झीने कैनवस पर बिखरे हिम्मत के रंग

आप मानें तो ठीक, न मानें तो ठीक, मगर मैं आपको यह बताना चाहता हूं कि…

आपको इस हाल में कैसे छोड़ें, नरेंद्र भाई!

हमारे पराक्रमी प्रधानमंत्री नरेंद्र भाई मोदी ने देश के ग्यारह सर्वोच्च सरमाएदारों को इस बुधवार दिल्ली…

कांग्रेस का रक्त-बीज और राहुल-प्रियंका

जब-जब कांग्रेस के दिन फिरने लगते हैं, मध्यम-तल पर कब्ज़ा जमाए बैठे कांग्रेस के कुछ नेताओं…

दर्पीली मुस्कान और हमारी यादों का पानी

तीन दिन बाद यह साल ख़त्म हो जाएगा। आपका मुझे नहीं मालूम, मगर देश के ज़्यादातर…

सियासी-लुंगाड़ों को ताल-ठोकू जवाब का एक बरस

एक बरस पहले के शुरुआती चंद महीनों में जब भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित भाई…

उकता चुके देश का थका-हारा मुखिया

छह साल पहले नरेंद्र भाई मोदी ने भारतमाता की आंखों में एक ख़्वाब उंड़ेला था--अच्छे दिन…

रचनांतर के शिल्पी का अभिनंदन

अगर नरेंद्र भाई मोदी और अमित भाई शाह के सियासी गाल इतने बट्ठर हो गए हैं…

चलें, चुल्लू भर पानी तलाशें

पांच साल से कुछ ज़्यादा हुए, जब नरेंद्र भाई मोदी को मां गंगा ने बुलाया और…

सियासत में नए वसंतागमन की आहट

53 साल पहले बाला साहब ठाकरे ने शिवसेना की स्थापना करते वक़्त भले ही यह नहीं…

नगलागढ़ू के रामेश्वर ताऊ

आधी सदी बीतने को है, जब हमारे नगलागढ़ू में एक रामेश्वर ताऊ अपने पूरे जलवे-जलाल पर…

मस्तमौला राजा और उदास प्रजा का देश

पिछले पांच साल में हम एक अजीबोग़रीब विरोधाभास के बीच से गुज़रे हैं। एक तरफ़ हमारे…

आसमान की सुल्तानी से असहमति का संकेत

हरियाणा और महाराष्ट्र के विधानसभा चुनाव नतीजों से नरेंद्र भाई मोदी शैली की ढोल-ढमाकाई और घुड़कीबाज़…