hindu

बैलगाड़ी से चंद्रयान…फिर भी गंगा शववाहिनी!

पिछले तीन सौ सालों की भारत घटनाओं, भारत अनुभव में बैलगाड़ी से चंद्रयान के सफर के अलग-अलग वक्त पर गौर, तुलना करें तो सन् 2020-21 का सत्य है कि हमने पश्चिमी ज्ञान-विज्ञान की खोज से चंद्रयान, मेडिकल साइंस, अस्पताल,...

महामारी से साबित स्थाई अंधयुग!

हम अंधकार में जीने के वक्त याकि काले कलियुग को लिए हुए हैं। तभी आज भी भारत में मौते झूठ, अंधकार में वैसे ही लुप्त हो रही है जैसे पिछली सदियों में होती थी। भले सदी इक्कीसवीं और उसका...

सीएए के नियम क्यों नहीं बना रही सरकार?

संशोधित नागरिकता कानून यानी सीएए संसद से पास होकर राष्ट्रपति की मंजूरी के बाद कानून बन चुका है। लेकिन अभी तक केंद्र सरकार ने इस कानून के नियम नहीं अधिसूचित किए हैं इसलिए यह कानून लागू नहीं हो रहा...

मलेरकोटलाः एक बेमिसाल मिसाल

पंजाब के मलेरकोटला कस्बे के बारे में ज्ञानी जैलसिंहजी मुझे बताया करते थे कि अब से लगभग 300 साल पहले जब गुरु गोविंदसिंह के दोनों बेटों को दीवार में जिंदा चिनवाया जा रहा था, तब मलेरकोटला के नवाब शेर...

संघ-परिवार का उतरता रंग

इन दिनों संघ-परिवार पर हैरत बढ़ गई है। विशेषकर, शाहीनबाग पर सड़क कब्जा, जामिया-मिलिया से लेकर कई जगहों पर दिल्ली पुलिस पर हमले, लाल किला पर देश-विरोधी उपद्रव, और अब बंगाल में भाजपा समर्थकों का चुन-चुन कर मारा जाना,...

बुद्धि जब कलियुग से पैदल हो!

मेरे तो गिरधर गोपाल (मोदी) दूसरा न कोई-2:  हम हिंदू मानते है कि हम कलियुग में रह रहे है। कलियुग के उसके क्या त्रास, क्या कष्ट, क्या व्यथा है? भूख, भय और गुलामी। भूख कलियुग में लगातार लूटे जाने...

संघ-वीएचपी वालों शर्म करो! अरबों रुपए के चंदे में कुछ तो हिंदुओं को सांस देने पर खर्च करो!

मैं हिंदू हूं। सनातनी सत्व-तत्व की जीवन आस्थाएं लिए हुए हूं और हिंदू होने के गर्व में जीवन जीया है। लेकिन अब मैं सोचने को विवश हूं कि कैसे हम हिंदू, कैसा हिंदू काल, जिसमें हिंदू प्राणी की सांस...

मंदिर विज्ञान और सीनू जोसेफ

पहली ही पुस्तक से चर्चित लेखकों में सीनू जोसेफ का नाम भी जुड़ गया है। कैथोलिक क्रिश्चियन पृष्ठभूमि की सीनू ने इंजीनियरिंग पढ़ी। किन्तु बाद में लड़कियों की स्वास्थ्य शिक्षा कार्य को अपना लिया। जब सबरीमला मंदिर में रजस्वला...

स्वास्तिक: हमारा या हिटलर का ?

अमेरिका के मेरीलेंड नामक प्रांत की विधानसभा में एक ऐसा विधेयक लाया गया है, जो भारतीय लोगों के लिए बड़ी मुसीबत पैदा कर सकता है। वह विधेयक यदि कानून बन गया तो बाइडन और मोदी प्रशासनों के बीच भी...

दलित और मुस्लिम में गठजोड़ कैसे स्वाभाविक?

दिल्ली में सराय काले खां घटनाक्रम से स्वयंभू सेकुलरवादी, वामपंथी-जिहादी और उदारवादी-प्रगतिशील कुनबा अवाक है। इसके तीन कारण है। पहला- पूरा मामला देश के किसी पिछड़े क्षेत्र में ना होकर राजधानी दिल्ली के दलित-बसती से संबंधित है। दूसरा- इस...
- Advertisement -spot_img

Latest News

पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पाकिस्तान का उदाहरण देकर वैक्सीन लगवाने की अपील की..

ऋषिकेश| पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत मुख्यमंत्री पद से हटने के बाद विवादों में बने रहते है। कभी ये...
- Advertisement -spot_img