nayaindia hindu growth rate हिंदू विकास दर पर बिलबिलाना!
गपशप

हिंदू विकास दर पर बिलबिलाना!

Share

सोचें अमृत काल बनाम हिंदू विकास दर पर! हिंदू विकास दर मतलब हिंदुओं के आगे बढ़ने की कछुआ रफ्तार। एक पॉजिटिव मगर हल्का जुमला। विकास शब्द से कमाई, रोजगार, जेब में पैसे और झुग्गी-झोपड़ में भी बिजली-टीवी जैसी चीजें मिलने की उन्नति की फीलिंग बनती है। वही अमृत काल देवलोक की अनुभूति कराता हुआ। पर मूल रूप में समय की यह धारणा सत्ता शिखर पर बैठे सत्तावानों के आनंद, उसके गौरव का अहंकार है। उस नाते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा और संघ परिवार ने यदि अपने सत्ता भोग को अमृत काल करार दिया है तो गलत नहीं है। याद करें वह संघ परिवार, वे हिंदूजन जो नब्बे साल से हवा में लाठी घूमा रहे थे। देश दुनिया में अछूत थे। जेल गए, गालियां खाईं। उनको जनता ने पसंद करके जब सन् 2014 में भारत की सत्ता के शिखर पर बैठाया तो परिवार क्यों न अपने इस समय को अमृत काल घोषित करे?

अब इस अमृत काल को स्थायी बनाना है। वह तब संभव है जब 140 करोड़ लोग अमृत काल के सपने में खोए रहे। उन्हें रोजी-रोटी, रोजगार, मंहगाई, झुग्गी-झोपड़ी के हालातों मतलब जीवन की जरूरतों का होश नहीं हो। वे यह हल्ला नहीं सुनें कि लोकतंत्र खत्म हो रहा है या हिंदुओं की विकास दर कछुआ गति होती हुई है। जाहिर है सच्चाई न देखें, न सुनें और न समझें। तभी पिछले सप्ताह जब अर्थशास्त्री रघुराम राजन ने हिंदू विकास दर की बात कही तो अमृत भोगी सत्तावानों ने रघुराम राजन को न केवल झूठा अर्थशास्त्री करार दिया, बल्कि सोशल मीडिया में लाठी लेकर उन्हें वामपंथी, नेहरू की औलाद और देशद्रोही करार दे रहे हैं!

सोचें, आजाद भारत के कथित अमृत काल की सत्ता का इतनी छोटी-छोटी बातों पर इतना बिलबिलाना! भला क्यों? इसलिए कि यही मानसिकता भारत के कलियुग का मूल रसायन है। झूठ, पाखंड में जीना और सच्चाई से मुंह चुराए रहना भारतीयों का स्थायी मिजाज है। तभी सदियों गुलाम रहे और इक्कीसवीं सदी में भी फिर से गुलाम होते हुए हैं। भले वह सत्ता की गुलामी हो या चीन की गुलामी। 140 करोड़ लोगों के देश की दिशा को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमृत काल में ऐसा अंधा बनाया है कि घर-घर लोग ‘कलिः शयानो भवति’ की नियति से सपनों में सोते हुए हैं। लोगों को इतना भी याद नहीं है कि ‘अच्छे दिन’ फील होते हुए नहीं हैं और अमृत काल का चश्मा लगा बैठे हैं।

सवाल है जब नरेंद्र मोदी का अमृत काल और उनका अमरत्व अजर-अमर है तो छोटी-छोटी बातों पर घबराना क्यों? वे हार नहीं सकते और भाजपा-संघ परिवार जब हमेशा के लिए हिंदुओं के अधिपति हो गए हैं तो आईना दिखाने वाले या अपनी समझ की सच्चाई बोलने वालों से इतना परेशान होने की क्या जरूरत है? जब नरेंद्र मोदी से दुनिया ज्ञान लेती हुई है तो राहुल गांधी, राजन जैसे बेरोजगार लोगों के भाषणों पर बिलबिलाने की क्या जरूरत है? हिंदूशाही को सत्ता का मजा लेते रहना चाहिए या दिन-रात इस जासूसी में गुजारना चाहिए कि किसी ने कहीं कुछ बोला तो नहीं?

By हरिशंकर व्यास

मौलिक चिंतक-बेबाक लेखक और पत्रकार। नया इंडिया समाचारपत्र के संस्थापक-संपादक। सन् 1976 से लगातार सक्रिय और बहुप्रयोगी संपादक। ‘जनसत्ता’ में संपादन-लेखन के वक्त 1983 में शुरू किया राजनैतिक खुलासे का ‘गपशप’ कॉलम ‘जनसत्ता’, ‘पंजाब केसरी’, ‘द पॉयनियर’ आदि से ‘नया इंडिया’ तक का सफर करते हुए अब चालीस वर्षों से अधिक का है। नई सदी के पहले दशक में ईटीवी चैनल पर ‘सेंट्रल हॉल’ प्रोग्राम की प्रस्तुति। सप्ताह में पांच दिन नियमित प्रसारित। प्रोग्राम कोई नौ वर्ष चला! आजाद भारत के 14 में से 11 प्रधानमंत्रियों की सरकारों की बारीकी-बेबाकी से पडताल व विश्लेषण में वह सिद्धहस्तता जो देश की अन्य भाषाओं के पत्रकारों सुधी अंग्रेजीदा संपादकों-विचारकों में भी लोकप्रिय और पठनीय। जैसे कि लेखक-संपादक अरूण शौरी की अंग्रेजी में हरिशंकर व्यास के लेखन पर जाहिर यह भावाव्यक्ति -

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

Naya India स्क्रॉल करें