बूढ़ा पहाड़
राजधानी में ही भारत-पाकिस्तान!

आजाद भारत, उसकी राजधानी दिल्ली और शासक हिंदू महाराजाधिराज नरेंद्र मोदी-अमित शाह मगर इसके बावजूद घर-घर मैसेज बनवाया जा रहा है कि दिल्ली में पाकिस्तान है

चुनाव आयोग भी आखिर क्या करे?

अजित कुमार: नियमों और कायदों का अनुपालन और उस पर अमल आमतौर पर संस्थाओं के साथ सरकार और सत्तारूढ़ दल की जिम्मेदारी होती है। पर अगर सत्तारूढ़ दल और सरकार के मंत्री ही सबसे ज्यादा नियमों का उल्लंघन करें तो संस्थाएं क्या करेंगी? दिल्ली में हो रहे विधानसभा चुनाव के प्रचार में जिस तरह से केंद्र सरकार के मंत्री और सत्तारूढ़ दल के नेता आचार संहिता के लिए तय नियमों की धज्जियां उड़ा रहे हैं और चुनाव आयोग जिस तरह से उसे रोकने के आधे अधूरे प्रयास कर रहा है उससे समूची चुनाव प्रक्रिया और एक संवैधानिक संस्था के तौर पर चुनाव आयोग के ऊपर बड़ा सवाल खड़ा हो गया है। इससे सत्तारूढ़ दल की राजनीतिक नैतिकता पर भी बड़ा सवाल उठा है। इसमें संदेह नहीं है कि राजनीति करने वाली सभी पार्टियों का अंतिम लक्ष्य चुनाव जीतना और सत्ता हासिल करना होता है। पर क्या चुनाव जीतने के लिए कुछ भी किया जा सकता है? किसी भी तरह के साधन का इस्तेमाल किया जा सकता है? प्रचार में कुछ भी कहा जा सकता है? सांप्रदायिक और जातीय ध्रुवीकरण के लिए कैसे भी भड़काऊ बयान दिया जा सकता है? क्या किसी सभ्य देश में हो रहे चुनाव के बारे में… Continue reading चुनाव आयोग भी आखिर क्या करे?

दिल्ली में टूटती मर्यादाएं

निर्वाचन आयोग ने अनुराग ठाकुर और प्रवेश वर्मा को भारतीय जनता पार्टी के स्टार प्रचारकों की लिस्ट से हटाने का निर्देश दिया है। दोनों ने दिल्ली विधान सभा के चुनाव के लिए जारी प्रचार के दौरान भड़काऊ भाषण दिए थे। इसके पहले भाजपा उम्मीदवार कपिल मिश्रा भी ऐसी बात कह चुके थे। उनके खिलाफ भी आयोग ने कार्रवाई की। लेकिन ये तमाम कार्रवाइयां दिखावटी महसूस होती हैं, क्योंकि भाजपा नेताओं को इनसे कोई फर्क नहीं पड़ता। पार्टी के नेता खुलकर सांप्रदायिक प्रचार कर रहे हैं। उनके इस शोर के बीच शासन एवं प्रशासन संबंधी प्रमुख मुद्दे गायब हो गए हैं। आम आदमी पार्टी की इसके लिए तारीफ जरूर करनी होगी कि वहग अपने काम पर वोट मांग रही है। जबकि भाजपा का मुख्य निशाना शाहीनबाग और नागरिकता संशोधन कानून विरोधी आंदोलन है। उसका कहना है कि दिल्ली के शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन कानून के बहाने नरेंद्र मोदी के खिलाफ विरोध हो रहा है। पार्टी ने कहा है कि दिल्ली का चुनाव में जीतते ही वह शाहीन बाग का रास्ता खुलवा देगी। दिल्ली विधानसभा चुनाव 2015 में आम आदमी पार्टी (आप) ने अकेले 54 फीसदी वोट के साथ 70 में से 67 सीटें जीती थीं। इसी इतिहास को दोहराने की… Continue reading दिल्ली में टूटती मर्यादाएं

यह ध्रुवीकरण नहीं, धुंआकरण है

एक पुरानी कहावत है कि प्रेम और युद्ध में किसी नियम-कायदे का पालन नहीं होता। मैं सोचता हूं कि यह कहावत सबसे ज्यादा लागू होती है हमारे चुनावों पर! चुनाव जीतने के लिए कौन-सी मर्यादा भंग नहीं होती ? कोई भी प्रमुख उम्मीदवार यह दावा नहीं कर सकता कि उसने चुनाव-अभियान के लिए अंधाधुंध पैसा नहीं बहाया है। चुनाव आयोग द्वारा बांधी गई खर्च की सीमा का उल्लंघन कौन प्रमुख उम्मीदवार नहीं करता ? शराब, नकदी और तरह-तरह के तोहफों का अंबार लगा रहता है। दिल्ली में आजकल जो चुनाव-अभियान चल रहा है, उसमें उक्त मर्यादा-भंग तो हो ही चुका है लेकिन कुछ नेताओं ने ऐसे बोल बोले हैं, जो उनकी अपनी प्रतिष्ठा को तो धूमिल करते ही है, उनकी पार्टी को भी बदनाम करते हैं। वे बयान भारतीय राजनीति को उसके निम्नतम स्तर पर ले जाते हैं। राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर और भाजपा सांसद प्रवेश वर्मा, दोनों ही युवक मुझे प्रिय हैं। इन दोनों के पिताजी मेरे मित्र रहे हैं। दोनों का व्यक्तित्व आकर्षक है लेकिन मेरी समझ में नहीं आता कि दोनों ने ऐसी बातें कैसे कह दीं, क्यों कह दीं ? ‘देश के गद्दारों को, गोली मारो इन सालों’ को और ‘ये लोग तुम्हारे घरों में घुसकर बलात्कार… Continue reading यह ध्रुवीकरण नहीं, धुंआकरण है

अनुराग ठाकुर और प्रवेश वर्मा पर कार्रवाई

नई दिल्ली। केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर और भाजपा के सांसद प्रवेश वर्मा के खिलाफ केंद्रीय चुनाव आयोग ने बड़ी कार्रवाई की है। दिल्ली विधानसभा चुनाव में भड़काऊ भाषण देने की शिकायत पर कार्रवाई करते हुए चुनाव आयोग ने भाजपा को निर्देश दिया है कि वह इन दोनों नेताओं को अपने स्टार प्रचारकों की सूची से बाहर करे। इससे पहले चुनाव आयोग ने दोनों नेताओं को 28 जनवरी को नोटिस भेज कर जवाब मांगा था। एक दिन बाद ही चुनाव आयोग ने उन पर कार्रवाई का निर्देश दिया है। चुनाव आयोग का यह आदेश अंतरिम है। दोनों नेताओं को गुरुवार 12 बजे तक जवाब देने का वक्त दिया है। इसके बाद आयोग की बैठक में इन पर अंतिम फैसला लिया जाएगा। केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने 27 जनवरी को रिठाला में रैली की थी। इस रैली का एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें ठाकुर ने भीड़ से भड़काऊ नारे लगवाए थे। कांग्रेस ने इसे ध्रुवीकरण की कोशिश बताया था। इसके बाद चुनाव आयोग ने उन्हें नोटिस भेजकर जवाब मांगा था। पश्चिम दिल्ली से सांसद और पूर्व मुख्यमंत्री साहिब सिंह वर्मा के बेटे प्रवेश वर्मा ने 28 जनवरी को कहा था- शाहीन बाग में लाखों लोग जमा हैं। दिल्ली… Continue reading अनुराग ठाकुर और प्रवेश वर्मा पर कार्रवाई

और लोड करें