आईएसएल-6 : आज नॉर्थईस्ट का सामना चेन्नइयन से

दो बार की चैंपियन चेन्नइयन एफसी आज यहां जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में नॉर्थईस्ट युनाइटेड एफसी के खिलाफ होने वाले मुकाबले में जीत दर्ज कर हीरो इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के छठे सीजन में अंकतालिका में टॉप-4 के करीब पहुंचना चाहेगी।

नागरिकता कानून में त्रुटियां

भारत के कई हिस्सों में हुए भारी विरोध के माहौल के बीच नागरिकता संशोधन विधेयक को कानून का रूप दे दिया गया है। मगर विरोध थमने का नाम नहीं ले रहा है। दिल्ली, अलीगढ़, कोलकाता, हैदराबाद, चेन्नई समेत कई शहरों में नए कानून के विरोध में रैलियां निकाली जा चुकी हैं।

इतने बड़े विरोध का अंदाजा नहीं था!

ऐसा लग रहा है कि भाजपा और उसकी केंद्र सरकार एक बार फिर अपने मास्टर स्ट्रोक फैसले पर होने वाली प्रतिक्रिया का सटीक आकलन नहीं कर पाई। इससे पहले सरकार को नोटबंदी पर होने वाली प्रतिक्रिया का अंदाजा भी नहीं हो पाया था और सरकार जीएसटी के असर का भी आकलन नहीं कर पाई थी।

पूर्वोत्तर आन्दोलन को लेकर विपक्ष का राज्यसभा में भारी हंगामा

तृणमूल कांग्रेस और कांग्रेस समेत विपक्षी दल के सदस्यों ने पूर्वोत्तर क्षेत्र के राज्यों में चल रहेे आन्दोलन को लेकर राज्यसभा में भारी हंगामा किया

पूर्वोत्तर को कैसे देखें?

गृह मंत्री अमित शाह के नजरिए से या बतौर एक नागरिक के? बतौर नागरिक में दिक्कत यह है कि उत्तर भारत का हिंदूजन उबलते असम, पूर्वोत्तर के लोगों के ठीक विपरीत नजरिया लिए हुए है। ऐसे में खांटी हिंदू के नाते सोचना या पूरे देश के प्रतिनिधि हिंदू के नाते सोचना व असम के हिंदू के नाते सोचना बहुत फर्क लिए हुए है।

नॉर्थ-ईस्ट तो सुलग उठा है

नागरिकता संशोधन विधेयक- 2019 ने पूर्वोत्तर राज्यों में जन विरोध को हवा दे दी है। असम, त्रिपुरा, मणिपुर, नगालैंड में वैसे बीते कई हफ्तों से इस विधेयक का विरोध जारी था, लेकिन इसके संसद में पेश होते ही चिंगारी सुलग गई।

सरकार ने पूर्वोत्तर में कश्मीर जैसी स्थिति दोहराई : कांग्रेस

नागरिकता संशोधन विधेयक (सीएबी) के खिलाफ पूर्वोत्तर के राज्यों में हो रहे हिंसक प्रदर्शनों पर कांग्रेस ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा

सीएबी का मकसद पूर्वोत्तर में ‘जातीय सफाया’: राहुल

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने आज नागरिकता(संशोधन) विधेयक, 2019 को ‘नरेंद्र मोदी-अमित शाह सरकार द्वारा पूर्वोत्तर में जातीय सफाया करने का प्रयास बताया’ और कहा कि यह लोगों पर ‘आपराधिक हमला’ है।

पूर्वाेत्तर में बढ़ रहे कैंसर के मामले

इम्फाल। पूर्वोत्तर में कैंसर के मामले तेजी बढ़ रहे है यह कहना है मणिपुर की राज्यपाल नजमा हेपतुल्ला का। उन्होंने कहा कि मणिपुर में भी कैंसर के मामले सामने आ रहे हैं। डाॅ. हेपतुल्ला ने ‘एसोसिएशन ऑफ रेडिएशन आँकोलॉजिस्ट ऑफ इंडिया, नार्थ-ईस्ट चैप्टर 2019 क्लासिक ग्रेड’ विषय पर आयोजित एक सम्मेलन को संबोधित करते हुये यह बात कही। इस सम्मेलन में देश भर के करीब 100 कैंसर विशेषज्ञ भाग ले रहे हैं। कैंसर विशेषज्ञ कैंसर उपचार की नवीनतम प्रगति पर विचार-विमर्श करेंगे तथा कैंसर से पीड़ित लोगों की बेहतर देखभाल के पहलुओं पर भी चर्चा करेंगे। उन्होंने कहा कि क्षेत्र के अधिक से अधिक लोग इस खतरनाक बीमारी की चपेट में आ रहे हैं और दुर्भाग्य से, बीमारी का पता लगाने का काम अक्सर देरी से हो पाता है जब प्रभावी उपचार और इलाज में बहुत देर हो जाती है। उन्होंने कहा कि लगभग 80 प्रतिशत कैंसर के रोगी स्वयं को उपचार के लिए घोर आर्थिक संकट का सामना करना पड़ा है। वित्त का प्रबंधन एक महत्वपूर्ण मुद्दा है जिसका प्रबंध बीमारी के उपचार से निपटने के तहत किये जाने की आवश्यकता है। नियमित स्वास्थ्य जांच इस बीमारी से बचने के उपायों में से एक है। एसोसिएशन ऑफ रेडिएशन ऑन्कोलॉजिस्ट… Continue reading पूर्वाेत्तर में बढ़ रहे कैंसर के मामले

पूर्वोत्तर में क्या हो रहा है?

जम्मू कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों को हटाए जाने को जम्मू कश्मीर के भारत में असली विलय के तौर पर देखने वाली ब्रिगेड पूर्वोत्तर के दो राज्यों मेघालय और नगालैंड के घटनाक्रम पर बिल्कुल चुप है।

और लोड करें