जावड़ेकर ने जयराम की आपत्तियों को बताया आधारहीन

पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री प्रकाश जावडेकर ने पर्यावरण प्रभाव आकलन (ईआईए) अधिनियम में प्रस्तावित बदलावों के संबंध में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम

फंड कटौती को लेकर कांग्रेस में घमासान

केंद्र सरकार ने अपने क्षेत्र के विकास के मद में सांसदों को हर साल मिलने वाली पांच करोड़ रुपए की निधि को दो साल के लिए रोक दिया है। कांग्रेस ने आधिकारिक रूप से सरकार के इस फैसले पर सवाल उठाए हैं। पर कांग्रेस के दो सांसदों- जयराम रमेश और राजीव गौड़ा ने इसका समर्थन किया है।

राज्यों को केन्द्र से नहीं मिल रही है अपेक्षित राशि : जयराम

कांग्रेस के जयराम रमेश ने बुद्धवार राज्यों को केन्द्र से मिलने वाले राजस्व में कमी आने पर गहरी चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि इस मामले में दिये गये

सीएए पर कांग्रेस नेताओं की ईमानदारी

संशोधित नागरिकता कानून, सीएए पर ऐसा लग रहा है कि कांग्रेस के अंदर दो विचारधाराएं एक साथ काम कर रही हैं। एक तरफ ऐसे नेता हैं, जो हर हाल में सीएए का विरोध कर रहे हैं। उनके लिए किसी तरह से इसका विरोध करना ही राजनीति है।

सुप्रीम कोर्ट में चुनौती, छात्रो का विरोध

नई दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एस जयराम रमेश ने नागरिकता (संशोधन) अधिनियम की वैधता को उच्चतम न्यायालय में शुक्रवार को चुनौती दी। रमेश ने संविधान के अनुच्छेद 14 एवं 21 के तहत प्राप्त अधिकार को आधार बनाकर इस कानून को चुनौती दी है। उन्होंने कहा कि संबंधित अधिनियम 1985 के असम समझौते का उल्लंघन है। त्रिपुरा के पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष प्रद्योत किशोर देव बर्मन ने भी नागरिकता (संशोधन) कानून के खिलाफ याचिका दाखिल की है। प्रद्योत किशोर देव ने अपनी याचिका में कहा कि यह कानून धर्म के आधार पर भेदभाव करता है और समानता के अधिकार का उल्लंघन करता है। वहीं दूसरी ओर नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में संसद की ओर कूच कर रहे जामिया मिलिया इस्लामिया के छात्रों की शुक्रवार को विश्वविद्यालय परिसर के बाहर पुलिस के साथ झड़पों में कई छात्र घायल हो गए।  विश्वविद्यालय के एक छात्र ने बताया कि छात्रों के प्रदर्शन को रोकने के लिए पुलिस ने पहले पानी की बौछारें की और फिर आंसू गैस के गोले छोड़े। छात्रों का कहना है कि संविधान को बचाने के लिए उनका संघर्ष निरंतर जारी रहेगा।

नागरिकता संशोधन अधिनियम के विरोध में सुप्रीम कोर्ट पहुंचे जयराम रमेश

नई दिल्ली। कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने शुक्रवार को नागरिकता संशोधन अधिनियम के विरोध में सुप्रीम कोर्ट का रुख किया। उन्होंने इस अधिनियम की वैधता को चुनौती दी है और आरोप लगाया है कि यह संविधान के अंतर्गत निहित मूलभूत अधिकारों पर हमला है। याचिका में कहा गया है कि यह अधिनियम अवैध अप्रवासियों के जांच के स्थान पर इसे बढ़ावा देता है और यह राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर के विचित्र अवधारणा से जुड़ा हुआ है। याचिका के अनुसार इस अधिनियम में लाखों लोगों को बाहर करने के मुद्दे को मानवीय और तार्किक आधार पर सुलझाने का प्रयास भी नहीं किया गया और इस बारे में भी पता नहीं है कि उन्हें घर कहां देना है, उन्हें प्रत्यर्पित कहां करना है और उनके मामले को कैसे संभालना है।रमेश का दावा है कि अधिनियम संविधान के अनुच्छेद 14 और 21 का स्पष्ट रूप से उल्लंघन करता है और यह सुप्रीम कोर्ट द्वारा निर्धारित कानून के विपरीत है और इतना ही नहीं यह असम समझौते और अंतर्राष्ट्रीय संविदाओं का भी उल्लंघन करता है। इसे भी पढ़ें : हम नए नागरिकता कानून के खिलाफ हैं : केजरीवाल याचिका के तहत नागरिकता(संशोधन) अधिनियम, 2019 को असंवैधानिक घोषित करने की मांग की गई है। याचिका में… Continue reading नागरिकता संशोधन अधिनियम के विरोध में सुप्रीम कोर्ट पहुंचे जयराम रमेश

नायडू ने पोर्नोग्राफी पर रोक के लिए मांगे सुझाव

राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने पोर्नोग्राफी यानी अश्लील साहित्य को गंभीर सामाजिक समस्या करार देते हुए कांग्रेस के जयराम रमेश के नेतृत्व में वरिष्ठ सदस्यों से इस पर रोक लगाने के

और लोड करें