nayaindia Rajyasabha election BJP तीसरी बार राज्यसभा शायद ही मिले
Election

तीसरी बार राज्यसभा शायद ही मिले

ByNI Political,
Share

भाजपा के राज्यसभा सांसदों की नींद उड़ी हुई है। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष से लेकर कई केंद्रीय मंत्री चिंता में हैं कि राज्यसभा में वापसी होगी या नहीं। वामपंथी पार्टियों की तरह भाजपा ने एक अघोषित नियम बनाया कि दो बार से ज्यादा किसी को राज्यसभा नहीं मिलेगी। पहले यह नियम नहीं था इसलिए अरुण जेटली से लेकर रविशंकर प्रसाद तक अनेक नेता कई कई बार राज्यसभा गए। अब कहा जा रहा है कि दो बार राज्यसभा में रहे नेताओं को टिकट नहीं मिलेगी। उनमें से कुछ को लोकसभ चुनाव लड़ने के लिए कहा जा सकता है। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा भी दो बार से राज्यसभा सांसद हैं। वे पार्टी के अध्यक्ष हैं और उन्हें पूरे देश में प्रचार के लिए जाना है। इसलिए अगर वे हिमाचल प्रदेश की किसी सीट से लोकसभा का चुनाव लड़ते हैं तो वह हैरान करने वाला होगा। हो सकता है कि उनके लिए अपवाद बनाया जाए।

केंद्रीय मंत्रियों में धर्मेंद्र प्रधान और भूपेंद्र यादव का नाम है। दोनों दो बार से राज्यसभा सांसद हैं। प्रधान पहले बिहार से राज्यसभा में थे और अभी मध्य प्रदेश से हैं। भूपेंद्र यादव दो बार से राजस्थान से राज्यसभा में हैं। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण भी दो बार से राज्यसभा सांसद हैं। बताया जा रहा है कि धर्मेंद्र प्रधान को ओडिशा से और भूपेंद्र यादव को राजस्थान से चुनाव लड़ने को कहा जाएगा। निर्मला सीतारमण के भी चेन्नई से लड़ने की खबर है। स्वास्थ्य मंत्री मनसुख भाई मंडाविया भी गुजरात से दो बार के राज्यसभ सांसद हैं। इस बार उनके भी भावनगर सीट से लड़ने की चर्चा है। एस जयशंकर को राज्यसभा में पांच साल ही हुए हैं फिर भी उनके चुनाव लड़ने की चर्चा है। इनके अलावा कुछ और राज्यसभा सांसदों को लोकसभा का चुनाव लड़ने को कहा जा सकता है। राज्यसभा के लिए नामांकन दाखिल करने की आखिरी तारीख 15 फरवरी है। इसलिए अगले एक दो दिन में सबका फैसला हो जाएगा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

Naya India स्क्रॉल करें