nayaindia Mohan Bhagwat Inaugurated The Models Of Two Major Forts मोहन भागवत ने दो प्रमुख किलों के मॉडलों का किया उद्घाटन
ताजा पोस्ट

मोहन भागवत ने दो प्रमुख किलों के मॉडलों का किया उद्घाटन

ByNI Desk,
Share

मुंबई। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) ने अखिल महाराष्ट्र गियार्रोहण महासंघ (AMGM) द्वारा तैयार दो प्रमुख किलों-सिंधुदुर्ग और विजयदुर्ग के स्केल-मॉडल (Scale Model) का उद्घाटन किया। अधिकारियों ने गुरुवार को यह जानकारी दी। पर्वतारोहण की एक शीर्ष संस्था एएमजीएम ने राज्य में फैले 450 छोटे-बड़े किलों में से दो दर्जन से अधिक के मॉडल तैयार करने का प्रोजेक्ट हाथ में लिया है। इनमें से कुछ 600 साल पुराने हैं। सिंधुदुर्ग (Sindhudurg) के खूबसूरत तटीय शहर मालवन में बुधवार को उद्घाटन के मौके पर भागवत ने कहा, इन किलों को देखना अपने आप में एक प्रेरक अनुभव है। इस विरासत को संरक्षित करने के लिए प्रेरणा की भावना आती है। 

ये भी पढे़ं-http://कौशल विकास के लिए 36 स्कूल प्रधानाचार्य सिंगापुर जाएंगे : भगवंत मान

सांगली के मॉडेलर रमेश बहुरगी (Modeller Ramesh Bahurgi) ने एक साल में दो मॉडल तैयार किए। दोनों मजबूत, बड़े पैमाने पर फाइबर से बने, रहने और काम करने वाले क्षेत्रों, जल निकायों, हरियाली, आसपास की स्थलाकृति आदि जैसे सभी जटिल विवरणों को प्रदर्शित करते हुए इनमें से प्रत्येक की लागत 2.50 लाख रुपये आई है। ऐतिहासिक रूप से महत्वपूर्ण विजयदुर्ग और सिंधुदुर्ग किला महान मराठा योद्धा छत्रपति शिवाजी महाराज (Chhatrapati Shivaji Maharaj) की स्वराज्य की अवधारणा का एक अभिन्न अंग हैं। एएमजीएम के अध्यक्ष उमेश जिरपे ने कहा कि स्केल-मॉडल परियोजना के तहत पांच वर्षों में लगभग 25-30 और किले इस तरह से बनाए जाएंगे। जिरपे ने आईएएनएस को बताया, इन मॉडलों को मुंबई, पुणे, नासिक, औरंगाबाद, नागपुर, कोल्हापुर आदि जैसे प्रमुख शहरों में ले जाएंग, ताकि लोग अपने गौरवशाली विरासत को समझ सकें और इससे पहले कि बहुत देर हो जाए, उन्हें संरक्षित करने की आवश्यकता है। 

ये भी पढे़ं- http://पंजाब विधानसभा अध्यक्ष विधायकों को मातृभाषा के प्रति करेंगे जागरूक

एजीएम के हृषिकेश यादव, डॉ. ए राहुल वारंगे, वीरेंद्र वंजू, भूषण हर्षे, राजेश नेने और अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे। जिरपे ने कहा कि परियोजना के दौरान उन्हें पता चला कि राज्य में 450 से अधिक किलों में से, राज्य सरकार के पास केवल एक पुणे के सिंहगढ़ किले का आधिकारिक मानचित्र है। जिरपे ने कहा, शीर्ष आरकिटेक्चर्स की हमारी टीम ने दो किलों को पूरी तरह से नि: शुल्क तैयार किया, डिजाइन तैयार किए, और फिर स्केल-मॉडल बनाए। यह एक कठिन काम है और हमें लगता है कि सरकार को इसके संरक्षण के लिए उचित कदम उठाने चाहिए। एजीएम के सुयश मोकाशी ने कहा कि आने वाले समय में दुर्गों का चयन उनके ऐतिहासिक, भौगोलिक और सामरिक महत्व के आधार पर किया जाएगा, ताकि वे छात्रों, पर्यटकों आदि के लिए पैमाना-मॉडल बनाकर संग्रहालयों में प्रदर्शित कर सकें। मोकाशी ने कहा कि यह एक अनूठी और मेगा-पहल है क्योंकि कई किले पहाड़ी की चोटी पर, तटों पर, अरब सागर में, नदी के किनारे, जंगलों, कस्बों और शहरों में हैं, जो विभिन्न राजवंशों और अतीत में शासन करने वाले विभिन्न विदेशी शासकों द्वारा बनाए गए हैं। (आईएएनएस)

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

Naya India स्क्रॉल करें