शिक्षा और चिकित्सा पर ध्यान जरुरी

भारत में शिक्षा और चिकित्सा की जितनी दुर्दशा है, उतनी तो कुछ पड़ौसी देशों में भी नहीं है।

शराब  बनाम  शिक्षा व स्वास्थ्य

शराब दुकानों की बाढ़ से मध्यम वर्ग भारी चपेटे में आएगा। प्रभाव सरकार के फ्लैगशिप कार्यक्रम शिक्षा व स्वास्थ्य पर होगा।

Madhy pradesh : शादी के बाद की पढ़ाई से नाराज था ससुर, काट दिए बहू के दोनों हाथ…

मध्य प्रदेश के विदिशा में रहने वाले ससुर ने अपनी बहू के दोनों हाथ तलवार से काट दिए. अचानक से हुए इस हमले में बहू…

Report : कोरोना के बाद देश के सरकारी स्कूलों में बढ़ी अभिभावकों की रूची, उत्तर प्रदेश में…

पिछले तीन साल में छात्रों का झुकाव निजी स्कूलों से सरकारी स्कूलों की ओर बढ़ा है. इसमें भी उत्तर प्रदेश और केरल के सरकारी…

मुसलमान सोचें अपने असल मसले पर

ध्यान रहे कि भारत के मुसलमानों में शिक्षा की क्रान्ति करने वाले सर सैयद ने भी हमेशा एजुकेशन नहीं, मार्डन एजुकेशन की बात की थी और जब कोई सोच भी नहीं सकता था

Social Media Virel : क्या आपने देखा MA अंग्रेजी चाय वाली की दुकान, सोशल मीडिया में हो रही है वायरल…

कोलकाता की रहने वाली टुकटुक दास इन दिनों सोशल मीडिया में छाई हुई हैं. टुकटुक के माता पिता चाहते थे कि वह पढ़ लिख कर कोई बड़ा काम करे..

बच्चे पढ़ें तो कैसे?

तो जाहिर है, शिक्षा के स्तर में सुधार के लिए शिक्षकों के रोजगार की शर्तों और ग्रामीण इलाकों में काम करने की स्थिति में सुधार करने की अविलंब आवश्यकता है।

दीपावली की छुट्टियों के लिए डोटासरा ने खोला दिल, 10 दिन की होंगी छुट्टियां

दीपावली की छुट्टियों को लेकर निकाले गए आदेश में संशोधन करते हुए शिक्षा मंत्री गोविंदसिंह डोटासरा ने कहा है कि अब दीपावली की छुट्टियां 10 दिन की होंगी।

अब स्कूलों में बच्चे को तकलीफ हुई तो स्कूल जिम्मेदार, मान्यता हो सकती है रद्द

केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने स्कूलों में छात्रों की सुरक्षा के लिए एक नीति तैयार की है। यह नीति छात्रों को किसी भी उत्पीड़न, शारीरिक चोट और मानसिक रूप से सुरक्षित रखने के लिए है।

Good News : आयुष्मान भारत योजना का 12 अक्टूबर से इस चीज में उठा सकेंगे फायदा…

आयुष्मान भारत योजना से जुड़े ट्रांसजेंडर को मेडिकल कवर के साथ ही सेक्स चेंज के लिए होने वाले ऑपरेशन में भी मदद मिलेगी. बता दें कि इसके पहले इस योजना का प्रयोग सिर्फ और सिर्फ मेडिकल कवर…

व्यवहार की भाषा ही देश की भाषा हो

जातीय अर्थात राष्ट्रीय उत्थान और सुरक्षा के लिये किसी भी देश की भाषा वही होना श्रेयस्कर होता है, जो जाति अर्थात राष्ट्र के कामकाज और व्यवहार की भाषा हो। समाज की बोल-चाल की भाषा का प्रश्न पृथक् है।

भारतीय ज्ञान परंपरा और शिक्षा में दूरी

लगभग सौ-सवा सौ वर्षों से भारत के महान ज्ञान-ग्रंथों के साथ विचित्र मजाक हुआ है। एक ओर पूरी दुनिया में उन का सतत निर्यात होता रहा, और हरेक देश के जिज्ञासुओं ने उन से लाभ उठाया।

अजब-गजब : ऑनलाइल क्लासेज में नहीं हो रही थी उपस्थिति तो लाउडस्पीकर लेकर बुलाने निकल पड़े शिक्षक ….

नई दिल्ली | Teachers Inviting through loudspeakers : कोरोना और लॉकडाउन के कारण देश में सबसे ज्यादा प्रभावित कुछ हुआ है तो वो है भारत की शिक्षा व्यवस्था. पिछले 2 सालों से स्कूलों और कॉलेजों में ताले लटके ही दिखाई दिये हैं. हालांकि बीच में एक ऐसा दौर भी आया जहां कुछ समय के लिए सबकुछ खुल गया था, उस समय लग रहा था कि अब कुछ दिनों में हालात सामान्य हो जाएंगे लेकिन कोरोना की दूसरी लहर के काऱण एक बार फिर से स्थितियां वहीं पहुंच गई है. अब जब कोरोना की दूसरी लहर से कुछ राहत मिली है तो लोगों को उम्मीदें एक बार फिर से जाग गई हैं, देश की राजधानी दिल्ली में हालात कुछ ऐसे बन गए हैं कि लॉकडाउन के बाद ढूंढने से भी छात्र नहीं मिल रहे हैं. अब परेशानियों से निपटने के लिए राजधानी के सरकारी स्कूलों ने एक नई मुहिम चलाई है. दिल्ली के रोहिणी सेक्टर 8 के सर्वोदय विद्यालय के शिक्षकों द्वारा गांव के आसपास की झुग्गी झोपड़ियों में जाकर लाउडस्पीकर से बच्चों को बुलाया जा रहा है. शिक्षकों की यह मुहिम सोशल मीडिया में भी तेजी से वायरल हो रही है और लोग इसे काफी पसंद कर रहे हैं. सब्जी… Continue reading अजब-गजब : ऑनलाइल क्लासेज में नहीं हो रही थी उपस्थिति तो लाउडस्पीकर लेकर बुलाने निकल पड़े शिक्षक ….

Haryana : 10 साल की बच्ची का गैंगरेप, आरोपियों में से 3 तो रिश्तेदार…

रेवाड़ी | देश में महिलाओं के प्रति अपराध लगातार बढ़ता जा रहे है. अब नाबालिग बच्चियों के साथ दुष्कर्म की घटनाएं बढ़ रही हैं. ऐसे ही एक मामला हरियाणा के रेवाड़ी जिले से सामने आया है. जानकारी के अनुसार स्कूल की बिल्डिंग के बगल में मैदान में खेलने वाले कुछ बच्चों ने 10 साल की मासूम के साथ गैंग रेप किया और इसके बाद अपने अपने घर चले गए. सबसे बड़ी हैरानी की बात यह है कि गैंग रेप करने वाले इन आरोपी बच्चों में सिर्फ तीन उसके अपने रिश्तेदार थे. एक और आश्चर्य की बात है कि इस गैंगरेप को अंजाम देने वाले बच्चों में सिर्फ एक ही बालिग अट्ठारह वर्ष का लड़का था और बाकी सारे युवकों की उम्र 10 से 12 वर्ष के लगभग थी.   जानकारी के बाद अभिभावकों ने दर्ज की शिकायत यह वारदात 24 मई की बताई जा रही है. इस वारदात को अंजाम देने के बाद ना तो युवकों ने कुछ कहा और ना ही बालिका नहीं घर आकर अपने मां-बाप को इसके बारे में जानकारी दी. इस गैंगरेप को अंजाम देने के दौरान किसी युवक ने इस पूरे वारदात का एक वीडियो बना लिया था और फिर उसे सोशल मीडिया में वायरल… Continue reading Haryana : 10 साल की बच्ची का गैंगरेप, आरोपियों में से 3 तो रिश्तेदार…

सब खलास, शिक्षा सर्वाधिक!

सत्य है मनुष्य जब है तो सब खत्म नहीं हुआ करता! फिर भारत तो 140 करोड़ लोगों की भीड़ है। उस नाते खत्म और खलास होने की बात में मेरा मतलब है कि जो इकट्ठा, संग्रहित था वह खलास। मैं नवंबर 2016 को भारत के 140 करोड लोगों का टर्निंग प्वांइट मानता हूं। तभी से लगातार लिख रहा हूं कि भारत का महा बरबादी काल प्रारंभ। लक्ष्मी की चंचलता खत्म सो भारत को वह श्राप, जिससे तय बरबादी। कोई न माने लेकिन गौर करें कि तभी से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी गलती को अभूतपूर्व कामयाबी करार देने के लिए भक्त लंगूरों, आईटी टीम से ऐसा झूठ बनवाया कि पूरा देश ही झूठा हो गया। नोटबंदी से शुरू झूठ महामारी को भी ‘अवसर’ बना गया। तभी भारत का एकत्र सब, भारत की बचत, आर्थिकी, प्रगति, निर्माण, शिक्षा, रोजगार, स्वास्थ्य, भारत की ऊर्जा याकि नौजवानी छीज-छीज कर खलास हुई। तभी कोरोना वायरस की महामारी आई तो उससे लड़ने के लिए हमारे पास कुछ नहीं था। हम पहले दिन से लेकर आज तक महामारी से लगातार झूठ में लड़ रहे हैं। यह भी पढ़ें: आर्थिकी भी खलास! यह भी पढ़ें: आधुनिक चिकित्सा पर शक! बारीकी से सोचें कि नवंबर 2016 से जून… Continue reading सब खलास, शिक्षा सर्वाधिक!

और लोड करें