nayaindia Madhya pradesh lok sabha election प्रदेश में लोकसभा चुनाव संपन्न
Columnist

प्रदेश में लोकसभा चुनाव संपन्न

Share

भोपाल। सोमवार को आठ लोकसभा क्षेत्र में चुनाव संपन्न होने के साथ ही प्रदेश की सभी 29 सीटों पर लोकसभा के चुनाव हो चुके हैं अब 4 जून को पता चलेगा कि भाजपा के सभी 29 सीटों को जितने के टारगेट हासिल कर पाती है या कांग्रेस कितनी सीटें जीतती है हालांकि खजुराहो लोकसभा सीट और इंदौर लोकसभा सीट पर भाजपा को बाकोबर जैसी स्थिति रही जहां कांग्रेस चुनाव मैदान में नहीं थी।

दरअसल, प्रदेश में चार चरणों में लोकसभा के चुनाव हुए हर चरण अपनी अलग विशेषता लिए हुए था हर चरण में अलग-अलग मुद्दे भी गर्माये रहे भाजपा और कांग्रेस के राष्ट्रीय नेताओं ने भी प्रदेश में आकर जनसभाएं की प्रादेशिक नेताओं ने भी जमकर चुनाव प्रचार किया इसके बावजूद 2019 के लोकसभा चुनाव की तरह मतदान प्रतिशत नहीं आ पाया लगभग प्रत्येक चरण में मतदान प्रतिशत कम रहा प्रथम और दूसरे चरण में कम मतदान प्रतिशत के बाद राजनीतिक दल प्रशासन और चुनाव आयोग सक्रिय हुआ और उसके बाद तीसरे और चौथे चरण में मतदान प्रतिशत बढ़ाने की कोशिश कामयाब रही लेकिन इंदौर जैसे महानगर में जो जागरूकता के लिए जाना जाता है पूरे देश में लगातार सात बार स्वच्छता में प्रथम स्थान पर आ रहा हैI

इसके बावजूद खबर लिखे जाने तक लगभग 52% मतदान की जानकारी आई है इंदौर में कांग्रेस के घोषित प्रत्याशी अक्षय क्रांति बम में नामांकन पत्र वापस लेने के आखिरी दिन नामांकन पत्र वापस लिया और भाजपा में शामिल हो गए इसके बाद इंदौर में दुविधा की स्थिति बनी जो मतदान के आखिरी समय तक बनी रही हालांकि कांग्रेस पार्टी ने खुलकर नोटा के पक्ष में मतदान करने की अपील की एक तरह से प्रचार किया कोई दूसरी ओर भाजपा ने नोटा को वोट न देने के लिए पूरी जागरूकता जनता के बीच बढ़ाने की कोशिश की लेकिन मतदान प्रतिशत इन सब के बाद भी नहीं बढ़ पाया भाजपा का दावा है कि इंदौर भाजपा बड़े अंतर से जीत करेगी क्योंकि कांग्रेस मैदान में ही नहीं थी और लोग नोटा को वोट क्यों देते जबकि कांग्रेस में कब मतदान को मतदाताओं की सत्ताधारी दल से नाराजगी बताया।

बहरहाल आठ लोकसभा क्षेत्र में शाम तक लगभग 68 प्रतिशत मतदान होने की खबर है सबसे ज्यादा रतलाम लोकसभा सीट की सैलाना विधानसभा सीट पर 82% मतदान हुआ है मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव के गृह क्षेत्र उज्जैन में शुरुआत में धीमा मतदान हुआ लेकिन शाम तक 70% से भी ज्यादा मतदान हो गया देवास में 71% धार में 67% खंडवा में 68% खरगोन में 70% मंदसौर में 71% रतलाम में 70% और इंदौर में 56% से भी ज्यादा मतदान हुआ।

मालवा का इलाका भाजपा का परंपरागत गढ माना जाता है इस कारण भाजपा को जीत की पूरी उम्मीद है लेकिन आरक्षित वर्ग की सीटों पर जिस तरह से कांग्रेस ने चुनौती पेश की है उसके कारण धार रतलाम और खरगोन में कांटे की टक्कर मानी जा रही है इंदौर सीट पर भाजपा दिन भर बढत बनने के लिए कसरत करती रही शुरुआती दौर में इंदौर में कम मतदान की खबरें थी उसके बाद भाजपा नेता सक्रिय हुए लेकिन आखिरी समय में मौसम की खराबी के कारण भी मतदान प्रभावित हुआ और केवल मतदान 52% के आसपास ही हो पाया है।

कुल मिलाकर देर शाम तक और मतदान प्रतिशत बढ़ाने की संभावना है लेकिन आठो सीटों पर औसत 70% मतदान होने की संभावना है दोनों ही दलों के अपने-अपने दावे हैं लेकिन जनता ने किसकी पक्ष में मतदान किया है यह तो 4 जून को ही पता चलेगा लेकिन प्रदेश में लोकसभा के चुनाव सभी 29 सीटों पर संपन्न हो चुके हैं जबकि देश में एक जून तक मतदान होना है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

Naya India स्क्रॉल करें