mohan bhagwat

  • भागवत की गोरखपुर यात्रा का कौतुक

    लोकसभा चुनाव के नतीजों के बाद राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत गोरखपुर की यात्रा पर पहुंचे। वे बुधवार को संघ के एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए पहुंचे और कई दिन तक रूके। गोरखपुर में लंबे अरसे के बाद संघ का पथ संचलन हुआ, जिसका खुद मोहन भागवत ने मुआयना किया। उनकी इस यात्रा की सबसे अहम मगर अपुष्ट बात यह है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से उनकी मुलाकात हुई। बताया जा रहा है कि इस यात्रा के दौरान एक दिन दोनों एक साझा कार्यक्रम में शामिल हुए। उसके बाद रात में दोनों के बीच आधे घंटे...

  • मोहन भागवत से आज मिलेंगे CM योगी, नतीजों पर होगी चर्चा

    राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) प्रमुख मोहन भागवत और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज गोरखपुर में मुलाकात कर सकते हैं। लोकसभा चुनाव (LokSabha Election) में यूपी में बीजेपी को मिली करारी हार के बाद यह संभावित मुलाकात काफी महत्वपूर्ण है। लोकसभा चुनाव में बीजेपी की हार को लेकर दोनों के बीच चर्चा हो सकती है। लोकसभा चुनाव (LokSabha Election) में खराब प्रदर्शन को लेकर बीजेपी में मंथन का दौर चल रहा है। शुक्रवार को यूपी और महाराष्ट्र में मिली हार पर मंथन किया गया। इसी तरह से आज पंजाब और हरियाणा को लेकर बैठक होने वाली है। लोकसभा चुनाव...

  • मणिपुर हिंसा-चुनाव पर मोहन भागवत के बयान ने बढ़ाई सियासी हलचल

    नई दिल्ली। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) का बयान सामने आया है। गौर करने वाली बात यह है कि उन्होंने यह बयान ऐसे वक्त में दिया है, जब नरेंद्र मोदी ने तीसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ ली है और मंत्रालय का भी बंटवारा हो चुका है। ऐसे में उनके द्वारा दिए गए बयान की टाइमिंग ने सियासी हलचल तेज कर दी है।  इसके अलावा, उन्होंने अपने बयान में जिन विषयों का चयन किया है, वो भी बड़े पैमाने पर लोगों का ध्यान आकर्षित कर रहे हैं। दरअसल, मोहन भागवत ने कहा चुनाव सहमति बनाने...

  • संघ परिवार: क्षुद्र मानसिकता का प्रसार

    हिन्दी फिल्म उद्योग पर कोलतार पोतना संघ-परिवार की फूहड़ 'नरेटिव' योजना का ही ट्रेडमार्क नमूना है। उन का आईटी सेल अनाम पोस्टों द्वारा फिल्मी हस्तियों, गतिविधियों पर कीचड़ उछालता रहता है। इस के बावजूद कि फिल्मी दृश्यों, संवादों में वही संदेश या संकेत रहता रहा है, जो खुद गाँधीजी से लेकर आज के हिन्दू नेताओं‌ तक के प्रवचनों और औपचारिक शिक्षा में रहा है। जिसे संघ-भाजपा नेतृत्व भी दशकों से सोत्साह चला रहे हैं। पर वही संवाद किन्हीं फिल्मों में होने का उदाहरण देकर इसे 'ऊर्दूवुड' कह कर लांछित करवाते हैं। कुछ वर्षों से प्रोपेगंडा चल रहा है कि 'हिन्दी...

  • नरेंद्र भाई भूल गए थे कि बड़ा तो बड़ा ही होता है

    अटलजी तो अटलजी थे। जुगाड़ू सरकार का मुखिया बनाने के लिए उन की पालकी लोग अपने कंधों पर ख़ुशी-ख़ुशी लाद कर रायसीना पहाड़ी तक ले गए थे। नरेंद्र भाई तो लोगों के कंधों पर जबरन लद कर रायसीना पहाड़ी पहुंचे हैं। एक प्रचारक और दूसरे प्रचारक का यह फ़र्क़ सबसे बड़ा फ़र्क़ है।…यदि अब नरेंद्र भाई की चुनावी मुसीबत के वक़्त संघ ने भी चिकने घड़े का ज़ामा ओढ़ लिया है तो कुसूर किस का है? नरेंद्र भाई उम्र में मोहन जी 6 दिन छोटे हैं। और उन्हें मालूम होना चाहिए कि बड़ा-तो-बड़ा ही होता है। नरेंद्र भाई मोदी हमेशा...

  • आरक्षण के पक्ष में उतरे भागवत

    अटलजी तो अटलजी थे। जुगाड़ू सरकार का मुखिया बनाने के लिए उन की पालकी लोग अपने कंधों पर ख़ुशी-ख़ुशी लाद कर रायसीना पहाड़ी तक ले गए थे। नरेंद्र भाई तो लोगों के कंधों पर जबरन लद कर रायसीना पहाड़ी पहुंचे हैं। एक प्रचारक और दूसरे प्रचारक का यह फ़र्क़ सबसे बड़ा फ़र्क़ है।…यदि अब नरेंद्र भाई की चुनावी मुसीबत के वक़्त संघ ने भी चिकने घड़े का ज़ामा ओढ़ लिया है तो कुसूर किस का है? नरेंद्र भाई उम्र में मोहन जी 6 दिन छोटे हैं। और उन्हें मालूम होना चाहिए कि बड़ा-तो-बड़ा ही होता है। नरेंद्र भाई मोदी हमेशा...

  • देशवासियों को भागवत की नसीहत

    अटलजी तो अटलजी थे। जुगाड़ू सरकार का मुखिया बनाने के लिए उन की पालकी लोग अपने कंधों पर ख़ुशी-ख़ुशी लाद कर रायसीना पहाड़ी तक ले गए थे। नरेंद्र भाई तो लोगों के कंधों पर जबरन लद कर रायसीना पहाड़ी पहुंचे हैं। एक प्रचारक और दूसरे प्रचारक का यह फ़र्क़ सबसे बड़ा फ़र्क़ है।…यदि अब नरेंद्र भाई की चुनावी मुसीबत के वक़्त संघ ने भी चिकने घड़े का ज़ामा ओढ़ लिया है तो कुसूर किस का है? नरेंद्र भाई उम्र में मोहन जी 6 दिन छोटे हैं। और उन्हें मालूम होना चाहिए कि बड़ा-तो-बड़ा ही होता है। नरेंद्र भाई मोदी हमेशा...

  • आरएसएस ने विभाजनकारी ताकतों के प्रति मतदाताओं को आगाह किया

    अटलजी तो अटलजी थे। जुगाड़ू सरकार का मुखिया बनाने के लिए उन की पालकी लोग अपने कंधों पर ख़ुशी-ख़ुशी लाद कर रायसीना पहाड़ी तक ले गए थे। नरेंद्र भाई तो लोगों के कंधों पर जबरन लद कर रायसीना पहाड़ी पहुंचे हैं। एक प्रचारक और दूसरे प्रचारक का यह फ़र्क़ सबसे बड़ा फ़र्क़ है।…यदि अब नरेंद्र भाई की चुनावी मुसीबत के वक़्त संघ ने भी चिकने घड़े का ज़ामा ओढ़ लिया है तो कुसूर किस का है? नरेंद्र भाई उम्र में मोहन जी 6 दिन छोटे हैं। और उन्हें मालूम होना चाहिए कि बड़ा-तो-बड़ा ही होता है। नरेंद्र भाई मोदी हमेशा...

  • मोहन भागवत पहुंचे लखनऊ, कई विषयों पर करेंगे मंथन

    अटलजी तो अटलजी थे। जुगाड़ू सरकार का मुखिया बनाने के लिए उन की पालकी लोग अपने कंधों पर ख़ुशी-ख़ुशी लाद कर रायसीना पहाड़ी तक ले गए थे। नरेंद्र भाई तो लोगों के कंधों पर जबरन लद कर रायसीना पहाड़ी पहुंचे हैं। एक प्रचारक और दूसरे प्रचारक का यह फ़र्क़ सबसे बड़ा फ़र्क़ है।…यदि अब नरेंद्र भाई की चुनावी मुसीबत के वक़्त संघ ने भी चिकने घड़े का ज़ामा ओढ़ लिया है तो कुसूर किस का है? नरेंद्र भाई उम्र में मोहन जी 6 दिन छोटे हैं। और उन्हें मालूम होना चाहिए कि बड़ा-तो-बड़ा ही होता है। नरेंद्र भाई मोदी हमेशा...

  • मोहन भागवत पूर्वोत्तर के तीन दिवसीय दौरे पर

    अटलजी तो अटलजी थे। जुगाड़ू सरकार का मुखिया बनाने के लिए उन की पालकी लोग अपने कंधों पर ख़ुशी-ख़ुशी लाद कर रायसीना पहाड़ी तक ले गए थे। नरेंद्र भाई तो लोगों के कंधों पर जबरन लद कर रायसीना पहाड़ी पहुंचे हैं। एक प्रचारक और दूसरे प्रचारक का यह फ़र्क़ सबसे बड़ा फ़र्क़ है।…यदि अब नरेंद्र भाई की चुनावी मुसीबत के वक़्त संघ ने भी चिकने घड़े का ज़ामा ओढ़ लिया है तो कुसूर किस का है? नरेंद्र भाई उम्र में मोहन जी 6 दिन छोटे हैं। और उन्हें मालूम होना चाहिए कि बड़ा-तो-बड़ा ही होता है। नरेंद्र भाई मोदी हमेशा...

  • विश्व भर के मंदिरों के सम्मेलन की आज से होगी शुरुआत

    अटलजी तो अटलजी थे। जुगाड़ू सरकार का मुखिया बनाने के लिए उन की पालकी लोग अपने कंधों पर ख़ुशी-ख़ुशी लाद कर रायसीना पहाड़ी तक ले गए थे। नरेंद्र भाई तो लोगों के कंधों पर जबरन लद कर रायसीना पहाड़ी पहुंचे हैं। एक प्रचारक और दूसरे प्रचारक का यह फ़र्क़ सबसे बड़ा फ़र्क़ है।…यदि अब नरेंद्र भाई की चुनावी मुसीबत के वक़्त संघ ने भी चिकने घड़े का ज़ामा ओढ़ लिया है तो कुसूर किस का है? नरेंद्र भाई उम्र में मोहन जी 6 दिन छोटे हैं। और उन्हें मालूम होना चाहिए कि बड़ा-तो-बड़ा ही होता है। नरेंद्र भाई मोदी हमेशा...

  • अपने अस्तित्व को लेकर चिंतित संघ…?

    अटलजी तो अटलजी थे। जुगाड़ू सरकार का मुखिया बनाने के लिए उन की पालकी लोग अपने कंधों पर ख़ुशी-ख़ुशी लाद कर रायसीना पहाड़ी तक ले गए थे। नरेंद्र भाई तो लोगों के कंधों पर जबरन लद कर रायसीना पहाड़ी पहुंचे हैं। एक प्रचारक और दूसरे प्रचारक का यह फ़र्क़ सबसे बड़ा फ़र्क़ है।…यदि अब नरेंद्र भाई की चुनावी मुसीबत के वक़्त संघ ने भी चिकने घड़े का ज़ामा ओढ़ लिया है तो कुसूर किस का है? नरेंद्र भाई उम्र में मोहन जी 6 दिन छोटे हैं। और उन्हें मालूम होना चाहिए कि बड़ा-तो-बड़ा ही होता है। नरेंद्र भाई मोदी हमेशा...

  • जीत के लिए जमावट और जज्बात

    अटलजी तो अटलजी थे। जुगाड़ू सरकार का मुखिया बनाने के लिए उन की पालकी लोग अपने कंधों पर ख़ुशी-ख़ुशी लाद कर रायसीना पहाड़ी तक ले गए थे। नरेंद्र भाई तो लोगों के कंधों पर जबरन लद कर रायसीना पहाड़ी पहुंचे हैं। एक प्रचारक और दूसरे प्रचारक का यह फ़र्क़ सबसे बड़ा फ़र्क़ है।…यदि अब नरेंद्र भाई की चुनावी मुसीबत के वक़्त संघ ने भी चिकने घड़े का ज़ामा ओढ़ लिया है तो कुसूर किस का है? नरेंद्र भाई उम्र में मोहन जी 6 दिन छोटे हैं। और उन्हें मालूम होना चाहिए कि बड़ा-तो-बड़ा ही होता है। नरेंद्र भाई मोदी हमेशा...

  • मोहन भागवत और राहुल गांधी

    अटलजी तो अटलजी थे। जुगाड़ू सरकार का मुखिया बनाने के लिए उन की पालकी लोग अपने कंधों पर ख़ुशी-ख़ुशी लाद कर रायसीना पहाड़ी तक ले गए थे। नरेंद्र भाई तो लोगों के कंधों पर जबरन लद कर रायसीना पहाड़ी पहुंचे हैं। एक प्रचारक और दूसरे प्रचारक का यह फ़र्क़ सबसे बड़ा फ़र्क़ है।…यदि अब नरेंद्र भाई की चुनावी मुसीबत के वक़्त संघ ने भी चिकने घड़े का ज़ामा ओढ़ लिया है तो कुसूर किस का है? नरेंद्र भाई उम्र में मोहन जी 6 दिन छोटे हैं। और उन्हें मालूम होना चाहिए कि बड़ा-तो-बड़ा ही होता है। नरेंद्र भाई मोदी हमेशा...

  • भागवत के बयान पर संघ की सफाई

    अटलजी तो अटलजी थे। जुगाड़ू सरकार का मुखिया बनाने के लिए उन की पालकी लोग अपने कंधों पर ख़ुशी-ख़ुशी लाद कर रायसीना पहाड़ी तक ले गए थे। नरेंद्र भाई तो लोगों के कंधों पर जबरन लद कर रायसीना पहाड़ी पहुंचे हैं। एक प्रचारक और दूसरे प्रचारक का यह फ़र्क़ सबसे बड़ा फ़र्क़ है।…यदि अब नरेंद्र भाई की चुनावी मुसीबत के वक़्त संघ ने भी चिकने घड़े का ज़ामा ओढ़ लिया है तो कुसूर किस का है? नरेंद्र भाई उम्र में मोहन जी 6 दिन छोटे हैं। और उन्हें मालूम होना चाहिए कि बड़ा-तो-बड़ा ही होता है। नरेंद्र भाई मोदी हमेशा...

  • भागवत का बरेली में 16 फरवरी से प्रवास

    अटलजी तो अटलजी थे। जुगाड़ू सरकार का मुखिया बनाने के लिए उन की पालकी लोग अपने कंधों पर ख़ुशी-ख़ुशी लाद कर रायसीना पहाड़ी तक ले गए थे। नरेंद्र भाई तो लोगों के कंधों पर जबरन लद कर रायसीना पहाड़ी पहुंचे हैं। एक प्रचारक और दूसरे प्रचारक का यह फ़र्क़ सबसे बड़ा फ़र्क़ है।…यदि अब नरेंद्र भाई की चुनावी मुसीबत के वक़्त संघ ने भी चिकने घड़े का ज़ामा ओढ़ लिया है तो कुसूर किस का है? नरेंद्र भाई उम्र में मोहन जी 6 दिन छोटे हैं। और उन्हें मालूम होना चाहिए कि बड़ा-तो-बड़ा ही होता है। नरेंद्र भाई मोदी हमेशा...

  • मोहन भागवत ने दो प्रमुख किलों के मॉडलों का किया उद्घाटन

    अटलजी तो अटलजी थे। जुगाड़ू सरकार का मुखिया बनाने के लिए उन की पालकी लोग अपने कंधों पर ख़ुशी-ख़ुशी लाद कर रायसीना पहाड़ी तक ले गए थे। नरेंद्र भाई तो लोगों के कंधों पर जबरन लद कर रायसीना पहाड़ी पहुंचे हैं। एक प्रचारक और दूसरे प्रचारक का यह फ़र्क़ सबसे बड़ा फ़र्क़ है।…यदि अब नरेंद्र भाई की चुनावी मुसीबत के वक़्त संघ ने भी चिकने घड़े का ज़ामा ओढ़ लिया है तो कुसूर किस का है? नरेंद्र भाई उम्र में मोहन जी 6 दिन छोटे हैं। और उन्हें मालूम होना चाहिए कि बड़ा-तो-बड़ा ही होता है। नरेंद्र भाई मोदी हमेशा...

  • भागवत पर हिंदुओं को ठेस पहुंचाने का आरोप

    अटलजी तो अटलजी थे। जुगाड़ू सरकार का मुखिया बनाने के लिए उन की पालकी लोग अपने कंधों पर ख़ुशी-ख़ुशी लाद कर रायसीना पहाड़ी तक ले गए थे। नरेंद्र भाई तो लोगों के कंधों पर जबरन लद कर रायसीना पहाड़ी पहुंचे हैं। एक प्रचारक और दूसरे प्रचारक का यह फ़र्क़ सबसे बड़ा फ़र्क़ है।…यदि अब नरेंद्र भाई की चुनावी मुसीबत के वक़्त संघ ने भी चिकने घड़े का ज़ामा ओढ़ लिया है तो कुसूर किस का है? नरेंद्र भाई उम्र में मोहन जी 6 दिन छोटे हैं। और उन्हें मालूम होना चाहिए कि बड़ा-तो-बड़ा ही होता है। नरेंद्र भाई मोदी हमेशा...

  • समर्थकों के दबाव में बदले हैं भागवत

    अटलजी तो अटलजी थे। जुगाड़ू सरकार का मुखिया बनाने के लिए उन की पालकी लोग अपने कंधों पर ख़ुशी-ख़ुशी लाद कर रायसीना पहाड़ी तक ले गए थे। नरेंद्र भाई तो लोगों के कंधों पर जबरन लद कर रायसीना पहाड़ी पहुंचे हैं। एक प्रचारक और दूसरे प्रचारक का यह फ़र्क़ सबसे बड़ा फ़र्क़ है।…यदि अब नरेंद्र भाई की चुनावी मुसीबत के वक़्त संघ ने भी चिकने घड़े का ज़ामा ओढ़ लिया है तो कुसूर किस का है? नरेंद्र भाई उम्र में मोहन जी 6 दिन छोटे हैं। और उन्हें मालूम होना चाहिए कि बड़ा-तो-बड़ा ही होता है। नरेंद्र भाई मोदी हमेशा...

  • ‘इंसान को इंसान ही रहना चाहिए’

    अटलजी तो अटलजी थे। जुगाड़ू सरकार का मुखिया बनाने के लिए उन की पालकी लोग अपने कंधों पर ख़ुशी-ख़ुशी लाद कर रायसीना पहाड़ी तक ले गए थे। नरेंद्र भाई तो लोगों के कंधों पर जबरन लद कर रायसीना पहाड़ी पहुंचे हैं। एक प्रचारक और दूसरे प्रचारक का यह फ़र्क़ सबसे बड़ा फ़र्क़ है।…यदि अब नरेंद्र भाई की चुनावी मुसीबत के वक़्त संघ ने भी चिकने घड़े का ज़ामा ओढ़ लिया है तो कुसूर किस का है? नरेंद्र भाई उम्र में मोहन जी 6 दिन छोटे हैं। और उन्हें मालूम होना चाहिए कि बड़ा-तो-बड़ा ही होता है। नरेंद्र भाई मोदी हमेशा...

  • और लोड करें