेदनों पर साल के अंत तक प्रतिबंध लगा दिया।

अमेरिकी हिंदू समझेंगे या बुद्धि फिरी रहेगी?

इस्लाम ने क्योंकि डोनाल्ड ट्रंप को सत्ता दिलाई तो मुसलमान से डरे-परेशान हिंदुओं के लिए ट्रंप 2016 में अवतार थे। ट्रंप के जन्मदिन पर हिंदू केक काटते दिखलाई दिए थे।

और लोड करें