Rajasthan BJP उतरी बंगाल हिंसा के विरोध में, कहा- गुंडा धर्म की पालना से नहीं बचेगा लोकतंत्र

जयपुर। पश्चिम बंगाल में चुनावी ( West Bengal Election 2021 ) नतीजे आने के बाद खूनी खेला शुरू हो गया. चुनाव के नतीजों के बाद बंगाल के अलग-अलग इलाकों में हो रही हिंसा के विरोध में भारतीय जनता पार्टी देशभर में धरना-प्रदर्शन कर रही है. इसी कड़ी में राजस्थान भारतीय जनता पार्टी की ओर से प्रदेश कार्यालय पर धरना प्रदर्शन कर आक्रोश व्यक्त किया गया. बंगाल में जब ममता बनर्जी ( Mamata Banerjee ) ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली, तभी भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा इस विरोध प्रदर्शन की अगुवाई कर रहे थे. राजस्थान ( Rajasthan BJP ) में भी जयपुर स्थित भाजपा प्रदेश कार्यालय के बाहर भाजपा नेताओं ने धरना प्रदर्शन किया. भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ( Satish Poonia ) के नेतृत्व में नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया और उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ संगठन महामंत्री चंद्रशेखर सांसद रामचरण बोहरा सहित अन्य नेता मौजूद रहे. भाजपा नेताओं ने टीएमसी पर पश्चिमी बंगाल में हिंसा फैलाने का आरोप लगाया. यह भी पढ़ेंः – Corona के गहराते संकट से मजबूर होकर Congress leader राहुल गांधी को PM को फिर लिखना पड़ा पत्र ऐसी घटनाएं करती है लोकतंत्र को शर्मसार भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा कि टीएमसी के कार्यकर्ताओं ने भाजपा नेताओं… Continue reading Rajasthan BJP उतरी बंगाल हिंसा के विरोध में, कहा- गुंडा धर्म की पालना से नहीं बचेगा लोकतंत्र

पहली बार मोदी-शाह पर उठा सवाल

नरेंद्र मोदी और अमित शाह के राष्ट्रीय राजनीति में सक्रिय होने और एक के बाद एक चुनाव जीतते जाने के क्रम में पहली बार ऐसा हुआ है कि उनके ऊपर सवाल उठा है। उनकी रैलियों पर सवाल उठा है और उनके प्रचार के तरीके पर भी सवाल उठा है। यहां तक कि उम्मीदवारों के चयन को लेकर भी दोनों पर सवाल उठे हैं। पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव में ममता बनर्जी को हरा पाने में बुरी तरह से विफल होने के बाद प्रदेश भाजपा के नेताओं ने ही मोदी और शाह दोनों पर सवाल उठाए हैं। जानकार सूत्रों का कहना है कि पार्टी के कई नेताओं ने पहले ही केंद्रीय नेतृत्व को बता दिया था कि बंगाल में क्या नतीजा आना है। यह भी कहा जा रहा है कि प्रदेश भाजपा के किसी नेता को मोदी और अमित शाह के जीत के दाव पर भरोसा नहीं था। भाजपा के एक नेता ने मीडिया से अनौपचारिक बातचीत में कहा कि प्रधानमंत्री मोदी और अमित शाह को बंगाल में इतनी रैलियां करने की जरूरत नहीं थी। उसने कहा कि ये दोनों नेता डेली पैसेंजर की तरह बंगाल आ रहे थे, जिसका आम लोगों में अच्छा असर नहीं हो रहा था। भाजपा के… Continue reading पहली बार मोदी-शाह पर उठा सवाल

एनसीपी कि बेचैनी बढ़ रही है

पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी की जीत से भाजपा के नेता तो परेशान है ही लेकिन ममता बनर्जी के प्रति सद्भाव रखने वाली कुछ पार्टियों के नेता भी कम परेशान नहीं हैं। महाराष्ट्र की महा विकास अघाड़ी सरकार में शामिल एनसीपी को भी बड़ी परेशानी है। तभी ममता बनर्जी की जीत के दो दिन बाद जैसे ही संघीय मोर्चा बनाए जाने की चर्चा शुरू हुई वैसे ही एनसीपी की ओर से एक बयान जारी करके कहा गया कि शरद पवार देश की विपक्षी पार्टियों को एकजुट करने का प्रयास करते रहेंगे। शरद पवार की अभी तबियत ठीक नहीं है। उनके गॉल ब्लैडर का ऑपरेशन हुआ था और उसके बाद मुंह का अल्सर बढ़ गया था, जिसका दोबारा ऑपरेशन हुआ। इसलिए वे अभी आराम कर रहे हैं। इसके बावजूद उनकी पार्टी ने यह बयान दिया कि वे विपक्ष को एकजुट करने का प्रयास करते रहेंगे। सोचें, इस समय विपक्ष को एकजुट करने का प्रयास करने की क्या जरूरत है, जब लोकसभा का चुनाव तीन साल के बाद होना है? असल में यह बयान इस चिंता में दिया गया कि विपक्ष का सर्वमान्य नेता होने की कसौटी पर अब ममता बनर्जी ज्यादा मजबूती से खड़ी दिख रही हैं। उन्होंने आमने-सामने की निर्णायक… Continue reading एनसीपी कि बेचैनी बढ़ रही है

सरकार का इकबाल कहां चला गया?

कहते हैं कि राम से बड़ा उनका नाम होता है। देश की सत्तारूढ़ पार्टी ने यह साबित किया है। आखिरी राम का नाम लेकर ही वह देश की सत्ता में है और बंगाल में भी चुनाव लड़ रही है। बहरहाल, इसी तरह सरकार से बड़ा उसका इकबाल होता है। आज पूरी दुनिया में किसी अमेरिकी नागरिक की तरफ आंख उठा कर देखने से पहले कोई भी व्यक्ति हजार बार सोचता है। लेकिन भारत में किसी भारतीय की जान की कोई कीमत ही नहीं है। इराक से लेकर अफगानिस्तान तक भारतीय नागरिक अगवा हो जाते हैं और महीनों तक उनका अता-पता नहीं होता है। बहरहाल, अभी असम में उल्फा के आतंकवादियों ने ओएनजीसी के छह कर्मचारियों को बंधक बना लिया है। अभी कुछ दिन पहले छत्तीसगढ़ में नक्सलियों ने सीआरपीएफ के एक कमांडो को बंधक बना लिया था और पूरी जन पंचायत लगा कर उसे रिहा किया। उधर पूर्वी लद्दाख में चीन ने भारत की जमीन कब्जा कर ली है और छोड़ने से इनकार कर रहा है। पहले तो बातचीत भी कर रहा था लेकिन अब दो टूक अंदाज में कह दिया है कि भारत को जितना मिल गया है उतने में ही खुश रहे। सोचें, चीन ने भारत को धकेल… Continue reading सरकार का इकबाल कहां चला गया?

सीटों की ताजा भाजपाई हवाबाजी!

भारतीय जनता पार्टी के पूर्व अध्यक्ष और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने दावा किया है कि पश्चिम बंगाल में पांच चरण में जिन 180 सीटों पर मतदान हुआ है उसमें से भाजपा 122 जीत चुकी है। उनसे पहले चौथे चरण तक 135 सीटों के मतदान के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दावा किया था कि भाजपा शतक लगा चुकी है। इसका मतलब है कि पांचवें चरण की 45 में से भाजपा अधिकतम 22 सीट जीतने का दावा कर रही है। पहले तीन चरण के मतदान में भाजपा ने बड़े दावे किए थे लेकिन चौथे और पांचवें चरण में भाजपा ने पहले के मुकाबले कम सीटें जीतने का दावा किया। देश के प्रधानमंत्री और गृह मंत्री दोनों जिस पोजिशन में हैं वहां बैठे नेता का इतना सटीक दावा कई सवाल खड़े करता है। जैसे यह कि आखिर दोनों इतने पक्के तौर पर सीटों की संख्या कैसे बता रहे हैं? अगर सचमुच इतनी ही सीटें आईं तो क्या इससे यह आरोप नहीं लगेगा कि ईवीएम से छेड़छाड़ हुई है और इसलिए सरकार को पहले से पता था कि सरकारी पार्टी कितनी सीटें जीतेगी? यह भी सवाल है कि अगर इतनी सीटें नहीं आती हैं तो क्या झूठे, गलत या भ्रामक दावे… Continue reading सीटों की ताजा भाजपाई हवाबाजी!

ज्यादा बड़ी लड़ाई बंगाल की है!

सब लोग पूछ रहे हैं कि प्रधानमंत्री कोरोना वायरस से लड़ाई पर ध्यान क्यों नहीं दे रहे हैं? क्यों वे पश्चिम बंगाल की चुनावी लड़ाई को ज्यादा तरजीह दे रहे हैं? क्यों वे तमाम आलोचनाओं से बेपरवाह पश्चिम बंगाल में रैलियां कर रहे हैं? पिछली बार यानी कोरोना वायरस की पहली लहर के समय प्रधानमंत्री ने खुद कमर कसी थी और कोरोना के खिलाफ जंग की कमान संभाली थी। उन्होंने कई बार टेलीविजन पर आकर देश को संबोधित किया। लोगों को ढाढस बंधाई। ताली-थाली बजवाए और दीये भी जलवाए। जैसा भी हो एक आर्थिक पैकेज भी घोषित कराया। लेकिन इस बार ऐसा कुछ नहीं हो रहा है। इस बार प्रधानमंत्री मुख्य रूप से पश्चिम बंगाल में चुनाव प्रचार कर रहे हैं और उससे फुरसत मिलने पर कभी कभार अधिकारियों, मंत्रियों, मुख्यमंत्रियों और राज्यपालों के साथ बैठक कर ले रहे हैं। केंद्रीय गृह मंत्री, जिन्होंने पहली लहर में कोरोना संक्रमित होने के बावजूद वायरस के खिलाफ जंग में सक्रिय भूमिका निभाई थी और अस्पतालों तक का दौरा किया था, वे भी इस बार चुनाव प्रचार में ही बिजी हैं। सवाल है कि क्या नरेंद्र मोदी और अमित शाह यह नहीं समझ रहे हैं कि देश के सामने कोरोना वायरस का बहुत… Continue reading ज्यादा बड़ी लड़ाई बंगाल की है!

मतदान के दिन रैलियों पर रोक हो

वैसे तो चुनाव से जुड़े अनेक नियम और आचार संहिता के अनेक मुद्दे हैं, जिनमें बदलाव की सख्त जरूरत है लेकिन मतदान के दिन बड़े नेताओं के रैली करने का मुद्दा ऐसा है, जिस पर तत्काल रोक लगनी चाहिए। मतदान के दिन होने वाली रैलियां, रोड शो और चुनाव प्रचार वोटिंग को तो प्रभावित करता ही है साथ स्वतंत्र व निष्पक्ष चुनाव की संभावना को भी कम करता है। इसके अलावा मतदान के दिन होने वाली रैलियों से हिंसा फैलने की संभावना अन्य दिनों के मुकाबले ज्यादा होती है। पहले भी कई चरण में मतदान होते थे लेकिन मतदान को प्रभावित करने के लिए वोटिंग के दिन रैलियां करने का चलन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुरू किया। जिस दिन मतदान होता है उस दिन वे अगले चरण के मतदान वाले किसी क्षेत्र में रैली करने पहुंच जाते हैं। जैसे शनिवार यानी 17 अप्रैल को पश्चिम बंगाल में पांचवें चरण का मतदान चल रहा था और उस दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने दो चुनावी रैलियों को संबोधित किया। इससे पहले भी तीन चरण के मतदान के दिन उन्होंने रैली की और एक चरण के मतदान के दिन बांग्लादेश में भाषण आदि दिए। उसका भी एक मकसद मतदान को ही प्रभावित करना था।… Continue reading मतदान के दिन रैलियों पर रोक हो

Bengal Election 2021 : चुनाव आयोग के खिलाफ सीएम ममता बनर्जी धरने पर बैठी, TMC सांसद ने कहा लोकतंत्र के लिए काला दिन

Kolkata: बंगाल में चुनाव के दौरान भी पार्टियों द्वारा लगातार मतदाताओं के लुभाने का प्रयास किया जा रहा है. लेकिन चुनाव आयोग (Election comission)  ने सख्ती दिखाते हुए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamta Banerjee)  पर 24 घंटे के लिए प्रचार करने पर रोक लगा दी थी. इसके बाद से लगातार ममता बनर्जी ने आयोग पर हमला बोला था. लेकिन ताजा जानकारी के अनुसार अब वे आयोग के खिलाफ धरने पर बैठ गई हैं सीएम ममता कोलकाता (Kolkata) में गांधी मूर्ति के पास धरना दे रही हैं. हालांकि  इस संबंध में  ममता ने एक दिन पूर्व ही धरना देने की जानकारी दे दी थी.इसके बाद भी अब तक आयोग की ओर से कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है. माना जा रहा है कि ममती बनर्जी के इस कदम के बाद से आयोग पर भी दबाव बढ़ेगा. हिन्दू-मुस्लिम वाले बयान पर हुई थी कार्रवाई बता दें कि ममता बनर्जी पर आयोग की ये कार्रवाई  हिन्दू-मुस्लिम वाले बयान पर की है. 8 अप्रैल को हुगली में ममता बनर्जी ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा था कि  मुस्लिम वोटों को बंटने नहीं देना है. उन्होंने कहा था कि भाजपा ये चाहती है कि मुस्लीमों के वोट बंटे और इसका फायदा भाजपा… Continue reading Bengal Election 2021 : चुनाव आयोग के खिलाफ सीएम ममता बनर्जी धरने पर बैठी, TMC सांसद ने कहा लोकतंत्र के लिए काला दिन

West Bengal Election 2021 : तीसरे चरण में शाह ने घटा दी सीटें!

पश्चिम बंगाल में तीसरे चरण के मतदान में क्या भाजपा को पहले से कम सीटें आ रही हैं? अमित शाह की भविष्यवाणी से तो कम से कम ऐसा ही लग रहा है। चूंकि चुनाव आयोग ने एक्जिट पोल पर रोक लगा रखी है इसलिए बंगाल के चुनाव नतीजों के बारे में समझने के लिए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की भविष्यवाणी ही एकमात्र सहारा है। उन्होंने तीसरे चरण के मतदान के बाद भविष्यवाणी करते हुए बताया कि तीन चरण की 90 सीटों में से भाजपा को 63 से 68 सीट मिल सकती है। सोचें, उनको किसी प्रशांत किशोर जैसे चुनाव रणनीतिकार की क्या जरूरत है, जब वे खुद हर चरण के बाद इतनी बारीकी से सीटों की संख्या बता रहे हैं! बहरहाल, पहले चरण की 30 सीटों के बाद उन्होंने कहा था कि भाजपा 26 सीट जीतेगी। दूसरे चरण में 30 सीटों के मतदान के बाद कहा कि 24 सीट जीतेगी, भाजपा। इस तरह पहले दो चरण की 60 सीटों में से उन्होंने भाजपा के 50 सीट जीतने की भविष्यवाणी की। लेकिन तीसरे चरण के बाद आंकड़ा 63 से 68 का रहा। इसका मतलब है कि अमित शाह की नजर में तीसरे चरण में भाजपा की स्थिति पहले पहले जैसी… Continue reading West Bengal Election 2021 : तीसरे चरण में शाह ने घटा दी सीटें!

ममता के खिलाफ मोदी का माइंड गेम

क्रिकेट के बारे में दशकों पहले सुनील गावसकर ने कहा था कि यह माइंड गेम है। सब मानते हैं कि क्रिकेट स्किल का गेम है लेकिन जो कप्तान विरोधी टीम के दिमाग के खेलना जान गया वह सबसे सफल होता है। वहीं राजनीति और खास कर चुनाव के खेल में भी हो रहा है। बुनियादी रूप से चुनाव लोकप्रिय समर्थन के आधार पर जीता या हारा जाता है। लेकिन जो नेता विरोधियों के दिमाग से खेलना जान जाता है वह सफल होता है। हालांकि यह सफलता का अंतिम सूत्र नहीं है फिर भी बेहद कारगर है, खास कर वहां जहां किसी पार्टी के पास जन समर्थन कम है। जन समर्थन की कमी की भरपाई माइंड गेम से की जाती है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके गृह मंत्री अमित शाह यही खेल पश्चिम बंगाल में खेल रहे हैं। भाजपा के पास बंगाल में जन समर्थन कम है, संगठन बिल्कुल नहीं है और जमीनी स्तर पर मजबूत नेताओं की भारी कमी है। मोदी और शाह इसकी भरपाई बयानों से कर रहे हैं। बार बार तृणमूल कांग्रेस की ओर से कहा जा रहा है कि मोदी और शाह का माइंड गेम बंगाल में नहीं चलेगा, लेकिन इसका पता चुनाव नतीजों से ही चल… Continue reading ममता के खिलाफ मोदी का माइंड गेम

ममता को चुनाव आयोग से नोटिस

नयी दिल्ली। चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री एवं तृणमूल कांग्रेस की नेता ममता बनर्जी को हुगली में चुनाव रैली के दौरान कथित तौर पर सांप्रदायिक आधार पर मतदाताओं से अपील करने के लिए बुधवार को एक नोटिस जारी किया है। उनसे 48 घंटे के भीतर नोटिस पर जवाब देने को कहा गया है। नोटिस में कहा गया कि चुनाव आयोग को भाजपा के प्रतिनिधिमंडल से शिकायत मिली है जिसमें आरोप लगाया है कि तीन अप्रैल को, बनर्जी ने हुगली में ताराकेश्वर की चुनाव रैली के दौरान मुस्लिम मतदाताओं से की कि उनका वोट विभिन्न दलों में न बंटने दें। चुनाव आयोग ने पाया है कि उनका भाषण जन प्रतिनिधित्व कानून और आचार संहिता के प्रावधानों का उल्लंघन करता है।

सभी राज्यों में शांति मतदान

नई दिल्ली। पांच राज्यों में मंगलवार को हुए मतदान के दौरान शाम तक पश्चिम बंगाल में 78 प्रतिशत, असम में 80 प्रतिशत, केरल में 73 प्रतिशत, तमिलनाडु में 65 से 70 प्रतिशत के बीच और पुड्डुचेरी में 78 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए मंगलवार को तीसरे चरण के मतदान के दौरान दो महिलाओं सहित पांच उम्मीदवारों पर हमला हुआ और कई स्थानों पर प्रतिद्वंद्वी राजनीतिक समूह के बीच झड़प भी हुई। हिंसा के बावजूद मतदाताओं ने बढ़-चढ़कर मतदान में हिस्सा लिया और मतदान खत्म होने से दो घंटे पहले शाम पांच बजे तक 77.68 प्रतिशत मतदान हुआ। अधिकारियों ने बताया कि मतदान के दौरान कोविड-19 के दिशा-निर्देशों का पूरी तरह पालन किया गया। अधिकारियों ने बताया कि शाम पांच बजे तक प्रदेश के दक्षिण 24 परगना जिले (भाग दो) की 16 सीटों पर 76.68 प्रतिशत, हावड़ा (भाग एक) की सात सीटों पर 77.93 प्रतिशत और हुगली (भाग एक) की आठ सीटों पर 79.36 प्रतिशत मतदान हुअ। चुनाव आयोग के एक अधिकारी ने कहा, ‘‘ 31 सीटों पर शाम पांच बजे तक 77.68 प्रतिशत मतदान हुआ।’’ प्रदेश की मुख्यमंत्री एवं तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष ममता बनर्जी ने ‘‘मतदाताओं को प्रभावित’’ करने के लिये… Continue reading सभी राज्यों में शांति मतदान

West Bengal Assembly Elections 2021: मोदी, शाह पर ममता ने लगाए बड़े आरोप

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पर सिंडिकेट चलाने का आरोप लगाया है और कहा है कि दोनों विपक्षी पार्टियों को डराने का काम कर रहे हैं। ममता ने आरोप लगाया कि ये दोनों नेता केंद्रीय एजेंसियों की मदद से विपक्षी पार्टियों को डराने की कोशिश कर रहे हैं। दूसरी ओर भाजपा नेताओं ने भी प्रेस कांफ्रेंस करके रविवार को ममता के ऊपर तीखा हमला किया। पहले मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने हावड़ा में रैली के दौरान कहा- मोदी सिंडिकेट एक और अमित शाह सिंडिकेट दो हैं। दोनों सेंट्रल एजेंसियों को अभिषेक, सुदीप और स्टालिन की बेटी के घर भेज रहे हैं। विपक्ष को डराने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि चुनाव के दौरान पुलिस अधिकारियों के तबादले किए जा रहे हैं। ममता ने अपने पुराने आरोप दोहराते हुए कहा- कुछ गुजराती उत्तर प्रदेश और बिहार से गुंडे भेजकर बंगाल पर कब्जा करना चाहती है। हम बंगाल को गुजरात की तरह नहीं बनने देंगे। भाजपा यहां सांप्रदायिक तनाव पैदा करना चाहती है। हम उन्हें उनके मकसद में कभी कामयाब नहीं होने देंगे। दूसरी ओर ममता पर पलटवार करते हुए भाजपा नेता शुभेंदु अधिकारी ने अरोप लगाया कि कोयला… Continue reading West Bengal Assembly Elections 2021: मोदी, शाह पर ममता ने लगाए बड़े आरोप

टीएमसी ज्यादा टूटी या भाजपा?

पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी की पार्टी ज्यादा टूटी है या भारतीय जनता पार्टी? दिल्ली में पत्रकार इसे एक बेवकूफाना सवाल समझेंगे पर पश्चिम बंगाल में जमीनी स्तर पर चुनाव कवर कर रहे स्थानीय पत्रकारों का मानना है कि राज्य में भाजपा ज्यादा टूटी और बिखरी है। उसका टूटना और बिखरना ज्यादा चर्चा में नहीं है तो उसके कई कारण हैं। सबसे  पहला कारण यह है कि भाजपा पश्चिम बंगाल में सिर्फ तीन विधायकों वाली पार्टी है। इसलिए अगर कोई विधायक नहीं टूटा तो वह मीडिया में बड़ी खबर नहीं होती है। ममता बनर्जी के पास सवा दो सौ विधायक थे और उनमें से कोई विधायक पार्टी छोड़ता था तो वह खबर बनती थी। दूसरा कारण मीडिया का रवैया है। अगर ममता बनर्जी के पार्टी ऑफिस से कोई कौवा उड़ कर भाजपा के दफ्तर पर बैठ जाए तब भी दिल्ली का मीडिया इसे ममता बनर्जी के लिए बड़ा झटका बताएगा। हकीकत यह है कि जमीनी स्तर पर भाजपा बहुत बिखरी हुई पार्टी है। नंदीग्राम में जहां सबसे बड़ी लड़ाई हुई है वहां भी भाजपा की लगभग पूरी जिला ईकाई ने अंदरखाने या खुल कर भाजपा प्रत्याशी शुभेंदु अधिकारी का विरोध किया। भाजपा के जिले के नेताओं का कहना था कि… Continue reading टीएमसी ज्यादा टूटी या भाजपा?

सुप्रीम कोर्ट के सम्मान की धज्जियां!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को केरल में चुनाव प्रचार करते हुए केरल के मुख्यमंत्री पी विजयन पर तीखा हमला किया और आरोप लगाया कि राज्य की वामपंथी सरकार धार्मिक स्थलों को अस्त-व्यस्त किया। उन्होंने सबरीमाला मंदिर के भक्तों को रोकने और उनके साथ सख्ती करने के लिए भी राज्य सरकार की आलोचना की। सोचें, एक राज्य के मुख्यमंत्री ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लागू करने के लिए सारे उपाय किए तो उसकी तारीफ करने की बजाय देश का प्रधानमंत्री इसके लिए उसकी आलोचना कर रहा है! सुप्रीम कोर्ट के पांच जजों की बेंच ने चार-एक के बहुमत से फैसला सुनाया था कि हर उम्र की महिला को मंदिर में प्रवेश की अनुमति होगी। सबरीमाला के भक्तों और मंदिर प्रबंधन ने इसका विरोध किया और युवा महिलाओं के प्रवेश करने से रोका। राज्य सरकार ने पूरी सख्ती करके सुप्रीम कोर्ट के आदेश का अनुपालन सुनिश्चित कराया। क्या इसके लिए मुख्यमंत्री की आलोचना हो सकती है? सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या में मंदिर निर्माण का फैसला सुनाया तो खुद प्रधानमंत्री ने जाकर शिलान्यास किया और सबरीमाला के मामले में राज्य सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन किया तो प्रधानमंत्री उसकी आलोचना कर रहे थे। अब भले सबरीमाला का मामला… Continue reading सुप्रीम कोर्ट के सम्मान की धज्जियां!

और लोड करें