CORONA Arrangements : जिनके पास ऑक्सीजन उनको ही रेमडेसिविर ..इस व्यवस्था पर दिल्ली हाइकोर्ट की केंद्र पर टिप्पणी

देश के नागरिकों का हमेशा से ही न्यायपालिका पर विश्वास रहा है और हो भी क्यों ना..न्यायपालिका ने हमेशा से ही अपना काम बखूबी किया है। तो आज भी इस मुश्किल दौर में भारत की न्यायपालिका इस विश्वास की डोर को मजबूती दे रही है। न्यायपालिका में जहां नरमी दिखाते हुए सरकारों को समझाया है… Continue reading CORONA Arrangements : जिनके पास ऑक्सीजन उनको ही रेमडेसिविर ..इस व्यवस्था पर दिल्ली हाइकोर्ट की केंद्र पर टिप्पणी

राहुल को कमान संभालनी होगी!

अब राहुल गांधी के पास कोई विकल्प  नहीं है। उन्हे नेतृत्व संभालना होगा और दो टूक, लाउड मैसेज (कड़ा संदेश) देना होगा कि कोई नहीं बख्शा जाएगा! कानून कड़ाई से अपना काम करेगा। देश इस समय भारी अनिर्णय के दौर से गुजर रहा है। उसे नहीं मालूम किधर देखना है, किससे उम्मीद करना है। डरा… Continue reading राहुल को कमान संभालनी होगी!

न्यायपालिका क्यों है निशाने पर?

भारत की सर्वोच्च न्यायपालिका के चार जजों की साझा प्रेस कांफ्रेंस के बाद न्यायपालिका पर संभवतः सबसे बड़ा हमला हुआ है। आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी ने सुप्रीम कोर्ट के दूसरे सबसे वरिष्ठ जज के ऊपर आरोप लगाया है कि वे उनकी सरकार गिराने की साजिश में शामिल हैं।

पांच-छह लोगों की लॉबी न्यायपालिका के लिए खतरा

राज्यसभा सदस्य के तौर पर मनोनयन स्वीकार करने के बाद से आलोचनाओं का सामना कर रहे पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने कहा है कि पांच-छह लोगों की एक लॉबी के शिकंजे की वजह से न्यायपालिका खतरे में है।

न्यायपालिका को कमजोर करने की कोशिश दुर्भाग्यपूर्ण: गहलोत

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने केन्द्र सरकार पर न्यायपालिका को कमजोर करने का आरोप लगाते हुए कहा है कि दिल्ली उच्च न्यायालय के न्यायाधीश एस मुरलीधर का स्थानांतरण

लैंगिक समानता के लिए उपाय करना जरूरी : सीजेआई

भारत के मुख्य न्यायाधीश् (सीजेआई) शरद अरविंद बोबडे ने आज कहा कि न्यायपालिका संवैधानिक मूल्यों की संरक्षक है और कानून के शासन की प्रतिबद्धता के साथ जनवादी ताकतों की सेवा करती है।

सुप्रीम कोर्ट ने संवैधानिक ढांचे को किया मजबूत: कोविंद

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देश में न्यायपालिका की प्रगतिवादी सोच की भूरि-भूरि प्रशंसा करते हुए आज कहा कि उच्चतम न्यायालय के ऐतिहासिक फैसलों ने देश के कानूनी और संवैधानिक ढांचे को मजबूती प्रदान की है।

संविधान के तीनों स्तंभों ने देश को रास्ता दिखाया : मोदी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज कहा कि तमाम चुनौतियों के बीच संविधान के तीनों स्तम्भों – न्यायपालिका, विधायिका और कार्यपालिका- ने संतुलन कायम रखते हुए देश को उचित रास्ता दिखाया है।