Loading... Please wait...
ताजा पोस्ट सुर्खिया
काबुल में विस्फोट, 20 मरे, 300 घायल
चैंपियंस ट्रॉफी: भारत ने बांग्लादेश को 240 रनों से हराया
यूपी में डॉक्टरों की रिटायरमेंट उम्र दो साल बढ़ी
केरल में पशु वध पर सोनिया, राहुल से माफी की मांग
आरसीए चुनाव के परिणाम दो जून को घोषित किये जाये
बाबरी मामला : आडवाणी, जोशी व अन्य को जमानत मिली
बांग्लादेश में तूफान ‘मोरा’ ने दी दस्तक
आडवाणी, जोशी कोर्ट में पेश होने के लिए लखनऊ रवाना
सीरिया में रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल खतरे की घंटी: मैक्रोन
जापान में बस दुर्घटनाग्रस्त, 8 घायल
रूस में तूफान, 11 मरे
मोदी ने की मर्केल से मुलाकात
भारत-पाकिस्तान के बीच क्रिकेट सीरीज नहीं हो सकती: खेल मंत्री
बैल काटे जाने पर कांग्रेस के 4 कार्यकर्ता निलंबित
पीएम मोदी चार देशों की यात्रा पर रवाना

शंकर शरण All Article

गंगा की चिन्ता कैसे और क्या अर्थ ?

नेता लोग चुनाव जीतने के लिए कटिबद्धता से हर उपाय करते हैं। उसी तरह अफसर पोस्टिंग या तरक्की के लिए हर बाधा दूर करने का मार्ग खोजते हैं। अधिक से अधिक टैक्स वसूलने, खजाना बढ़ाने के लिए सरकार एक से एक तरीके निकालती है। और पढ़ें....

टैगोर नहीं, तैमूर

हाल में फिल्म एक्टर सैफ अली खान के बेटे तैमूर की पहली सालगिरह थी। कई हस्तियो ने ‘तैमूर’ को बधाई दी। जब यह नामकरण हुआ था, तो भारत, पाकिस्तान, बंगलादेश में चर्चित हुआ। और पढ़ें....

गालिब, श्रद्धानन्द, हनुमान प्रसाद पोद्दार...

गालिब ने लिखा था: गालिबे-खस्ता के बगैर कौन से काम बन्द हैं ; रोइए जार-जार क्यों... ! उन्होंने इसे प्रश्न रूप में नहीं, किंचित दार्शनिक, स्थिति-स्वीकार भाव से लिखा था। और पढ़ें....

जाहीलिया कहां है?

पाकिस्तान के सैन्य प्रमुख जेनरल बाजवा ने अभी कहा है कि पाकिस्तान के लोगों को मदरसों की शिक्षा से बाहर निकलना और आगे देखना चाहिए। वरना उन का कोई भविष्य नहीं है। बाजवा के अनुसार, अधिकांश मदरसों में जो सीख दी जाती है और पढ़ें....

मंदिर-मुखी राहुल गांधी पर आपत्ति क्यों!

चूंकि गुजरात चुनाव के वोट पड़ चुके, अतः राहुल गाँधी के मंदिर जाने पर दलीय हितों से हटकर बात करनी चाहिए। क्योंकि मूल उद्देश्य देश-हित है। जब कांग्रेस से दल-बदल कर भाजपा में आने वाले का स्वागत होता है और पढ़ें....

कश्मीरी नेताओं की सीनाजोरी

हाल में ‘आज तक’ समाचार चैनल के एजेंडा कार्यक्रम में पत्रकार प्रसून वाजपेई (प) की नेशनल कांफ्रेंस के नेता फारुख अब्दुल्ला (फ) के साथ लाइव वार्ता में एक अंश यह था और पढ़ें....

गाँधी के विचार गैर-हिन्दू थे

भारत के हिन्दूवादियों द्वारा महात्मा गाँधी की जयकार में एक भारी विडंबना है। विदेशी अतिथियों को गाँधी-समाधि पर ले जाने जैसे नियमित अनुष्ठानों से यह और गहरी होती है। ऐसा कर के हमारे नेता क्या संदेश देते हैं? और पढ़ें....

केवल नीयत भरोसे राजनीति के खतरे

रूस की अक्तूबर (नवंबर) क्रांति के सौ साल हुए, और कहीं किसी ने नाम तक न लिया! पचास वर्ष पहले, उसी की स्वर्ण जयंती पर भारत समेत दुनिया में धूम थी। पर अब कम्युनिज्म खत्म है। और पढ़ें....

अरबी निकाह की जलालत

हाल में हैदराबाद में प्रचलित ‘अरबी निकाह’ पुनः समाचारों में आया है। दो दर्जन से अधिक लोग गिरफ्तार किए गए जिन्होंने ऐसे निकाह कराए। इस में अरब देशों के धनी बूढ़े लंपट यहाँ आते हैं और पढ़ें....

← Previous 12345
(Displaying 1-10 of 49)
शंकर शरण

शंकर शरण

[email protected]

© 2016 nayaindia digital pvt.ltd.
Maintained by Netleon Technologies Pvt Ltd