‘भारत बंद’ पर विपक्ष के समर्थन पर बोले केंद्रीय मंत्री नकवी, कहा- बंजर जमीन पर खेती का हो रहा प्रयास…

कृषि कानून के विरोध में आज आंदोलनकारी किसानों ने भारत बंद का आह्वान किया था. भारत बंद को लगभग सभी विपक्षी पार्टियों ने भी अपना समर्थन….

सोनिया की वर्चुअल मीटिंग, नतीजा क्या?

तभी उस मीटिंग में तय हुए किसी कार्यक्रम पर अमल नहीं हुआ है। उस वर्चुअल बैठक में तय हुआ था कि 20 से 30 सितंबर के बीच देश भर में सारी विपक्षी पार्टियां मिल कर साझा आंदोलन करेंगी।

प्रियंका सोशल मीडिया से बाहर धरातल देखे: राजभर

उत्तर प्रदेश के दिव्यांगजन सशक्तीकरण मंत्री अनिल राजभर ने कहा कि प्रियंका को सोशल मीडिया से बाहर निकल कर धरातल पर देखना चाहिए।

विपक्ष बताए वैकल्पिक नजरिया

अभी भाजपा ने ऐसा नैरेटिव बना दिया है, जिससे लोग मानने लगे हैं कि भाजपा विरोधी जितनी पार्टियां हैं वे हिंदू विरोधी हैं और देश विरोधी भी हैं। इस धारणा को बदलना होगा।

तीन साल पहले विपक्ष की तैयारी

यह पहली बार है, जब विपक्षी पार्टियों ने लोकसभा चुनाव की तैयारी तीन साल पहले शुरू की है। अगला लोकसभा चुनाव 2024 में होना है लेकिन अभी से विपक्ष ने तैयारी शुरू कर दी है

क्षत्रपों की साझेदारी से बदलेगी तस्वीर

सोनिया गांधी की बुलाई विपक्षी पार्टियों की बैठक की खास बात यह थी कि उसमें चार गैर कांग्रेसी मुख्यमंत्री शामिल हुए।

एक पहलवानः कई लकवाग्रस्त मरीज़

हमारे विपक्षी दल एकजुट होने के लिए क्या-क्या द्राविड़ प्राणायाम नहीं कर रहे हैं? अब कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने 20 अगस्त को विपक्षी दलों के शीर्ष नेताओं की बैठक बुलाई है।

सरकार डाल-डाल तो विपक्ष पात-पात!

संसद के मॉनसून सत्र का आखिरी हफ्ता चल रहा है और विपक्षी पार्टियों के सांसद अपनी राजनीति को लेकर चिंता में हैं। विपक्ष के कई सांसदों ने पत्रकारों से अनौपचारिक बातचीत में अपनी चिंता जताई। उनका कहना है कि हंगामे की वजह से संसद की कार्यवाही नहीं चल रही है पर इसी में सरकार अपना काम कर ले रही है

नरेंद्र भाई और छद्म-गैयाओं के बीच हम

नरेंद्र भाई मोदी राजकाज के हर कूचे में बेआबरू हैं। वे आर्थिक बहीखाते के हर पन्ने के खलनायक हैं। वे देश की सुरक्षा के बाहरी-भीतरी मोर्चों पर लड़खड़ाए हुए हैं। वे राजनय के हर अंतःपुर में अवांछित-से हो गए हैं।

खेल रत्न पुरस्कार का नाम बदलने पर ट्रोल हुई पीएम मोदी, यूजर्स बोले मोटेरा स्टेडियम का नाम किस महान खिलाड़ी के नाम पर…

पीएम मोदी की इस घोषणा का जहां लोगों ने खुले दिल से स्वागत किया. वहीं कुछ लोगों ने इस घोषणा पर पीएम मोदी को ट्रोल करना शुरू कर दिया. लोग सोशल मीडिया और ट्विटर पर

सपा को लाना है विपक्षी खेमे में!

समाजवादी पार्टी विपक्ष में है लेकिन वह बाकी विपक्षी पार्टियों के तरह गठबंधन बना कर भाजपा विरोध की राजनीति में शामिल नहीं है। वह अकेले अपनी राजनीति कर रही है। उत्तर प्रदेश का विधानसभा चुनाव भी सपा को अकेले लड़ना है

ममता की असल भूमिका क्या होगी?

ममता बनर्जी पांच दिन तक दिल्ली में विपक्ष को एकजुट करने की राजनीति करके लौट गई हैं। उन्होंने पांच दिन तक दिल्ली में जो मेल-मुलाकात की उसका लब्बोलुआब यह था कि वे भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ एक मोर्चा बनाना चाहती हैं

‘फोन टैपिंग’ पॉलिटिक्स में पाकिस्तान की एंट्री ? पाक विदेश मंत्रायल ने लगाया इमरान खान की जासूसी का आरोप, कहा- UN जांच करे

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने कहा कि भारत की फोन टैपिंग की खबरों पर ध्यान देने से पता चला है कि भारत की सरकार अपने प्रतिद्वंदियों के साथ ही हमारे कार्यालयों और पीएम कार्यालय की भी निगरानी कर रही है.

विपक्ष में क्या हाशिए में होगी कांग्रेस?

तभी वे इस सोच में है कि भारतीय जनता पार्टी कमजोर होगी या उसकी सरकार गलतियां करेगी तो देश के मतदाता स्वाभाविक रूप से कांग्रेस को विकल्प मान लेंगे। यह कांग्रेस की सबसे बड़ी कमजोरी है कि वह अपने को वास्तविक विपक्ष के तौर पर स्थापित करने और भाजपा से लड़ने की बजाय इस उम्मीद में बैठी है कि वह भाजपा का स्वाभाविक विकल्प है। यह भी पढ़ें: भारतीय राजनीति का विद्रूप कांग्रेस देश की सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी है। लोकसभा के दो चुनावों से वह मुख्य विपक्षी पार्टी बनने लायक सीटें नहीं जीत पा रही है फिर भी वह विपक्ष की सबसे बड़ी पार्टी है और अखिल भारतीय स्तर पर मिले वोट प्रतिशत के लिहाज से वह मुख्य विपक्षी पार्टी भी है। देश के हर राज्य में उसका संगठन हैं, चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवार हैं और कमजोर होने के बावजूद उसका एक निश्चित वोट बैंक भी है। उसके मुख्य विपक्षी पार्टी होने का एक सबूत यह भी है कि प्रधानमंत्री से लेकर सत्तारूढ़ दल के हर नेता के निशाने पर कांग्रेस और उसके नेता होते हैं। सो, कायदे से कांग्रेस को ही विपक्ष की राजनीति का केंद्र होना चाहिए। अभी तक ऐसा रहा भी है लेकिन अब ऐसा लग… Continue reading विपक्ष में क्या हाशिए में होगी कांग्रेस?

Kisan Andolan: किसानों ने मनाया काला दिवस

नई दिल्ली। केंद्र सरकार के बनाए तीन कृषि कानून के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों ने बुधवार को काला दिवस मनाया। बुधवार यानी 26 मई को किसान आंदोलन के छह महीने पूरे हुए। इस मौके पर किसानों ने काला दिवस मनाया और इस दौरान उन्होंने काले झंडे फहराए, सरकार विरोधी नारे लगाए, पुतले जलाए और प्रदर्शन किया। गाजीपुर में प्रदर्शन स्थल पर थोड़ी अराजकता भी हुई, जहां किसानों ने भारी संख्या में पुलिसकर्मियों की तैनाती के बीच प्रधानमंत्री का पुतला जलाया। इस दौरान हल्की झड़प हुई। काला दिवस मनाने के दौरान किसानों ने दिल्ली के तीन सीमा क्षेत्रों सिंघू, गाजीपुर और टिकरी पर काले झंडे लहराए और नेताओं के पुतले जलाए। दिल्ली पुलिस ने लोगों से कोरोना वायरस संक्रमण से हालात और लागू लॉकडाउन को देखते हुए इकट्ठा नहीं होने की अपील की थी। हालांकि इसके बावजूद बड़ी संख्या में लोग इकट्ठा हो गए थे। किसान नेताओं ने बताया कि प्रदर्शन की जगह पर ही नहीं, बल्कि हरियाणा, पंजाब और उत्तर प्रदेश के गांवों में भी काले झंडे लगाए गए हैं। नेताओं ने कहा कि ग्रामीणों ने अपने घरों और गाड़ियों पर भी काले झंडे लगाए। भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने बुधवार की सुबह कहा था- हम… Continue reading Kisan Andolan: किसानों ने मनाया काला दिवस

और लोड करें