कमिटमेंट ‘प्रियंका’ का दावँ पर ‘कमलनाथ’ का मैनेजमेंट…

प्रियंका गांधी ने लखीमपुर से लेकर लखनऊ और अब वाराणसी से कांग्रेस का झंडा बुलंद कर जो कमिटमेंट उत्तर प्रदेश से किया.. आखिर कांग्रेस की इस नई लाइन को  मध्यप्रदेश में  कौन समझेगा और उसे आगे बढ़ाएगा

माहौल और मैनेजमेंट का महा मुकाबला

प्रदेश में होने जा रहे एक लोकसभा और तीन विधानसभा के उपचुनाव में अलग-अलग जगह विभिन्न प्रकार की परिस्थितियां हैं। कहीं माहौल है तो कहीं मैनेजमेंट है और शुरुआत से ही मुकाबला प्रतिष्ठा का बन गया है।

सियासत में साए से डरे संगठन और लीडर…

मशहूर शायर दुष्यंत कुमार का ग़ज़ल संग्रह ‘साए में धूप’ शेरो शायरी के शौकीनों के बीच बहुत पसन्द किया जाता है। इसमें समाज और सियासत के साथ हुक्मरानों पर काफी कुछ लिखा गया है।

लोकसभा उपचुनाव भाजपा के लिए चुनौती

लोकसभा की तीन सीटों का उपचुनाव भाजपा के लिए बड़ी चुनौती है तो कांग्रेस के लिए एक बड़ा अवसर है। भाजपा के सामने अपनी दो सीटें बचाने की चुनौती है

प्रत्याशी चयन बना चुनौती

प्रदेश में होने जा रहे एक लोकसभा और तीन विधानसभा क्षेत्रों के उपचुनाव के लिए राजनीतिक दलों को चुनाव से ज्यादा प्रत्याशी चयन की चुनौती है यहां तक की दो दावेदार पर निगाह रखी जा रही है।

उपचुनाव के दौर में नेताओं के बचकाना संवाद…

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उम्रदराज हुए पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ को बुज़ुर्ग, बीमार और थका हुआ बताया तो जवाब में वे कहते हैं शिवराज सिंह चौहान चाहे तो मेरे साथ रेस लगा के देख लें।

आउट ऑफ पैटर्न पॉलिटिक्स

जिस तरह किसी भी परीक्षा का प्रश्न पत्र आउट ऑफ पैटर्न आ जाने पर परीक्षार्थी परेशान हो जाते हैं ऐसा ही कुछ दौर इस समय राजनीति में आया है।

लोकसभा के उपचुनाव नहीं चाहती है भाजपा

इस बीच भाजपा की और सांसद लॉकेट चटर्जी को लेकर चर्चा शुरू हो गई है। वे भबानीपुर सीट पर ममता बनर्जी के खिलाफ प्रचार में नहीं गएं, जिसके बाद से अटकलें शुरू हुई हैं।

उपचुनाव घोषित दावेदार हुए सक्रिय

मध्यप्रदेश में बहुप्रतीक्षित एक लोक सभा और 3 विधानसभा के उपचुनाव घोषित हो गए हैं। 30 अक्टूबर को मतदान और 2 नवंबर को मतगणना हो जाएगी।

चुनाव आयोग उपचुनाव टाले

घोष ने मांग की कि स्थिति के सामान्य होने तक 30 सितंबर को होने वाले उपचुनाव को टाल दिया जाए, जबकि चुनाव आयोग ने घटना पर राज्य सरकार से रिपोर्ट मांगी है।

प्रदेश में उपचुनाव के लिए सजने लगा मैदान

प्रदेश में राजनीतिक माहौल को परखने के लिए एक लोकसभा और 3 विधानसभा के उपचुनाव लिटमस टेस्ट माने जा रहे हैं।

इस महीने उपचुनावों की घोषणा संभव

ममता बनर्जी और उनकी पार्टी ने कई बार चुनाव आयोग से चुनाव कराने की अपील की है। कोरोना का केसेज कम होने के नाम पर जल्दी चुनाव कराने की मांग हो रही है।

बंगाल में उपचुनाव की घोषणा जल्दी

पश्चिम बंगाल में उपचुनावों की घोषणा जल्दी हो सकती है। पिछले कुछ समय से इस बात की अटकलें लगाई जा रही थीं कि उपचुनाव होंगे या नहीं। उपचुनाव मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के लिए बहुत जरूरी है क्योंकि उनको पांच नवंबर से पहले किसी हाल में विधायक बनना है

ममता की बेचैनी बढ़ रही है

mamta banerjee trinamool delegation : पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष ममता बनर्जी अपने संसदीय नेताओं का एक प्रतिनिधिमंडल चुनाव आयोग के पास भेज रही हैं। यह प्रतिनिधिमंडल 15 जुलाई को चुनाव आयोग से मुलाकात करेगा और अनुरोध करेगा कि पश्चिम बंगाल में खाली हुई सात विधानसभा सीटों पर जल्दी उपचुनाव कराए। असल में ममता की चिंता सात सीटों की नहीं, बल्कि अपनी सीट की है। उनके पास नवंबर के पहले हफ्ते तक का समय है। अगर उस समय तक उपचुनाव नहीं होता है और वे किसी सीट से चुनाव लड़ कर विधायक नहीं बनती हैं तो उनको मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देना होगा। Read also: सिद्धू के लिए आप में क्या जगह है? ममता ने घबराहट में एक और कदम उठाया है। उन्होंने विधान परिषद के गठन का प्रस्ताव राज्य विधानसभा से पास कराया है लेकिन सबको पता है कि उस प्रस्ताव को संसद में मंजूरी नहीं मिलनी है। इसलिए विधान परिषद तो उनको भूल जाना चाहिए। अब रही बात विधानसभा के उपचुनाव कराने की तो वह चुनाव आयोग की मर्जी पर निर्भर है और इस बात पर भी निर्भर है कि कोरोना वायरस की दूसरी लहर कब खत्म होती है और तीसरी लहर की… Continue reading ममता की बेचैनी बढ़ रही है

Bengal election results : बंगाल जीतने और नंदीग्राम हारने के बाद ममती बनर्जी को CM बनने के लिए करना होगा ये काम

Kolkata: देश में कोरोना कि बिगड़े हालातों के बीच अंततः पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के नतीजे की घोषणा हो गई. बंगाल में TMC ने भाजपा को बड़े अंतर से हरा दिया है.  लेकिन इस चुनाव परिणाम में सबसे ज्यादा रोचक बात यह रही कि TMC प्रमुख ममता बनर्जी नंदीग्राम से चुनाव हार गई.  TMC के पूर्व नेता शुभेंदु सरकार ने ममता बनर्जी को नंदीग्राम विधानसभा चुनाव में हरा दिया. कल मतगणना के दौरान नंदीग्राम सीट पर पहले तो कहा गया कि ममता बनर्जी ने जीत हासिल कर ली है लेकिन बाद में ममता बनर्जी ने खुद प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इस बात को स्वीकार लिया कि वह चुनाव हार गई है और उन्हें जनता का फैसला मंजूर है. बता दें चुनावी मतगणना के बीच न्यूज़ एजेंसी ANI  ने भी पहले ममता बनर्जी की जीत का दावा किया था. चुनाव हारने के बाद भी बनी रहेंगी सीएम ? ऐसा कम ही देखा जाता है कि जिस नेता की पार्टी चुनाव जीत जाए और नेता प्रमुख ही चुनाव हार जाए. ऐसे में देश भर में यह सवाल उठ रहा है कि क्या ममता बनर्जी एक बार फिर से बंगाल की कमान संभालेंगी ? देश के कुछ विशेषज्ञों से बात करने पर उन्होंने कहा… Continue reading Bengal election results : बंगाल जीतने और नंदीग्राम हारने के बाद ममती बनर्जी को CM बनने के लिए करना होगा ये काम

और लोड करें