सवाल साख का है

जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर अमेरिका की साख इतनी कमजोर है कि वहां से होने वाली घोषणाएं दिलचस्पी से ज्यादा सवाल पैदा करती हैं। इसीलिए राष्ट्रपति जो बाइडेन ने जलवायु परिवर्तन के मुकाबले के लिए जो अमेरिकी योजना पेश की है, हालांकि वो प्रभावशाली है, लेकिन उसकी विश्वसनीयता पर सवाल बने हुए हैँ। ये सवाल… Continue reading सवाल साख का है

जलवायु सम्मेलन आज, 40 विश्व नेता होंगे शामिल

नई दिल्ली। जलवायु परिवर्तन पर विश्व नेताओं का शिखर सम्मेलन 22 और 23 अप्रैल को होगा। इस बार यह शिखर सम्मेलन वर्चुअल होगा और इसमें दुनिया के 40 शीर्ष नेता शामिल होंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी इस सम्मेलन में हिस्सा लेंगे और उनका भाषण पहले ही सत्र में होगा। जो बाइडेन के राष्ट्रपति चुने जाने… Continue reading जलवायु सम्मेलन आज, 40 विश्व नेता होंगे शामिल

बात अगर एजेंडे पर हो

जलवायु परिवर्तन का असर अब दुनिया भर में जाहिर है। यानी जलवायु परिवर्तन के कारण दुनिया में तबाही होगी, ये अब महज चर्चा नहीं रही। बल्कि हर साल इस असर से जुड़ी घटनाएं दुनिया भर में बढ़ती जा रही हैं।

चमोली हादसे में मरने वालों की संख्या 206 हुई

उत्तराखंड के चमोली में ग्लेशियर टूट कर गिरने से आई बाढ़ में बह कर लापता हो गए 136 लोगों को मरा हुआ मान लिया गया है। हादसे के 17 दिन बाद राज्य सरकार ने इन सभी लापता लोगों को मृत घोषित कर दिया।

चमोली में 12 और शव मिले!

उत्तराखंड के चमोली में पिछले रविवार को ग्लेशियर टूट कर नदी में गिरने से आई बाढ़ में बह गए और एनटीपीसी की सुरंग में फंसे लोगों की तलाश और उन्हें निकालने का अब आठवें दिन भी जारी रहा।

तपोवन में बचाव कार्य जारी

चमोली में ग्लेशियर नदी में गिरने से आई बाढ़ के छह दिन बाद भी बचाव कार्य जारी है। रविवार को हुए हादसे के बाद राहत व बचाव टीम को अब तक 36 शव मिले हैं।

पांचवें दिन भी बचाव कार्य जारी

चमोली में ग्लेशियर गिरने से आई बाढ़ की वजह से एनटीपीसी की सुरंग में फंसे लोगों को निकालने के लिए हादसे के तीसरे दिन भी बचाव अभियान जारी रहा

संपूर्ण मानवता के खिलाफ हिमालयी भूल!

हिमालय की चोटियों पर और उसकी तलहटी में भी कुछ ऐसा हो रहा है, जिसे आंख मूंद कर विकास की होड़ में लगे लोग देख नहीं पा रहे हैं। बार-बार हिमालय की ओर से इसका संकेत भी दिया जा रहा है

चिंता का पहलू दूरगामी है

उत्तराखंड में हुए ताजा हादसे को देखें तो नुकसान के लिहाज से इसे बहुत बड़ी घटना नहीं माना जाता। इसके बावजूद इसकी खबर दुनिया भर में सुर्खियों में छायी हुई है

दो सौ के करीब लोग अब भी लापता

उत्तराखंड के चमोली जिले में ग्लेशियर टूट कर गिरने से आई बाढ़ में बह गए दो सौ के करीब लोग अब भी लापता है। 24 घंटे से ज्यादा बीतने के बाद कुल 30 के करीब लोगों के शव बरामद किए गए हैं

सुरंग में फंसे लोगों को निकालने का अभियान

उत्तराखंड के चमोली जिले में ग्लेशियर टूट कर नदी में गिरने से आई बाढ़ में बह गए लोगों को तलाशने या बचाने का काम 24 घंटे बीतने के बाद भी सोमवार को जारी रहा।

ग्लेशियर टूटा, 170 की मौत का अंदेशा

उत्तराखंड एक और भीषण प्राकृतिक आपदा का शिकार हुआ है। रविवार की सुबह राज्य के चमोली जिले के तपोवन में एक ग्लेशियर टूट कर ऋषिगंगा नदी में गिर गया।

मोदी, शाह कर रहे हैं निगरानी

उत्तराखंड के चमोली में ग्लेशियर टूट कर गिरने से हुए हादसे के बाद के हालात की केंद्र सरकार लगातार निगरानी कर रहा है।

जलवायु परिवर्तन से विज्ञान की मदद से लड़ें : ब्रिटिश प्रधानमंत्री

ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा कि जलवायु परिवर्तन से लड़ने के लिए वैज्ञानिक प्रगति का इस्तेमाल किया जा सकता है। उन्होंने इस चुनौती को ‘कोरोनावायरस की तुलना में कहीं

खेती में बदलती प्राथमिकताएं

कोरोना महामारी का एक असर यह हुआ है कि विकास नीति के मामलों में दुनिया की प्राथमिकताएं बदल रही हैं। स्थानीय उत्पादन और खेती अब विभिन्न देशों की प्राथमिकताओं में ऊपर आ गए हैं।

जलवायु परिवर्तन की गहरी मार

भारत के बड़े शहर जलवायु परिवर्तन की गहरी मार झेल रहे हैं। अति वृष्टि से बाढ़ जैसी हालत बनने या जल की कमी की समस्या लगभग हर शहर में है।

जलवायु परिवर्तन का मुकाबला समग्रता से हो: मोदी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को जी-20 शिखर सम्मेलन में कहा कि जलवायु परिवर्तन के खिलाफ अलग-थलग होकर लड़ाई लड़ने के बजाय एकीकृत, व्यापक और समग्र सोच को अपनाया जाना चाहिए।

जलवायु पर्वितन के लिए आवाज बुलंद करनी होगी : भूमि

अभिनेत्री भूमि पेडनेकर जलवायु परिवर्तन को लेकर लोगों के बीच जागरूकता का प्रसार करना चाहती हैं। उनका कहना है कि इस दिशा में सकारात्मक बदलाव लाने के लिए वह अपनी आवाज का इस्तेमाल करना चाहेंगी।

जलवायु परिवर्तन का मुकाबला करने में भारत बन सकता है ग्लोबल सुपरपावर: गुटेरेस

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने आज कहा कि भारत संसाधनों की स्वच्छता और जलवायु परिवर्तन का मुकाबला करने की दिशा में एक ‘ग्लोबल सुपरपावर’ के रूप में उभर सकता है।

आसन्न खतरे का आईना

ये रिपोर्ट अभी औपचारिक रूप से जारी होनी है, मगर एक विदेशी वेबसाइट ने इसमें मौजूद बातों की जानकारी पहले ही दे दी है। इससे सामने आई बातें चिंता बढ़ाने वाली हैं।

टिड्डी दलों का प्रकोप जलवायु परिवर्तन का नतीजा : विशेषज्ञ

र्यावरण विशेषज्ञों का दावा है कि राजस्थान, मध्य प्रदेश, गुजरात और महाराष्ट्र समेत कई राज्यों में आतंक का पर्याय बने टिड्डी दल दरअसल जलवायु परिवर्तन के कारण उत्पन्न स्थितियों का नतीजा हैं।

जलवायु परिवर्तन के खिलाफ साथ मिलकर काम करना जरूरी : जावड़ेकर

पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने आज कहा कि जलवायु परिवर्तन के खतरे से निपटने के लिए सभी देशों का साथ मिलकर काम करना जरूरी है।

मौसम के मिजाज को समझने की जरूरत

सारे देश इस समय कोरोना वायरस की चिंता में है। तभी बेमौसम हो रही इस समय की बरसात को लेकर भी अगर चिंता जाहिर की जा रही है तो वह भी कोरोना वायरस से ही जुड़ी है। यह आम धारणा है कि तापमान बढ़ने के साथ ही कोरोना का कहर समाप्त हो जाएगा। पर जबसे… Continue reading मौसम के मिजाज को समझने की जरूरत

ट्रंप बनाम ग्रेटा थुनबर्ग

डोनल्ड ट्रंप और ग्रेटा थुनबर्ग एक समय एक जगह पर उपस्थित हुए। मौका डावोस सम्मेलन का था

जियो जुड़ी जलवायु के खतरे बताने वाली कंपनियों से

नई दिल्ली। निवेशक भारतीय कंपनियों से जलवायु परिवर्तन के खतरे के बेहतर खुलासों की मांग कर रहे हैं। इन कंपनियों ने इंडिया इंक से बेहतर खुलासे किए हैं। सीडीपी इंडिया ने इन कंपनियों में 13 फीसदी की बढ़ोतरी देखी। इसमें रिलायंस जियो इन्फोकॉम लिमिटेड भी शामिल है, जिसने 2018 और 2019 के बीच जलवायु परिवर्तन… Continue reading जियो जुड़ी जलवायु के खतरे बताने वाली कंपनियों से

ग्रेटा थनबर्ग को टाइम ‘पर्सन ऑफ द ईयर 2019’ चुना

न्यूयॉर्क। ग्रेटा थनबर्ग को टाइम ‘पर्सन ऑफ द ईयर 2019’ चुना गया है। ग्रेटा ने महज एक साल के भीतर ही जलवायु के मुद्दे पर अपनी पहचान बनाई है। यूएन में उनका जलवायु परिवर्तन पर दिया गया उनका ‘हाउ डेयर यू’ भाषण काफी चर्चा में रहा था।जलवायु परिवर्तन को लेकर आवाज उठाने वाली स्वीडन की… Continue reading ग्रेटा थनबर्ग को टाइम ‘पर्सन ऑफ द ईयर 2019’ चुना

प्रदूषण जैसी समस्याओं का हल तकनीक से संभव : राष्ट्रपति

कानपुर। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शनिवार को कहा कि तकनीक से प्रदूषण जैसी समस्याओं का समाधान संभव है। कानपुर के तकनीकी संस्थान इसका उपाय खोजने में लगे हैं। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद शनिवार को कानपुर के पनकी स्थित पीएसआइटी में ‘रीसेंट एडवांसमेंट्स इन कंप्यूटर साइंस कम्युनिकेशन एंड इनफॉरमेशन टेक्नोलोजी’ विषय पर आयोजित अंतर्राष्ट्रीय कन्फ्रेंस में शामिल… Continue reading प्रदूषण जैसी समस्याओं का हल तकनीक से संभव : राष्ट्रपति

बेकाबू होता ग्लोबल वॉर्मिंग

जलवायु परिवर्तन रोकने में दुनिया नाकाम हो रही है। हर आने वाली रिपोर्ट इसकी पुष्टि करती है। एक ताजा रिपोर्ट के मुताबिक इस सदी के अंत तक धरती का तापमान 3 डिग्री से अधिक बढ़ सकता है।

संरा की चेतावनी, पृथ्वी पर संकट !

जेनेवा। पृथ्वी का तापमान लगातार बढ़ रहा है। पहले भी ऐसी कई रिपोर्ट आ चुकी है जिसमें बताया गया है कि अगर ऐसे ही तापमान बढ़ता रहा तो ध्रुवों पर जमी बर्फ पिघल जाएगी जिससे समुद्र का जलस्तर बढ़ेगा और मुंबई जैसे शहर पानी में समा जाएंगे। इसके साथ ही जलवायु परिवर्तन से मौसम परिवर्तन… Continue reading संरा की चेतावनी, पृथ्वी पर संकट !

बच्चों के लिए बढ़ता खतरा

जलवायु परिवर्तन वैसे तो पूरी दुनिया के लिए खतरा है, मगर यह खासकर बच्चों के स्वास्थ्य के लिए चिंताजनक बन गया है। अगर वैश्विक तापमान को 2 डिग्री सेल्सियस से कम नहीं रखा जाता है, तो यह पूरी पीढ़ी के भविष्य के स्वरूप पर असर डालेगा।