‘मां’ और मन्नत

मेरा अपनी जिया (मां) से अनुभव है कि मां ताउम्र भगवानजी से प्रार्थना करते हुए जिंदगी…

पिता की स्मृति में एक पिता

जिंदगी को लिखना कहानी के आधे-अधूरेपन में भटकना है! कहानी का जन्म और उसकी परवरिश माता-पिता…

‘न्यू इंडिया’ में देखिए जानवर (लोग)

आप यदि इंसान हैं व मानवीय चेतना लिए हुए हैं तो क्या आप भारत का जानवर…

बीमार घर जैसे हो आर्थिकी की चिंता

लॉकडाउन के साठ दिन-4:  भारत सरकार, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी-वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की बुद्धि पर जरा…

पैसा छाप बांटें तब भी भय नहीं छंटेगा!

भारत यदि वैक्सीन आने तक (मतलब अगली जून तक) भय और शारीरिक दूरी में रहता है…

वायरस का असली रूप जून से

जून का अर्थ है मॉनसून। और मॉनसून पर यदि मुंबई-पुणे की पट्टी के दायरे में सोचें…

क्या हर्ड इम्युनिटी पर काम हो रहा?

भारत सरकार कोरोना वायरस से निपटने के लिए क्या हर्ड इम्युनिटी यानी सामूहिक रोगप्रतिरोधक क्षमता के…

केरल के मॉडल, पढ़े-लिखों को सलाम!

छह साल पहले देश में लोकसभा का चुनाव गुजरात मॉडल पर लड़ा गया था। लोग चाह…

पूरे देश में है कोरोना का फुटप्रिंट

भारत में अप्रैल के आखिरी हफ्ते तक माना जाने लगा था कि हमने वायरस पर काबू…

सुनो डब्ल्यूएचओ को

ऐसा फरवरी -मार्च में भी समझ आना था और अब भी संभलने का वक्त है। तब…

वेंटिलेटर पर फड़फड़ाती आर्थिकी!

आप भी सोचें, क्या आप अपने आपको ‘नॉर्मल’ पाते हैं? दिल व दिमाग चिंता और भय…

बचपन था बहुत छोटा!

सिर्फ दस-बारह साल का। छप्पन में जन्म, 62 में पिता के चुनाव लड़ने और भारत-पाकिस्तान की…