तीन महीने में कराएंगे जाति जनगणना

भारतीय जनता पार्टी छोड़ने वाले पिछड़ी जाति के नेताओं को पार्टी में शामिल कराने के बाद समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ऐलान किया

बिहार में जातीय जनगणना पर घमासान

बिहार में जातीय जनगणना को लेकर राजनीति तेज हो गई है। जहां एक ओर नीतीश कुमार जातीय जनगणना करवाने पर अडिग है तो भाजपा असमजंस की स्थिति में है। 

भाजपा को जातीय जनगणना की भी चिंता है

वैसे तो केंद्र सरकार और भारतीय जनता पार्टी दोनों की ओर से कहा जा चुका है कि जनगणना में जातियों की गिनती नहीं होगी।

जातीय जनगणना कराने की होड़ लगेगी

बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जातीय जनगणना कराने का ऐलान कर दिया है। उन्होंने कहा है कि इसका सारा खर्च राज्य सरकार उठाएगी और हर पहलू का ध्यान रखते हुए जातियों की गिनती कराई जाएगी।

बिहार सरकार कराएगी जातीय जनगणना

बिहार की नीतीश कुमार सरकार ने बड़ा फैसला किया है। राज्य सरकार ने जातीय जनगणना कराने का फैसला किया है और कहा है कि अपने खर्च से वह जातियों की गिनती कराएगी।

ओबीसी छात्र संघ ने सरकार से जाति जनगणना कराने, पीएम मोदी को 1 लाख पोस्टकार्ड भेजने का किया आग्रह

ओबीसी श्रेणी से संबंधित लोगों की सामाजिक, शैक्षिक और आर्थिक स्थिति के उत्थान के लिए विश्वसनीय डेटा की आवश्यकता है।

विशेष दर्जे की मांग पर नीतीश की चुप्पी

जातियों की गिनती के बाद अब बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने का मुद्दा भी उठने लगा है।

जाति जनगणना पर भाजपा क्या करे

भारतीय जनता पार्टी को ऐसा लग रहा है कि जाति जनगणना पर पार्टी की लाइन तय करने में मुश्किल हो रही है। उसकी केंद्र सरकार और राज्यों की सरकारों की लाइन तय है।

तेजस्वी चाहते है मंडल मसीहा बनना

लालू प्रसाद ने बिहार का मुख्यमंत्री बनने के बाद 1990 में कहा था कि वे 20 साल तक राज करेंगे। उन्होंने मंडल की राजनीति के दम पर 20 साल तक बिहार और केंद्र में राज भी किया।

केंद्र से जाति आधारित जनगणना की मांग

सोरेन के नेतृत्व में सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल की शाह से मुलाकात, जाति आधारित जनगणना की मांग

राजनीति में जाति ही अंतिम सत्य है

धर्म बदल लेने वालों ने भी कभी जाति नहीं बदली, जिस धर्म में गए वहां अपनी जाति लेते गए। सो, भारत में जाति परम सत्य है। और अगर राजनीति की बात हो तो वहां जाति के आगे कुछ नहीं है।

बेचारे बिहार के सीएम और नेता विपक्ष!

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिले। उनके साथ बिहार के नेताओं का एक सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल भी था।

पीएम-नीतीश की मुलाकात पर परदा क्यों?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और पक्ष-विपक्ष के नेताओं का प्रतिनिधिमंडल मिला तो उस बारे में केंद्र सरकार की ओर से कोई ब्योरा क्यों नहीं जारी किया गया

नीतीश-तेजस्वी की केमिस्ट्री असली चीज है

बिहार में इसी बात की ज्यादा चर्चा है कि दोनों के बीच सद्भाव दिखा और मुख्यमंत्री ने तेजस्वी की तारीफ करते हुए कहा कि सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल लेकर प्रधानमंत्री से मिलने का आइडिया उनका था।

अतीत गौरव में कैद

कोई राजनीति एक विकासक्रम के साथ आगे बढ़ती है। अगर नेतृत्व इसे समझते हुए अपने एजेंडे को विकसित नहीं करता, तो वो सियासत गतिरुद्ध हो जाती है।

और लोड करें