Breast cancer

  • महिलाओं में स्तन कैंसर से होने वाली मृत्यु दर को कम कर सकती है ‘मास्टेक्टॉमी’ सर्जरी

    Breast Cancer :- एक शोध से यह बात सामने आई है कि बीआरसीए1 या बीआरसीए2 जेनेटिक वेरिएंट वाली महिलाओं की अगर मास्टेक्टॉमी (एक सर्जिकल प्रक्रिया जिसमें पूरे स्तन या उसके कुछ हिस्से को हटा दिया जाता है) की जाए तो उनकी मृत्यु की संभावना कम हो सकती है। ब्रिटिश जर्नल ऑफ कैंसर में प्रकाशित अध्ययन बताया गया कि जोखिम को कम करने वाली मास्टेक्टॉमी उन महिलाओं की मृत्यु दर को कैसे प्रभावित करती है। जिन महिलाओं में वंशानुगत बीआरसीए1 या बीआरसीए2 वेरिएंट होता है, उनको जीवनकाल में स्तन कैंसर विकसित होने का 80 प्रतिशत जोखिम होता है। शोध से पता...

  • युवा भारतीय महिलाओं में स्तन कैंसर के मामले काफी बढ़ रहे हैं

    Breast Cancer :- डॉक्टरों ने मंगलवार को कहा कि 20-40 साल की युवा महिलाओं में स्तन कैंसर की घटनाएं काफी बढ़ रही हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, स्तन कैंसर दुनिया भर में महिलाओं को प्रभावित करने वाला सबसे आम प्रकार का कैंसर है। 2020 में 20 लाख से ज्यादा महिलाओं में स्तन कैंसर का पता चला और 6 लाख से अधिक मरीजों की जान चली गई। स्तन कैंसर जागरूकता पर हाल ही में एक वेबिनार के दौरान फरीदाबाद स्थित अमृता हॉस्पिटल की मेडिकल ऑन्कोलॉजी की वरिष्ठ सलाहकार डॉ सफलता बाघमार ने कहा, ''स्तन कैंसर महिलाओं में पाए जाने...

  • हर चार मिनट में एक महिला को स्तन कैंसर का पता चलता है

    Breast Cancer :- भारत में हर चार मिनट में एक महिला को स्तन कैंसर का पता चलता है, जबकि कैंसर से पीड़ित महिलाओं की औसत आयु उनके पश्चिमी समकक्षों की तुलना में लगभग एक दशक कम है। किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी के एंडोक्राइन सर्जरी विभाग के एचओडी प्रोफेसर आनंद मिश्रा ने ग्लोबोकैन 2020 अध्ययन का हवाला देते हुए यह जानकारी दी। प्रोफेसर मिश्रा ने कहा भारत में स्तन कैंसर की घटनाओं में वृद्धि ने रोगियों के इलाज के लिए योग्य स्तन सर्जनों की आवश्यकता में नाटकीय रूप से वृद्धि की है। कार्यक्रम के आयोजन अध्यक्ष प्रोफेसर मिश्रा ने कहा केजीएमयू...

  • वैज्ञानिकों ने की स्तन कैंसर से जुड़े चार नए जीन की पहचान

    Breast Cancer :- कनाडा और यूके के वैज्ञानिकों की एक अंतरराष्ट्रीय टीम ने स्तन कैंसर से जुड़े चार नए जीनों की पहचान की है, जिन्‍हें बढ़ते जोखिम वाली महिलाओं की पहचान करने के लिए परीक्षणों में शामिल किया जा सकता है। विश्व स्तर पर 2.3 मिलियन से अधिक महिलाएं स्तन कैंसर से पीड़ित हैं। महिलाओं में होने वाली मृत्यु का कैंसर दूसरा प्रमुख कारण है। स्तन कैंसर के लिए वर्तमान परीक्षण में केवल कुछ जीनों पर विचार किया गया, जिसमें बीआरसीए1, बीआरसीए2 और पीएएलबी2 शामिल हैं। हालांकि ये केवल स्तन कैंसर की पहचान करने के लिए काफी नहीं हैं। इसके...